ATM क्लोनिंग से लोगों को लगाता था करोड़ों का चूना, फिर करता था अय्याशी; दिल्ली पुलिस ने किया गिरफ्तार

5वीं पास जगप्रवेश उर्फ टोनी पांच सितारा होटलों में शानो-शौकत वाली लाइफ भी जीता था. टोनी की 100 से भी ज्यादा गर्लफ्रैंड हैं.
Tiger Gang ATM cloning, ATM क्लोनिंग से लोगों को लगाता था करोड़ों का चूना, फिर करता था अय्याशी; दिल्ली पुलिस ने किया गिरफ्तार

दिल्ली पुलिस ने एक ऐसे मास्टरमाइंड को गिरफ्तार किया है जिसकी नजर आपके ATM कार्ड पिन पर थी. ये शख्स टाइगर गैंग का सरगना है, जिसने आपके अकाउंट को हैक कर करके लाखों रुपए जमा कर लिए है.

दिल्ली पुलिस की क्राइम ब्रांच ने जगप्रवेश उर्फ टोनी डागर को दिल्ली के नजफगढ़ से गिरफ्तार किया है. टोनी डागर दिल्ली के झोड़दा इलाके का रहने वाला है. टोनी और उसके साथी पिछले तीन-चार सालों से ATM क्लोन कर हज़ारों लोगों के बैंक अकाउंट्स से करोड़ों रुपये का चूना लगा चुके हैं.

100 से ज्यादा गर्लफ्रेंड

झरोड़ा कलां गांव का महज 5वीं पास जगप्रवेश उर्फ टोनी डागर की 100 से ज्यादा गर्लफ्रेंड हैं. टोनी के पास से दिल्ली पुलिस की क्राइम ब्रांच ने ATM क्लोन करने वाली मशीन सेट, कीपैड वाला कैमरा और एक ऑटोमैटिक पिस्टल बरामद की है.

पुलिस का कहना है कि ये अब तक देश भर के करीब हजारों ATM मशीन के साथ छेड़छाड़ कर करोड़ों रुपए निकाल चुका है. दरअसल, इस गैंग के निशाने पर वो ATM मशीन होती थी, जहां पर सिक्योरिटी गार्ड तैनात नहीं होता था.

Tiger Gang ATM cloning, ATM क्लोनिंग से लोगों को लगाता था करोड़ों का चूना, फिर करता था अय्याशी; दिल्ली पुलिस ने किया गिरफ्तार

ऐसे निकालते थे रुपये

ये लोग ATM के कीपैड के ऊपर कैमरा इंस्टॉल कर देते थे और एटीएम की स्वैप मशीन के ऊपर ATM स्कैनिंग मशीन लगा देते थे. एटीएम की सारी डीटेल इनके ख़ुफ़िया कैमरे और स्कीनिंग मशीन में रिकॉर्ड हो जाती थी.

उसके बाद ये लोग कार्ड बनाने की मशीन से पहले तो नकली कार्ड बनाते थे फिर लैपटॉप के जरिए असली कार्ड का डाटा उस नकली ATM कार्ड भी फीड कर देते थे. जिसके बाद ये लोग ATM मशीन पर जा कर आसानी से पैसा निकाल लेते थे.

हजारों लोगों का मिला बैंक डाटा

इन लोगों के पास से तकरीबन 30 हज़ार लोगों का बैंकिंग डेटा भी मिला है. साथ ये गैंग अब तक तक़रीबन 10 हज़ार लोगों को करोड़ों का चूना लगा चुका है. बता दें कि इस गैंग में कुल 7 से 8 मेंबर हैं.

दिल्ली के अलावा यूपी, गोवा, राजस्थान, चंडीगढ़, उत्तराखंड, हरियाणा में ATM मशीन को अपना निशाना बना चुके है. इस गैंग के दो और मेंबर प्रवीण और अजय पहले से उत्तराखंड की जेल में बंद हैं.

ये भी पढ़ें- 485 करोड़ के बिटकॉइन स्कैम मास्टरमाइंड की हत्या केस में खुलासा, साथियों ने टॉर्चर करके मार डाला

ये भी पढ़ें- Google Pay के जरिए मुंबई के बैंकर से 87,000 रुपये की धोखाधड़ी

Related Posts