सिर में 3 और गर्दन में एक गोली लगी, फिर भी 28 किलोमीटर कार चलाकर अस्पताल पहुंची महिला

गोली मारने के बाद आरोपी लड़का फरार हो गया. घायल बुआ सुमीत कौर ने गोलियां लगने के बावजूद मां सुखजिंदर को उठाया और कार चलाकर 28 किलोमीटर दूर अस्पताल गईं.

पंजाब में जमीन के झगड़े में एक लड़के ने बुधवार को अपनी दादी और बुआ पर पिस्टल से 6 फायर किए. 3 गोलियां बुआ के सिर में लगीं, एक जबड़े में. दो गोलियां दादी के पैरों में लगीं. गोली मारने के बाद आरोपी लड़का फरार हो गया. घायल बुआ सुमीत कौर ने गोलियां लगने के बावजूद मां सुखजिंदर को उठाया और कार चलाकर 28 किलोमीटर दूर अस्पताल गईं.

42 वर्षीय सुमीत और 75 वर्षीय सुखजिंदर को लगी गोलियां डॉक्टरों ने निकाल दी हैं और दोनों की हालत खतरे से बाहर बताई जा रही है. सुमीत के सिर में 3 और जबड़े से घुसकर एक गोली गले में फंसी थी फिर भी वे होश में थीं. ये बहादुरी देखकर डॉक्टर भी हैरान रह गए.

मुक्तसर के सम्मेलनी गांव की ये घटना है. सुमीत कौर के मुताबिक कंवरप्रीत अपने पिता हरिंदर सिंह के साथ मुक्तसर की अबोहर रोड गली नंबर 7 में रहता है. तलाकशुदा सुमीत अपनी मां के साथ गांव में रहती हैं और पुरखों की जायदाद को लेकर झगड़ा चल रहा है. मां के पास 40 एकड़ पुश्तैनी जमीन है जिसमें से कुछ सुमीत के पास है. भतीजा कंवरप्रीत सिंह उस जमीन पर कब्जा करना चाहता है.

कंवरप्रीत हमेशा की तरह मंगलवार शाम मिलने घर आया और दादी के पास रुक गया. सुमीत कौर बताती हैं कि बुधवार सुबह कंवरप्रीत ने दादी से कहा कि मुझे ट्यूशन पढ़ने जाना है, चाय बना दो. मां चाय बनाने गई तो कंवरप्रीत ने कार से पिस्टल निकालकर मुझ पर गोली चला दी. शोर सुनकर मां बाहर आई तो उस पर भी फायरिंग कर दी.

गोली लगने के बाद सुमीत कौर खुद कार चलाकर अस्पताल गई. पुलिस ने भतीजे कंवरप्रीत सिंह के खिलाफ केस दर्ज कर लिया है और उसकी तलाश में लग गई है.

ये भी पढ़ेंः

बिहार : कागज खो गए तो डिप्रेशन में आ गया, मां-बीवी और 3 बेटियों को गला घोंटकर मार डाला

गौरव चंदेल मर्डर केस : पुलिस को मिला मोबाइल, हत्‍यारों ने एक और को बनाया था शिकार

कौन है 50 बम धमाकों का जिम्मेदार ‘डॉक्टर बॉम्ब’, MBBS डिग्री लेकर इलाज करने की बजाय बन गया आतंकी

Related Posts