बच्ची के शरीर में कोई जगह नहीं बची जहां टांके न लगे हों, हैवानों से कैसे बचें बेटियां?

मैं जान-बूझकर दिल्ली में दुष्कर्म की शिकार हुई उस बच्ची के बारे में विस्तार से आपको बता रहा हूं ताकि आप भी सिहरें और सोचें कि हम कैसे समाज में रहते हैं.

6 साल की मासूम गुड़िया जैसी वो बेटी अपने मां -बाप के साथ सो रही थी. आधी रात को एक दरिंदे ने उसे नींद में ही उठा लिया और थोड़ी दूर ले जाकर उसके साथ वो सब किया जिसे सुनकर किसी के भी होश उड़ जाएंगे. दुष्कर्म के बाद उस रोती बिलखती बच्ची को उस हैवान ने जान से मारने की कोशिश भी की. या यूं कहें कि करीब करीब मार ही डाला था तभी खून से लथपथ उस बच्ची को उस दरिंदे के चंगुल से किसी तरह जिंदा बचाया गया.

कुछ मिनट और देर होती तो बलात्कारी मार मारकर उसकी जान ले चुका होता. अब वो बच्ची दिल्ली के एक अस्पताल में है. दो बार उसका ऑपरेशन हो चुका है. जख्म इतने गहरे हैं कि वो अब भी दर्द से कराह रही है. आंख, कान और माथे पर इतने टांके लगे हैं कि उसे देखने वाला पत्थर दिल इंसान भी एक बार सिहर जाए.

मैं जान-बूझकर दिल्ली में दुष्कर्म की शिकार हुई उस बच्ची के बारे में विस्तार से आपको बता रहा हूं ताकि आप भी सिहरें और सोचें कि हम कैसे समाज में रहते हैं. आप सोचिए कि हमारे आस-पास कैसे-कैसे लोग रहते हैं. इंसानों के भेष में कैसे-कैसे हैवान रहते हैं. दिल्ली की ये अकेली घटना नहीं है. बच्चियों से बलात्कार और दरिंदगी की ऐसी घटनाएं हर रोज देश के अलग अलग हिस्सों में घटती हैं.

दो साल, तीन साल, चार साल या पांच साल की बेटियों को भी शिकार बनाने वाले दरिंदे न जाने किस मिट्टी के बने होते हैं कि उन्हें कोई फर्क ही पड़ता. तो सवाल यही कि ऐसे शैतानों से कैसे बचे बेटियां? दरिदों को क्यों नहीं होता कानून का डर? समाज और सिस्टम क्या करे कि बच्चियों को ऐसी दरिंदगी से बचाया जा सके?

जनकपुरी की शर्मनाक घटना

तीन दिन पहले जनकपुरी में एक 6 साल की बच्ची अपने परिवार के साथ फुटपाथ पर सो रही थी. उसी वक्त रात के अंधेरे में एक दरिंदे ने बच्ची को उठा लिया और कुछ दूर ले जाकर उससे बलात्कार किया और पटक-पटककर जान से मारने की कोशिश की. बच्ची के मां-बाप की नींद खुली और वे उसे खोजते हुए दरिंदे के पास पहुंचे और बच्ची को बचा लिया. अब वो बच्ची जिंदगी और मौत के बीच झूल रही है. पुलिस ने बेगूसराय के उस रिक्शा चालक दरिंदे को गिरफ्तार कर लिया है.

ये भी पढ़ें:

भोपाल: चॉकलेट लेने गए तीन साल के मासूम का दो दिन बाद जला शव बरामद

नहीं थम रहा अवैध भ्रूण परीक्षण, भगवान की तस्वीरों के जरिये डॉक्टर बताते हैं बेटा होगा या बेटी

अधेड़ ने लड़की से डोंगरी हादसे की न्यूज देखने के बहाने से मांगा मोबाइल, ढूंढने लगा Porn