मुर्शिदाबाद हत्याकांड: परिवार की हत्या का कारण इंश्योरेंस पॉलिसी, 20 साल पुराना पड़ोसी गिरफ्तार

आरोपी उत्पल के पिता यह मानने तैयार नहीं हैं कि वो ऐसा कर सकता है, उन्होंने उत्पल को पैसों के मामले में पड़ने से कई बार मना किया था लेकिन उसने एक न सुनी.

मुर्शिदाबाद के भयावह हत्याकांड के 8 दिन बाद पुलिस ने बंधुप्रकाश के पुराने पड़ोसी को गिरफ्तार किया है. पुलिस का दावा है उसने इस हत्याकांड की गुत्थी सुलझा ली है. यह केस राजनीतिक मोड़ लेते हुए तृणमूल कांग्रेस और भाजपा के बीच आरोप-प्रत्यारोप का केंद्र बना हुआ था. पुलिस के मुताबिक 20 साल के उत्पल बेहरा ने बंधुप्रकाश पॉल, उनकी पत्नी ब्यूटी पॉल और उनके 5 साल के बेटे आंगन की हत्या की है. उत्पल का आरोप है की भानुप्रकाश ने उसके साथ दुर्व्यवहार किया था और उसे इंश्योरेंस पॉलिसी की रिसिप्ट नहीं दी थी.

पुलिस का कहना है कि उत्पल ने जुर्म कबूल कर लिया है. मुर्शिदाबाद के एसपी मुकेश कुमार ने बतया कि “उत्पल ने पॉल से 11 साल की पॉलिसी ली थी, जिसका सालाना प्रीमियम 24,167 रूपए था. उत्पल का कहना है की भानु ने उसे पहले साल के प्रीमियम की रिसिप्ट दी लेकिन दूसरे साल की नहीं. जबकि उसने दूसरे साल का भी प्रीमियम भरा था. जब उसने भानुप्रकाश पॉल से पैसे वापस मांगे तो उसने दुर्व्यवहार किया. उसके इस व्यव्हार से उत्पल ने खुद को काफी अपमानित महसूस किया और उसने भानु की हत्या करने की योजना बनायी. उसने भानु की बीवी और बच्चे को भी मार डाला क्योंकि वो उसे पहचानते थे और उसे डर था की वो पुलिस को सब बता देंगे.”

पुलिस आज उत्पल को कोर्ट में पेश करेगी और 14 दिन की कस्टडी की मांग करेगी. पुलिस के मुताबिक उत्पल जिआगिनी गया था जहां भानु की बहन का घर है ताकि उसे उस जगह के बारे में सारी जानकारी मिल जाए. वहीं उसने इस घटना को अंजाम दिया. उत्पल पूर्व मिदनापुर जिले में मजदूरी करता था और वो दुर्गा पूजा पर घर आया था. साथ ही अपने साथ मर्डर करने का औजार भी लेकर आया था.

विजयदशमी के दिन, करीब रात 10:30 बजे उत्पल ने भानुप्रकाश को फोन कर मिलने की बात कही. क्योंकि परिवार में सभी उत्पल को जानते थे इसलिए भानुप्रकाश ने उसे को घर पर ही बुला लिया. घर के अंदर आते ही उत्पल ने भानु पर हमला किया और उसकी हत्या कर दी. उसके बाद वो दूसरे कमरे में गया और भानुप्रकाश की गर्भवती पत्नी और बच्चे की हत्या कर दी.

मुकेश कुमार ने बताया कि जिस वक्त मर्डर हुआ उस वक्त उत्पल के फोन की लोकेशन भी जिआगिनी की थी. लेकिन उत्पल झूठ बोलता रहा की वो उस वक्त सागरदहि में था. जब पुलिस ने सख्ती से पूछा तब वह टूट गया और उसने सच उगल दिया. घटना को अंजाम देते वक्त उत्पल ने 2 जोड़ी कपड़े पहन रखे थे. हत्या करने के बाद उसने एक जोड़ी कपड़े और हत्या के समय इस्तेमाल किया औजार पॉल के घर के पास फेंक दिया.

उत्पल के पिता माधब बेहेरा यह मानने तैयार नहीं हैं कि उत्पल ऐसा कर सकता है. उनका कहना है कि उन्होंने कई बार उत्पल को मना किया था कि पैसों के मामले में न पड़ें लेकिन उत्पल ने उनकी एक न सुनी.

पुलिस का कहना है कि स्कूल में पढ़ाने के अलावा भानुप्रकाश इंश्योरेंस का काम और बिज़नेस भी करता था. वो पॉल के बिज़नेस पार्टनर सौविक बनिक के खिलाफ लीगल एक्शन भी लेगी. पुलिस के सूत्रों के मुताबिक बनिक पहले भी लोगों से बिज़नेस इन्वेस्टमेंट के नाम कर पैसे ऐंठ कर धोखाधड़ी कर चुका है.

जबसे यह मामला सामने आया है भाजपा लगातार तृणमूल कांग्रेस पर निशाना साधे हुए है. भाजपा का कहना है की पॉल RSS का सदस्य था. हालांकि परिवार ने इंकार किया है. भानु और उनके बेटे का शव एक कमरे में मिला था और उनकी पत्नी का दूसरे. पुलिस का अनुमान है पॉल और उनकी पत्नी की हत्या किसी नुकीले औजार से की गई वहीं उनके बेटे को किसी भारी वस्तु से मारा गया है. पुलिस को पोस्ट मार्टम रिपोर्ट आने का इंतजार है क्योंकि उसके बाद ही पूरी स्थिति साफ हो पाएगी.