भारतीय कपल के हनीमून पर फेरा था पानी, अब एयरलाइंस को देना होगा 3.85 लाख रुपये हर्जाना

एयरलाइंस ने इस कपल को मुंबई से बैंकॉक तक का ही बोर्डिंग पास दिया, जबकि उन्‍हें ऑकलैंड तक जाना था.

थाई एयरवेज ने एक कपल के हनीमून का मजा किरकिरा कर दिया. अब महाराष्‍ट्र के स्‍टेट कंज्‍यूमर डिस्‍प्‍यूट्स रीड्रेसल कमीशन ने इस कपल को 3.85 लाख रुपये हर्जाना देने को कहा है. यह कपल न्‍यूजीलैंड के ऑकलैंड जाना चाहता था, मगर एयरलाइंस की गलती से नहीं जा सके.

मामला साल 2013 का है. हिंदुस्‍तान टाइम्‍स की रिपोर्ट के मुताबिक, मुंबई के एक कपल ने ऑकलैंड जाने के लिए टिकट बुक की थी. वीजा लिया था और बाकी ज़रूरी कागजात भी साथ रखे थे. उनकी मुंबई से ऑकलैंड वाया बैंकॉक फ्लाइट बुक थी. 19 दिसंबर 2013 को यह जोड़ा एयरपोर्ट पहुंचा. कंपनी ने उन्हें मुंबई से बैंकॉक तक का ही बोर्डिंग पास दिया. बिना कोई कारण बताए उन्होंने बैंकॉक से ऑकलैंड का पास देने से मना कर दिया. कपल को ट्रिप कैंसिल कर घर लौटना पड़ा.

इसके बाद कपल ने एयरलाइन में कम्प्लेन की. जवाब आया कि महिला यात्री के लिए न्‍यूजीलैंड इमिग्रेशन से मैसेज आया था- नॉट ओके टू बोर्ड. इसी कारण से कपल को बैंकॉक से ऑकलैंड का बोर्डिंग पास नहीं मिल सका. बाद में पता चला कि महिला के पास वापसी का टिकट नहीं था, केवल वन-वे टिकट था जिसके कारण उन्हें बोर्डिंग पास नहीं मिला.

दंपत्ति ने दावा किया कि ऐसी किसी दिक्‍कत के बारे में उन्‍हें नहीं बताया गया. अगर उन्हें बताया गया होता तो वो उसे सही करवा लेते. कपल ने 2014 में इस मामले की शिकायत डिस्ट्रिक्‍ट कंज्‍यूमर फोरम में की. दिसंबर 2017 में जिला फोरम ने कपल की शिकायत ठुकरा दी. 2018 में यह कपल स्‍टेट कंज्‍यूमर डिस्‍प्‍यूट्स रीड्रेसल कमीशन पहुंचा.

कमीशन ने कहा कि अगर एयरलाइंस को यह बताना चाहिए था कि मुंबई से ऑकलैंड के टिकट की व्यवस्था नहीं हो सकी है. चूंकि एयरलाइन ने मुंबई से बैंकॉक तक का टिकट दिया है, तो गलती एयरलाइन की ही हुई. क्‍योंकि वह पूरी ट्रिप के टिकट की व्यवस्था करने के लिए ज़िम्मेदार है. कमीशन ने कहा कि एयरलाइन को इस बारे में क्लाइंट को पहले से बताना चाहिए. समस्या आने पर अन्य विकल्प तलाशना भी एयरलाइंस का काम है.

इसके बाद कमीशन ने थाई एयरलाइंस को नुकसान की भरपाई के 2.14 लाख रुपये कपल को देने का आदेश जारी किया. साथ ही टिकट के 46,532 रुपये भी रिफंड करने को कहा. इसके अलावा मानसिक उत्पीड़न के 1 लाख रुपये और मुकदमे के खर्च के 25,000 रुपये भी देने को कहा.

ये भी पढ़ें

FaceApp AI टेक्नॉलजी ने ढूंढ निकाला 18 साल पहले किडनैप हुआ बच्चा

हनीमून पर पति ने जबरन पिलाई शराब, पत्नी ने मना किया तो मुंह में भर दिया कांच