लखनऊ में हिंदू नेता की सरेआम हत्या पर सीएम योगी आदित्यनाथ की चुप्पी, एसटीएफ भी करेगी जांच

मृतक की पत्नी कालिंदी ने कहा कि एक विशेष मजहब के लोगों ने रणजीत को मरवा दिया है. उन्होंने पीएम मोदी और सीएम योगी को लेकर कहा कि वह हिंदुओं को कैसे बचाएंगे. वहीं रणजीत के साले मनोज शर्मा ने योगी सरकार पर सुरक्षा नहीं देने का आरोप लगाया.
murder of a Hindu leader in Lucknow, लखनऊ में हिंदू नेता की सरेआम हत्या पर सीएम योगी आदित्यनाथ की चुप्पी, एसटीएफ भी करेगी जांच

लखनऊ में दिनदहाड़े हिंदू नेता रणजीत बच्चन की गोली मार कर हत्या पर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने चुप्पी साधे रखी है. दिल्ली विधानसभा चुनाव में अपनी पार्टी बीजेपी के उम्मीदवारों के प्रचार के लिए आए हुए सीएम योगी ने रविवार को हत्याकांड से जुड़े सवालों को नजरअंदाज कर दिया.

दूसरी ओर मृतक की पत्नी कालिंदी ने कहा कि एक विशेष मजहब के लोगों ने रणजीत को मरवा दिया है. उन्होंने पीएम मोदी और सीएम योगी को लेकर कहा कि वह हिंदुओं को कैसे बचाएंगे. वहीं रणजीत के साले मनोज शर्मा ने योगी सरकार पर सुरक्षा नहीं देने का आरोप लगाया. उन्होंने कहा कि रणजीत ने सुरक्षा की गुहार लगाई थी. इसपर कोई सुनवाई नहीं हो सकी.

वहीं कुछ महीने पहले लखनऊ में ही मारे गए हिंदुवादी नेता कमलेश तिवारी की पार्टी के प्रवक्ता शिशिर ने कहा कि पुलिस पर दबाव बनाया जाना सही नहीं होगा. नहीं तो किसी निर्दोष को पकड़ कर दोषी बना दिया जाएगा. उन्होंने कहा कि शहर में सीएए और एनआरसी के विरोध में प्रदर्शन हो रहा है. साथ ही धारा 144 भी लगाई गई है. काफी लोग जमा हैं. इसलिए कुछ भी कहना जल्दबाजी होगी.

एसटीएफ भी करेगी रणजीत हत्याकांड जांच

दूसरी ओर विश्व हिंदू महासभा के अध्यक्ष रणजीत हत्याकांड की जांच अब स्पेशल टास्क फोर्स भी करेगी. इसके लिए डिप्टी एसपी एसटीएफ के नेतृत्व में भी एक टीम का गठन किया गया है. हजरतगंज पुलिस ने मार्निंग वॉक के दौरान मारे गए रणजीत के करीबी आशीष पटेल और उसकी पत्नी को भी पूछताछ के लिए हिरासत में लिया गया है. वहीं होशियार बिल्डिंग पर हिन्दू सभा के कार्यकर्ताओं की भीड़ इकट्ठा हो रही है. वहां कार्यकर्ता इकट्ठा होकर प्रदर्शन करने की तैयारी कर रहे हैं.

घरेलू विवाद की बात भी आ रही है सामने

पुलिस की शुरुआती जांच के मुताबिक रणजीत बच्चन ने दो शादी की थी. कालिंदी उनकी दूसरी पत्नी हैं. पहली पत्नी सरकारी कर्मचारी हैं, जो बापू भवन में काम करती हैं. रंजीत ने पहली पत्नी के रहते हुए दूसरी शादी कर ली थी. ऐसे में पहली पत्नी ने गोरखपुर में एफआईआर दर्ज कराई है. सुबह रंजीत और उसकी पत्नी कालिंदी मॉर्निंग वॉक पर निकले थे. दोनों अलग-अलग रास्तों पर गए. पैदल शॉल ओढ़े हुए व्यक्ति ने रंजीत से मोबाइल मांगा और उसके बाद गोली मारकर फरार हो गया. बाइक वाली बात सही नहीं है.

साली ने लगाया था छेड़छाड़ का आरोप

रणजीत बच्चन के खिलाफ उसकी साली ने 2017 में गोरखपुर के शाहगंज थाने में छेड़छाड़ की एफआईआर दर्ज कराई थी. रणजीत की पत्नी कालिंदी की बहन की एफआईआर में जांच के दौरान छेड़छाड़ के बाद रेप की धारा भी बढ़ाई गई थी. वहीं रणजीत की दूसरी पत्नी स्मृति भी गोरखपुर में ही रहती हैं. दो दिन पहले वह स्मृति से मिलने गए थे. इस मुलाकात को लेकर रणजीत और कालिंदी में तनाव था.

ये भी पढ़ें –

हिंदू नेता रणजीत की हत्या के बाद लखनऊ में हंगामा, चक्रपाणि बोले- सीएम योगी को चैलेंज है यह हमला

लखनऊ हिंदू नेता मर्डर : एडिशनल कमिश्नर बोले- पुलिस की 8 टीमें कर रही जांच, जल्द पकड़े जाएंगे हत्यारे

लखनऊ में सरेआम हिंदू नेता रणजीत बच्चन की गोली मार कर हत्या, 4 पुलिसकर्मी सस्पेंड

Related Posts