बुराड़ी कांड के एक साल बाद हुई घटना, एक ही परिवार के 4 सदस्यों की मौत

मौके से बरामद सुसाइड नोट में लिखा है कि शख्स 'अपने परिवार की परवरिश में अक्षम' था. परिजनों के मुताबिक उसकी मानसिक स्थिति एक साल से ठीक नहीं थी.

गुरुग्राम: हैदराबाद के एक रासायनिक कारखाने में काम करने वाले पीएचडी डिग्रीधारी व्यक्ति ने गुरुग्राम में पत्नी और दो बच्चों की हत्या करने के बाद फांसी लगाकर खुदकुशी कर ली. कहा जा रहा है कि उसकी मानसिक स्थिति एक साल से ठीक नहीं थी.

पुलिस ने यह जानकारी सोमवार को दी. रविवार की रात प्रकाश सिंह (55) ने गुरुग्राम के सेक्टर-49 स्थित अपने घर में पत्नी सोनू सिंह (49), बेटी अदिति (21) और बेटे आदित्य (14) की हत्या करने के बाद खुदकुशी कर ली.

मौके से बरामद सुसाइड नोट में लिखा है कि सिंह ‘अपने परिवार की परवरिश में अक्षम’ था.

पुलिस ने बताया कि सुसाइड नोट की लिखावट सिंह की है या नहीं, इसकी जांच के लिए वह विशेषज्ञों को भेज दिया गया है. सिंह पिछले आठ साल से गुरुग्राम में रह रहा था.

पुलिस के मुताबिक, सिंह की पत्नी एक निजी स्कूल चलाती थी. बेटी अदिति कॉलेज में पढ़ती थी और बेटा आदित्य 10वीं का छात्र था. पुलिस को ये जानकारियां उसके पड़ोसियों से मिलीं.

एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने कहा, “हमने जब घर का दरवाजा तोड़ा तो देखा कि सोनू, अदिति और आदित्य के खून से लथपथ शव पड़े थे. उनकी हत्या किसी तेजधार हथियार और हथौड़े से की गई थी. सिंह का शव छत से लटक रहे फंदे से झूल रहा था.”

घटनास्थल से दो हथियार बरामद किए गए हैं. प्रथम दृष्टया प्रतीत होता है कि सिंह ने अपने परिवार की हत्या उस समय की, जब वे लोग सो रहे थे.

पुलिस सूत्रों ने बताया कि अन्य परिजनों का कहना है कि सिंह की मानसिक स्थित एक साल से ठीक नहीं थी.

यह घटना बुराड़ी सामूहिक आत्महत्या कांड के ठीक एक साल बाद हुई है.