शादी की पहली सालगिरह पर पति ने पत्‍नी को बुरी तरह पीटा, दरिंदगी में मां भी नहीं रही पीछे

सोशल मीडिया पर एक वीडियो और वायरल हो रहा है, जिसमें उसके ससुराल वालों की क्रूरता साफ देखी जा सकती है. खुशबू के शरीर पर गहरे जख्म के निशान हैं. उसकी आंखों के आंसू थमने का नाम ही नहीं ले रहे हैं, जो कि उसका दर्द बयां कर रहे हैं.

हाल ही में सोशल मीडिया पर एक वीडियो काफी वायरल हुआ, जिसमें एक महिला को उसके पति और सांस द्वारा हाथ-पैर बांधकर बुरी तरह से पीटते हुए दिखाया गया. इस वीडियो में जो पीड़िता दिखाई दी, उसका नाम खुशबू है. खुशबू की इतनी बेरहमी से उस दिन पिटाई की गई, जिस दिन उसकी शादी की पहली सालगिराह थी.

बताया जा रहा है कि खुशबू कि शादी पिछले साल 26 जनवरी को चिरंजी से हुई थी. शादी के बाद से ही खुशबू के ससुराल वाले उसे परेशान कर रहे थे और उसका पति भी उसका साथ नहीं देता था. खुशबू ने पहले भी ससुराल वालों से प्रताड़ित होकर पुलिस थाने में शिकायत दर्ज कराई थी, लेकिन उस समय आपसी-समझौते से मामला सुलझ गया था.

बांधे हाथ-पैर, फिर लगाई मुंह पर टेप

आरोप है कि खुशबू के ससुराल वाले थोड़े दिन ठीक रहे और फिर कुछ दिन बाद उन्होंने फिर से खुशबू को प्रताड़ित करना शुरू कर दिया. हद तो तब हो गई जब 26 जनवरी को शादी की सालगिराह वाले दिन खुशबू की सास और उसके पति ने पहले तो उसके हाथ-पैर बांध दिए. फिर उसके मुंह पर टेप लगा दी, ताकि उसके चिल्लाने की आवाज बाहर तक न जाए. इसके बाद दोनों ने खुशबू को बेरहमी से पीटा.

घटना के अगले दिन खुशबू अपने मायके पहुंची और उसने अपने माता-पिता को आपबीती सुनाई. खुशबू के परिजनों ने औट जिला में उसके ससुराल वालों के खिलाफ शिकायत दर्ज कराई है.

नहीं थम रहे आंखों के आंसू

सोशल मीडिया पर एक वीडियो और वायरल हो रहा है, जिसमें उसके ससुराल वालों की क्रूरता साफ देखी जा सकती है. खुशबू के शरीर पर गहरे जख्म के निशान हैं. उसकी आंखों के आंसू थमने का नाम ही नहीं ले रहे हैं, जो कि उसका दर्द बयां कर रहे हैं.

वहीं मंडी पुलिस ने भी अपने सोशल मीडिया अकाउंट पर इस घटना का जिक्र करते हुए बताया कि आरोपियों के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया गया है और नियमानुसार उनपर कड़ी कार्यवाही की जाएगी. साथ ही कहा गया है कि इस प्रकार का दुर्व्यवहार करने वालों को किसी भी सूरत में छोड़ा नहीं जाएगा.

भारत में घरेंलू हिंसा के मामलों में बढ़ोतरी हुई है. नेशनल फैमिली हेल्थ सर्वे के अनुसार, 30 प्रतिशत महिलाएं अपने पति द्वारा शारीरिक और मानसिक रूप से प्रताड़ित होती हैं.

वहीं नेशनल क्राइम रिकॉर्ड्स ब्यूरो के आंकड़ों पर गौर किया जाए तो साल 2018 में घरेलू हिंसा के एक लाख से भी ज्यादा मामले दर्ज किए गए. यह तो वह मामले हैं जो पुलिस स्टेशन तक जा पहुंचे, जरा सोचिए ऐसे कितने ही मामले होंगे जो कि कभी सामने ही नहीं आ पाते.

ये भी पढ़ें-   8वीं के छात्र ने टीचर को दिए प्रश्नों के उत्तर, साथी छात्रों ने लोहे की पाइप से पीटा

अमरूद खरीदने को लेकर बच्चे की पीट-पीटकर हत्या, FIR दर्ज