संपत्ति की कुर्की पर रोक लगाने के लिए विजय माल्या ने सुप्रीम कोर्ट में लगाई गुहार

विजय माल्या पर भारतीय बैंकों से 9 हज़ार करोड़ रुपये लेकर भागने का आरोप है.

नई दिल्ली: भगोड़ा शराब कारोबारी विजय माल्या ने सुप्रीम कोर्ट से अपनी और रिश्तेदारों की सभी संपत्ति की कुर्की करने की प्रक्रिया पर रोक लगाने की मांग करते हुए एक अर्जी दाखिल की है.

इस मामले में 29 जुलाई को सुनवाई होगी.

विजय माल्या सिर्फ किंगफिशर एयरलाइंस से संबंधित संपत्ति की ही कुर्की चाहते हैं. उन्होंने सुप्रीम कोर्ट से उनकी निजी और पारिवारिक संपत्ति को जब्त नहीं करने की अपील की है.

माल्या ने इससे पहले 11 जुलाई को बॉम्बे हाई कोर्ट में कुर्की के खिलाफ कार्रवाई पर रोक को लेकर अपील की थी लेकिन उन्होंने अर्जी ठुकरा दी गई .

ज़ाहिर है कि विजय माल्या पर भारतीय बैंकों से 9 हज़ार करोड़ रुपये लेकर भागने का आरोप है.

ज़ाहिर है शराब कारोबारी विजय माल्या को इसी साल 5 जनवरी को विशेष पीएमएलए अदालत ने भगोड़ आर्थिक अपराधी घोषित किया था. उसके बाद अदालत ने माल्या की संपत्तियों को कुर्क करने की प्रक्रिया शुरू की थी.
माल्या ने इस आदेश के खिलाफ हाई कोर्ट में अपील करते हुए भगोड़ा आर्थिक अपराधी कानून की वैधता को चुनौती दी थी. फिलहाल मामला कोर्ट में लंबित है.

माल्या वर्तमान में ब्रिटेन में हैं और वहां पर प्रत्यर्पण की कार्यवाही का सामना कर रहे हैं. उन्होंने भारतीय बैंकों से 9 हजार करोड़ रुपये का कर्ज लिया था जिसे न चुका पाने पर मार्च 2016 को देश दिया था. भारत ने 2017 में प्रत्यर्पण की मांग की थी और फिलहाल वह जमानत पर बाहर है.

माल्या ने ब्रिटेन के हाई कोर्ट में प्रत्यर्पण आदेश के खिलाफ भी अर्जी दाखिल की है जिस पर अगले साल 11 फरवरी से तीन दिन के लिए सुनवाई होगी.

और पढ़ें- भ्रष्टाचारियों की मदद के लिए RTI कानून बनाया जा रहा कमजोर, राहुल गांधी का बड़ा आरोप