केरल में तीन तलाक मामले को लेकर पहली गिरफ्तारी

इससे पहले राजधानी दिल्ली में तीन तलाक कानून के तहत पहली गिरफ्तारी हुई थी जब रायमा याहिया नाम की महिला को पति ने वाट्सएप मैसेज भेजकर तीन तलाक दे दिया था.

देशभर में तीन तलाक कानून लागू होने के बावजूद कुछ लोग ये कानून तोड़ने से बाज नहीं आ रहे हैं. हाल ही में केरल के कोझिकोड में एक 34 वर्षीय शख्स ने अपनी पत्नी को तीन तलाक कहकर छोड़ दिया. पुलिस ने इस कथित मामले में ईके उस्मान नाम के व्यक्ति को गिरफ्तार किया है.

हालांकि उसे कोर्ट में पेश किए जाने के बाद जमानत पर रिहा कर दिया गया है. तीन तलाक कानून पास होने के बाद केरल में कानून तोड़े जाने का ये पहला मामला है.

ये पहला मामला नहीं है जब ट्रिपल तलाक कानून तोड़ा गया हो, इससे पहले राजधानी दिल्ली में तीन तलाक कानून के तहत पहली गिरफ्तारी हुई थी. रायमा याहिया नाम की 29 वर्षीय महिला को उसके पति ने वाट्सएप मैसेज भेजकर तीन तलाक दे दिया. कमला नगर में फ्लोरिंग का व्यपार करने वाला आकिब शमीम की शादी 2011 में वजीराबाद की रहने वाली राइमा से हुई थी.

वहीं, उत्तर प्रदेश के बरेली जिले से तीन तलाक के तीन हालिया मामले सामने आए. पहले मामले में, एक 26 वर्षीय दिव्यांग व्यक्ति मोहम्मद राशिद ने अपनी 17 साल की बीवी चांद बी को तीन तलाक दिया है, क्योंकि वह अनपढ़ है और खाना पकाना नहीं जानती है.

दूसरी घटना शेखूपुरा इलाके से अक्सीर बानो (26) और मुश्तजाब खान के बीच बताई गई. इन दोनों का निकाह पांच साल पहले हुआ था और इनका दो साल का एक बेटा भी है. दहेज की मांग पूरा न करने के चलते अक्सीर को अपना घर छोड़ने के लिए मजबूर किया गया.

तीसरा मामला सिरौली से सामने आया है, जहां करीब ग्यारह साल पहले गुलिस्तां (35) का निकाह मोहम्मद लायक के साथ हुआ. इनके तीन बच्चे भी हैं. गुलिस्तां को जुलाई में घर छोड़ने के लिए मजबूर किया गया. इसके बाद उसने पुलिस से संपर्क किया.

ये भी पढ़ें- कोर्ट पहुंचे रतुल पुरी, गैर-जमानती वारंट रद्द करने के लिए दायर की याचिका