जहां असहाय बच्‍चों की मदद होनी थी, वहां सालों तक ड्रग्‍स देकर होता रहा उनका बलात्‍कार

बच्‍चों के यौन शोषण से जुड़े 90 फीसदी मामले ऐसे होते हैं जहां करीबी ही जिम्‍मेदार होते हैं.

नई दिल्‍ली: बच्‍चों से मिलना राजनेताओं, अभिनेताओं को खूब भाता है. उनके साथ हंसते-खेलती तस्‍वीरें अगले दिन अखबारों में छपती हैं. मगर कैमरा हटते ही जो भयावह तस्‍वीर दुनिया को दिखनी चाहिए, वह अक्‍सर सामने नहीं आ पाती. 2017 में आई एक रिपोर्ट बताती है कि अपने 18वें जन्‍मदिन से पहले हर 10 में एक बच्‍चे का यौन शोषण होता है. थोड़ा और डिटेल में जाएंगे तो बालिग होने से पहले हर 7 में एक लड़की और हर 25 में से एक लड़के के साथ यौन दुर्व्‍यवहार होता है. 90 फीसदी मामले ऐसे होते हैं जहां करीबी ही बच्‍चों का यौन शोषण करते हैं. अधिकतर घटनाएं चहारदीवारी के भीतर होती हैं.

ये आंकड़े डराते हैं. साथ ही एक सवाल भी खड़ा करते हैं कि जहां बच्‍चों को सबसे सुरक्षित महसूस करना चाहिए, वहीं पर उन्‍हें सबसे ज्‍यादा खतरा क्‍यों है? ताजा मामला अमेरिका का है, जहां के बाल-संरक्षण गृह में सालों तक चले यौन शोषण का खुलासा हुआ है. Junior Village नाम की इस जगह पर सैकड़ों बच्‍चे जो मानसिक रूप से ठीक नहीं, रहते आए हैं.

इस जगह नामी हस्तियां पहुंचती रहीं हैं. अमेरिका की प्रथम महिला रहीं जैकलीन केनेडी से लेकर मार्टिन लूथर किंग जूनियर तक. यहां के बच्‍चे कई बार व्‍हाइट हाउस (अमेरिकी राष्‍ट्रपति का आधिकारिक आवास) होकर आए. मगर बच्‍चों पर हो रहे अत्‍याचार की किसी को भनक न लगी. जो बच्‍चे यहां से निकल पाने में सफल रहे और जीवन में कुछ कर सके, उन्‍होंने अब बोलना शुरू किया है.

, जहां असहाय बच्‍चों की मदद होनी थी, वहां सालों तक ड्रग्‍स देकर होता रहा उनका बलात्‍कार
Photo : Vic Casamento/The Washington Post

द वाशिंगटन पोस्‍ट ने उनके बयान छापे हैं, जो दर्शाते हैं कि कैसे पब्लिसिटी के शोर में बच्‍चों की चीखें दबी रह जाती हैं. अब एक यूनिवर्सिटी में प्रोफेसर निक रॉबिनसन 1965 में 9 साल के थे, जब वो यहां आए थे. उन्‍होंने देखा कि बाथरूम के बाहर लड़कों की भीड़ जमा है. जब वो भीड़ को चीरते हुए आगे बढ़े तो देखा कि एक किशोर वहीं के छोटे बच्‍चे को जबरन ओरल सेक्‍स के लिए मजबूर कर रहा था.

जांच में पता चला कि जो बच्‍चे बात नहीं मानते थे, उनको थोराजीन नाम के नशीला पदार्थ की भारी डोज दी जाती थी. ऐसा करने वाले भी वहां के काउंसलर्स होते थे, जो ड्रग्‍स देकर बच्‍चों से रेप करते थे.

, जहां असहाय बच्‍चों की मदद होनी थी, वहां सालों तक ड्रग्‍स देकर होता रहा उनका बलात्‍कार

स्‍टीवन पेनरोड ने TWP को बताया कि वह 8 साल की उम्र में Junior Village गए थे और वहां उन्‍होंने चार साल गुजारे. जहां वो वहां से निकले तो उनका वजह सिर्फ 90 पाउंड था. उन्‍होंने कहा, “मुझे लगातार पीटा जाता था.”

ये भी पढ़ें

“वर्जिनिटी टेस्ट” न कराने पर समाज ने किया था बहिष्कार, इंतहा हुई तो जोड़े ने दर्ज कराई FIR

‘गुलाम हो, मेरे साथ सेक्‍स करना तुम्‍हारी ड्यूटी’, दो दशक तक महिलाओं का यौन शोषण करता रहा ‘गुरु’