दिल्ली: क्राइम ब्रांच ने किया दाऊद इब्राहिम के शागिर्द को गिरफ्तार, जब्त की 22 लाख की पिस्तौल

दिल्ली पुलिस (Delhi Police) के मुताबिक अनवर पर कई संगीन मामले दर्ज हैं. उसने 1992 में सदर बाजार पुलिस स्टेशन के अंदर घुसकर पुलिस के एक मुखबिर की गोली मारकर हत्या कर दी थी. जिसके बाद कोर्ट ने अनवर ठाकुर को उम्र कैद की सज़ा सुनाई थी.

दिल्ली पुलिस (Delhi Police) की क्राइम ब्रांच ने दाऊद इब्राहिम के शागिर्द अनवर ठाकुर को गिरफ्तार किया है. उसके पास से पुलिस ने 22 लाख की एक विदेशी सेमी ऑटोमैटिक पिस्टल समेत 10 जिंदा कारतूस भी बरामद किए हैं. पुलिस के मुताबिक अनवर हत्या के मामले में उम्र कैद की सज़ा काट रहा था, लेकिन पैरोल (Parole) पर बाहर आने के बाद से वह फरार चल रहा था.

देखिए NewsTop9 टीवी 9 भारतवर्ष पर रोज सुबह शाम 7 बजे

पुलिस के मुताबिक 10 जुलाई को उन्हें हत्या के मामले में उम्र कैद की सज़ा पा चुके एक अपराधी के बारे में सूचना मिली थी. उन्हें पता चला कि यह अपराधी पैरोल मिलने के बाद से फरार चल रहा है और वो नार्थ ईस्ट डिस्ट्रिक्ट में चल रहे गैंगवार में खत्म हो रहे छेनू गैंग को दोबारा खड़ा करने की कोशिश में लगा हुआ है. इसी सूचना के आधार पर पुलिस ने रेड डालकर चांद बाग इलाके से अनवर को गिरफ्तार कर लिया. पुलिस के मुताबिक अनवर मूल रूप से मेरठ का रहने वाला है, लेकिन फिलहाल वह दिल्ली के पांडव नगर इलाके में रह रहा था.

अनवर पर कई संगीन मामले दर्ज हैं

दिल्ली पुलिस के मुताबिक अनवर पर कई संगीन मामले दर्ज हैं. उसने साल 1992 में सदर बाजार पुलिस स्टेशन के अंदर घुसकर पुलिस के एक मुखबिर की गोली मारकर हत्या कर दी थी. जिसके बाद कोर्ट ने अनवर ठाकुर को उम्र कैद की सज़ा सुनाई थी. सज़ा काटने के दौरान पैरोल पर जेल से बाहर आने के बाद से वो फरार चल रहा था. पुलिस के अनुसार कई संगीन मामलों में शामिल अनवर के छह भाई और चार बहनें हैं. अनवर ठाकुर और उसका छोटा भाई अशरफ अंडरवर्ड डॉन दाऊद इब्राहिम के लिए काम करते थे.

छेनू गैंग को दोबारा खड़ा करने की कोशिश में लगा हुआ था अनवर 

साल 2002 में मुंबई पुलिस ने अनवर के भाई अशरफ को एनकाउंटर में मार गिराया था. पुलिस के मुताबिक अनवर ना सिर्फ दाऊद का शागिर्द था, बल्कि उसके संबंध फजलू रहमान और बबलू श्रीवास्तव जैसे कई और गैंगस्टरों से भी थे. अनवर ठाकुर तिहाड़ जेल में बंद छेनू पहलवान का सहयोगी है, जिसका छेनू गैंग के नाम से एक गैंग है.

छेनू के जेल में बंद होने की वजह से उसका गैंग कमजोर पड़ रहा था, और अनवर उसे एक बार फिर खड़ा करने की कोशिश में लगा हुआ था. 10 तारीख को पुलिस को सूचना मिली थी कि वो गैंग के ही किसी काम से चांद बाग आने वाला है जिसके बाद क्राइम ब्रांच ने उसे वहां से गिरफ्तार कर लिया.

देखिये #अड़ी सोमवार से शुक्रवार टीवी 9 भारतवर्ष पर शाम 6 बजे

Related Posts