योगी आदित्यनाथ ने सोनभद्र की घटना के लिए 1955 की कांग्रेस सरकार को बताया जिम्मेदार

सोनभद्र में 90 बीघे जमीन पर कब्जा करने के लिए 10 लोगों को मौत के घाट उतार दिया गया था. सीएम योगी ने इस घटना पर प्रेस कॉन्फ्रेंस की.

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने लखनऊ में एक प्रेस कॉन्फ्रेंस को संबोधित किया. सोनभद्र में हुई नरसंहार की घटना पर दुख जताते हुए कहा कि ये घटना दुर्भाग्यपूर्ण है. सभी दोषियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी.

90 बीघे जमीन पर कब्जा करने के लिए 10 लोगों को मौत के घाट उतार दिया गया था. सीएम योगी ने इस घटना के लिए सीधे कांग्रेस को जिम्मेदार ठहराया. कहा कि 1955 में जब कांग्रेस की सरकार थी, तभी इस घटना की नींव पड़ गई थी. सोनभद्र में हुए जमीन विवाद के लिए 1955 और 1989 में रही कांग्रेस सरकार जिम्मेदार हैं.

योगी ने बताया कि ग्राम पंचायत की जमीन को 1955 में आदर्श सोसाइटी के नाम पर दर्ज किया गया था. इस जमीन पर वनवासी लोग खेती करते थे. 1989 में इस जमीन को किसी अन्य व्यक्ति के नाम पर कर दिया गया. पीड़ित पक्ष इस जमीन पर खेती कर रहा था और आरोपी प्रधान को कुछ पैसे दे रहा था. प्रधान द्वारा मामले में वाद दायर करने के बाद पीड़ितों ने पैसे देना बंद कर दिया.

योगी आदित्यनाथ ने कहा कि मैंने डीजीपी को निर्देश दिया है कि वो इस मामले की निगरानी व्यक्तिगत रूप से करें. उन्होंने स्वीकार किया कि अफसरों ने इस मामले में लापरवाही से काम लिया है. लापरवाही के चलते सीओ, एसडीएम, इंस्पेक्टर को सस्पेंड कर दिया गया है. वाराणसी जोन के एडीजी 10 दिन में जांच करके रिपोर्ट देंगे.

ये भी पढ़ें:

उम्रकैद की सज़ा काट रहे ‘डोसा किंग’ की हार्ट अटैक से मौत, कर्मचारी की पत्नी से शादी के लिए की थी हत्या

रेप करके सऊदी भाग गया था आरोपी, केरल की IPS ने पकड़ा और ले आई वापस

पैसे उठाने के लिए जैसे ही झुकी गर्भवती बेटी, पिता ने रेत दिया गला, लव मैरिज से था नाराज