दिल्ली: सीनियर डिप्लोमेट का ई-मेल किया हैक और दे डाला लाखों की ठगी को अंजाम

पुलिस के मुताबिक ठगी में महारत हासिल करने वाले यह शख्स ई-मेल अकाउंट हैक करने के बाद लोगों को तरह-तरह के झूठे मेल भेजकर उनसे आर्थिक मदद मांगता था और अलग-अलग बैंक अकाउंट में पैसे मंगाता था.
Delhi Email of senior diplomat hacked, दिल्ली: सीनियर डिप्लोमेट का ई-मेल किया हैक और दे डाला लाखों की ठगी को अंजाम

दिल्ली पुलिस (Delhi Police) की साउथ डिस्ट्रिक्ट साइबर सेल (Cyber Cell) ने एक ऐसे ठग को गिरफ्तार किया है, जिसने न सिर्फ एक सीनियर डिप्लोमेट (Senior Diplomate) का ईमेल अकाउंट हैक किया बल्कि हैक करने के बाद उसके कॉन्टैक्ट लिस्ट में जुड़े लोगों को ई-मेल भेजकर एक लाख 40 हजार रुपए से ज्यादा की ठगी को अंजाम दे डाला.

देखिये फिक्र आपकी सोमवार से शुक्रवार टीवी 9 भारतवर्ष पर हर रात 9 बजे

पुलिस के मुताबिक ठगी में महारत हासिल करने वाले यह शख्स ईमेल अकाउंट हैक करने के बाद लोगों को तरह-तरह के झूठे ई-मेल भेजकर उनसे आर्थिक मदद मांगता था और अलग-अलग बैंक अकाउंट में पैसे ट्रांसफर करवाता था.

कैसे हुआ खुलासा?

दरअसल पुलिस को एक सीनियर डिपोलोमेट से शिकायत मिली थी कि उनका ई-मेल अकाउंट हैक कर लिया गया है. किसी ने उनके ईमेल अकाउंट हैक करके उनके ई-मेल अकाउंट से उनके कॉन्टैक्ट लिस्ट में शुमार कई लोगों को मेल भेजी है और उनसे आर्थिक मदद मांगी है, जिसके चलते कुछ लोगों ने उस मेल पर विश्वास करके उसके बताए हुए बैंक अकाउंट में पैसे भी जमा करवा दिए और जब लोगों ने डिप्लोमेट को इस बात की जानकारी दी, तो उन्होंने इस तरह के मेल की जानकारी होने से साफ मना कर दिया और पुलिस को मामले की जानकारी दी, जिसके बाद पुलिस मामले दर्ज कर डिस्ट्रिक्ट के साइबर सेल को जांच सौंप दी.

फर्जी पतों पर खुलवाए सभी बैंक अकाउंट

पुलिस ने पहले बैंक अकाउंट की डिटेल निकलवाई, जिससे पता चला कि जिस पते पर वह बैंक अकाउंट खुलवाया गया है. वहां पर ऐसा कोई व्यक्ति नहीं रहता है. पुलिस ने बैंक अकाउंट की डिटेल खंगालना शुरू किया. मोबाइल नंबर भी सामने आए, जिनमें से एक मोबाइल नंबर काफी मददगार साबित हुआ. पुलिस ने उससे एक व्यक्ति को चिन्हित किया और उसे पकड़ लिया, जिसकी पहचान शाहीन बाग निवासी अकरम के रूप में कई गई.

Delhi Email of senior diplomat hacked, दिल्ली: सीनियर डिप्लोमेट का ई-मेल किया हैक और दे डाला लाखों की ठगी को अंजाम

मास्टरमाइंड अब भी फरार

पुलिस की पूछताछ में अकरम ने बताया कि वह इस काम में अकेला नहीं है. उसके साथ अनीस नाम का एक और शख्स है, जो इस पूरे गोरखधंधे का मास्टरमाइंड है. अनीस ही हैकिंग करने और फिर तरह-तरह से ई-मेल भेजकर ठगने में अहम भूमिका निभाता है.

अकरम का काम है फर्जी नाम पते पर बैंक अकाउंट खुलवाना और फिर अकाउंट में आई रकम को निकालकर अनीस तक पहुंचाना. ये लोग किसी भी ई-मेल आईडी को हैक करते थे और फिर ई-मेल अकाउंट के कांटेक्ट लिस्ट में जितने भी ईमेल आईडी होते थे, उन पर तरह-तरह के मेल भेजते.

तरह-तरह के मेल भेज कर ठगते थे पैसे

जैसे कभी इनकम टैक्स डिपार्टमेंट की तरफ से, कभी किसी मंत्रालय की तरफ से, तो कभी जिस व्यक्ति का इमेल अकाउंट होता था उसकी तरफ से, कभी मेल के माध्यम से लोगों को धमकाया जाता था. कभी किसी गिफ्ट का प्रलोभन दिया जाता तो कभी खुद को आर्थिक संकट में फंसा हुआ बता कर आर्थिक मदद मांगी जाती थी. इसकी एवज में अकरम को कुल रकम में से 10 से 20 प्रतिशत के बीच मिल जाता था. अभी पुलिस को अनीस की तलाश है.

किराएदारों के बैंक अकाउंट में भी मंगाया जाता था पैसा

पुलिस के मुताबिक गिरफ्तार किए गए ठग ने अपने किरायेदारों और अपने यहां किराये पर रहने वाले लोगों की पहचान पर अलग-अलग बैंकों में कई बैंक खाते खुलवाए हुए थे. उन्हीं के अकाउंट में ठगी की रकम मंगवाई जाती थी, ऐसा इसलिए किया जाता था ताकि पुलिस इन तक पहुंच न पाए.

विदेशी हैकर भी हैं इसमें शामिल

पुलिस का कहना है कि यह शख्स अब तक करोडों की ठगी कर चुका है. पुलिस का दावा है कि इस ठग के साथ कुछ विदेशी हैकर भी मिले हुए हैं. इन लोगों ने कानपुर के एक व्यापारी से भी 70 लाख रुपए की ठगी की थी.

पुलिस के मुताबिक अकरम 10वीं पास है और पहले हकीम का काम करता था. अनीस के संपर्क में आने के बाद ये अनीस के साथ ठगी करने लगा. बहरहाल पुलिस अब इस मामले में आरोपी अकरम के अन्य साथियों की तलाश में जुटी हुई है.

देखिये परवाह देश की सोमवार से शुक्रवार टीवी 9 भारतवर्ष पर हर रात 10 बजे

Related Posts