बुंदेलखंड में विस्फोटक लगाकर ATM से लाखों की लूट, IAS एस्पिरेंट समेत 6 आरोपी गिरफ्तार

दमोह (Damoh) एसएचओ हेमंत चौहान ने कहा, "बहुत से लोगों के पास टेक्नोलॉजी की अच्छी जानकारी होती है. देवेंद्र पटेल सीविल सर्विस परीक्षा की तैयारी कर रहा था, उसने इंटरनेट से एटीएम (ATM) लूटने की टेक्निक सीखी थी.
Police Arrested IAS Aspirant robbery gang, बुंदेलखंड में विस्फोटक लगाकर ATM से लाखों की लूट, IAS एस्पिरेंट समेत 6 आरोपी गिरफ्तार

मध्य प्रदेश में एटीएम (ATM) से चोरी करने का अनोखा मामला सामने आया है. पुलिस ने रविवार को बुंदेलखंड क्षेत्र में विस्फोटकों की मदद से एटीएम में चोरी करने के आरोप में सिविल सर्विस की तैयारी करने वाले छात्र समेत 6 लोगों को गिरफ्तार कर लिया है. दमोह के एसएचओ (SHO)  हेमंत चौहान ने कहा, इस गैंग के मास्टरमाइंड 28 वर्षीय देवेंद्र पटेल और उसकी गैंग को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है.

देखिये #अड़ी सोमवार से शुक्रवार टीवी 9 भारतवर्ष पर शाम 6 बजे

इससे एक साल पहले भी जून महीने में आरोपियों का गैंग डेटोनेटर की मदद से एटीएम को उड़ाकर कर चोरी कर चुका है. हाल ही में आरोपियों ने पन्ना जिले के सिमरिया क्षेत्र में 19 जुलाई को एटीएम से 23 लाख रुपये की चोरी की है. उन्होंने आगे कहा, देवेंद्र ने एटीएम को लूटने की टेक्निक इंटरनेट से सीखी थी.

इंटरनेट से सीखा था ATM लूटने का तरीका

चौहान ने कहा, “बहुत से लोगों के पास टेक्नोलॉजी की अच्छी जानकारी होती है. देवेंद्र पटेल सीविल सर्विस परीक्षा की तैयारी कर रहा था, उसने इंटरनेट से एटीएम लूटने की टेक्निक सीखी थी. ये आरोपी दो बाइकों पर मुंह पर कपड़ा बांधकर आते थे. दो लोग एटीएम गार्ड को धमकाने का काम करते और कैमरे पर ब्लैक कलर का स्प्रे डालते. इसके बाद दो लोग डेटोनेटर (Detonator) को बाइक की बैटरी से जोड़ते और दो लोग पैसा इक्टठ्ठा करते थे. इन लोगो को ये काम करने में सिर्फ 14 मिनट का समय लगता था.”

 दुकाने में लगे CCTV से गिरोह का भंडाफोड़

पन्ना जिले में चोरी के घटना के दौरान एटीएम के साथ वाली शॉप में सीसीटीवी लगा हुआ था. जिसके कारण इस गिरोह का भंडाफोड़ हुआ है. उन्होंने आगे कहा, “पन्ना जिले में घटना को अंजाम देने के बाद आरोपियों ने हमेशा की तरह वहीं तरीका अपनाया और एटीएम के बगल वाली दुकान में लगे सीसीटीवी पर ध्यान नहीं दिया. पुलिस को सीसीटीवी से कुछ अहम सुराग मिले और उन्हें उनके पैतृक गांव से गिरफ्तार कर लिया गया.”

दमोह जिले के हैं सभी आरोपी 

गैंग के अन्य पांच सदस्यों की पहचान दमोह (Damoh) जिले के जगेश्वर पटेल, जयराम पटेल, राकेश पटेल और परम लोधी के रूप में की गई है. पुलिस ने आरोपियों के घर से 25 लाख रुपये कैस, दो देशी पिस्टल, 8 जिंदा कारतूस, डेटोनेटर और 3 लाख रुपये के नकली नोट और कलर्ड प्रिंटर बरामद किया है.

एसीपी ने कहा कि पुलिस गैंग के सदस्यों से पूछताछ कर रही है कि क्या वो किसी अन्य अपराध में तो शामिल नहीं हैं? क्योंकि देवेंद्र पटेल के घर से 500 रुपये के नकली नोट भी बरामद किए गए हैं.

Related Posts