स्टिंग में खुलासा- LJP सांसद पैसे लेकर संसद में कोई भी सवाल पूछने को तैयार

बिहार के ये सांसद तीन बार चुनकर संसद पहुंच चुके हैं और अब चौथी बार लोक जनशक्ति पार्टी के टिकट से मैदान में हैं. सामाजिक न्याय की बात करने वाले ये नेता चुनाव जीतने के लिए 5 करोड़ रुपये तक खर्च करते हैं.
Operation Bharatvarsh, स्टिंग में खुलासा- LJP सांसद पैसे लेकर संसद में कोई भी सवाल पूछने को तैयार

नई दिल्ली. TV9 भारतवर्ष के सबसे बड़े और सनसनीखेज स्टिंग ऑपरेशन में बिहार के समस्तीपुर के सांसद रामचंद्र पासवान ने कबूला कि उन्होंने पिछले लोकसभा चुनाव में 5 करोड़ रुपए खर्च किये थे. साथ ही उनका ये भी दावा है कि बिहार में 6 सीटों पर चुनाव लड़ने के लिए पार्टी उम्मीदवारों पर पूरे 50 करोड़ रुपये खर्च हुए थे. बता दें ये कोई आम सांसद नहीं हैं, बल्कि ये देश में दलितों के सबसे बड़े जननेताओं में से एक राम विलास पासवान के भाई हैं.

लोक जनशक्ति पार्टी ने इनको एक बार फिर लोकसभा चुनाव के लिए समस्तीपुर से मैदान में उतारा है. समस्तीपुर में चुनाव पांचवे चरण में है, जिसकी वोटिंग 29 अप्रैल को होगी. बता दें कि रामचंद्र पासवान तीन बार सांसद रह चुके हैं और चौथी बार मैदान में हैं. पहली बार वह 1999 में सांसद चुने गए. दूसरी बार 2004 में और तीसरी बार 2014 में वो संसद पहुंचे.

TV9 की इंवेस्टिगेटिंग टीम इस सांसद की हकीकत देश के सामने लाने के लिए उनके दिल्ली के सरकारी निवास पर पहुंची. पूछे जाने पर सांसद रामचंद्र पासवान ने बताया कि चुनाव लड़ने के लिए उन्हें 5 से 10 करोड़ रुपये तक की जरुरत पड़ती है. जबकि पिछले चुनाव में उन्होंने चुनाव आयोग को जो ब्यौरा दिया वो सिर्फ 28 लाख 59 हजार रुपए का था. यानी रामचंद्र पासवान ने जो खर्चा दिखाया वह तय सीमा से आधे से भी कम था. रामचंद्र पासवान न सिर्फ चुनाव आयोग को झांसा दिया बल्कि बच भी निकले.

फर्जी कंपनी के नुमाइंदे बनकर पहुंचे TV9 के ख़ुफ़िया रिपोर्टर ने उन्हें 5 करोड़ के इंतजाम करने का भरोसा दिया. शर्त ये थी कि बदले में कंपनी के प्रोजेक्ट में समस्तीपुर में कोई रूकावट न आए. साथ ही जरुरत पड़ने पर सांसद महोदय संसद में कंपनी की समस्यायों को उठायें. रामचंद्र पासवान ने इसपर बिना कोई देरी के पूरे सपोर्ट का भरोसा दे दिया. साथ ही कंपनी को फंड दिलाने को भी तैयार हुए.

ये भी पढ़ें-  स्टिंग में खुलासा- BJP सांसद उदित राज ने पिछले चुनाव में उड़ाए 5 करोड़, कहा- नोटबंदी से मची तबाही

चुनावी खर्चे के लिए 5 करोड़ का वादा मिल जाने के बाद रामचंद्र पासवान की उम्मीदें काफी बढ़ गईं थीं. इसके चलते फर्जी कंपनी को हर तरह की मदद का भरोसा दिया. ये सवाल पूछे जाने पर पैसे कैश में दें या चेक में, तो सांसद महोदय ने कहा- चेक में लफड़ा होता है, कैश दे दो, ईजी है.

Operation Bharatvarsh, स्टिंग में खुलासा- LJP सांसद पैसे लेकर संसद में कोई भी सवाल पूछने को तैयार

यह पूछे जाने पर कि इतने पैसे आप लेंगे कैसे तो रामचंद्र पासवान ने कर दिया पैसों के हेरफेर के नेटवर्क का खुलासा. उन्होंने बताया कैश में वक्त नहीं लगता. ये भी बाते कि दिल्ली या नॉएडा कहीं भी करवा दीजिये. उन्होंने आगे बताया कैसे पैसे दिल्ली से बिहार पहुंचते हैं. पासवान ने कहा- कार्यकर्ता सेट होते हैं पैसा ले जाने के लिए. हवाला में दिक्कत होती है. लाखों लोग दिल्ली आते हैं. हर तरह के लोग आते हैं . अमीर-गरीब. इन लोगों को 2 लाख, 5 लाख, 10 लाख देके पैसे भिजवा दिए जाते हैं.

आइए जानते हैं क्या-क्या खुलासे हुए

खुलासा नंबर- 1

वैसे खर्चे में कोई सीमा ही नहीं है. समस्तीपुर से पिछला चुनाव लड़ने में 5 से 10 करोड़ का खर्चा आया था.

खुलासा नंबर- 2

संसद में कंपनी की जरुरत के हिसाब से सवाल भी करने को तैयार हुए सांसद. बताया पार्टी की रफ से सवाल उठाएंगे. साथ ही कंपनी को सरकार की तरफ से फंड भी दिलाएंगे.

खुलासा नंबर- 3

चेक में लफड़ा होता है, कैश दे दो ईजी है

खुलासा नंबर-4

कैश कहीं भी दिलवा दीजिये. कोई दिक्कत नहीं. चाहे दिल्ली या पटना.

खुलासा नंबर- 5

पैसा एक बार में नहीं जायेगा. विश्वासी आदमी को भिजवा देंगे. वह अपनी सुविधा अनुसार पहुंचा देगा.

खुलासा नंबर- 6

कैश में वक्त नहीं लगता. नॉएडा चाहे दिल्ली कहीं भी इंतजाम करवा दीजिये.

खुलासा नंबर- 7

कैंडिडेट को कैश ही देते हैं. चेक में दिक्कत होती है.

खुलासा नंबर- 8
कार्यकर्ता सेट होते हैं पैसा ले जाने के लिए. हवाला में दिक्कत होती है. लाखों लोग दिल्ली आते हैं. हर तरह के लोग आते हैं . अमीर-गरीब. इन लोगों को 2 लाख, 5 लाख, 10 लाख देके पैसे भिजवा दिए जाते हैं.

Related Posts