अर्जुन रामपाल पर केस दर्ज, नहीं चुकाया था 1 करोड़ रुपए का लोन

बॉलीवुड अभिनेता अर्जुन रामपाल पर बॉम्बे हाई कोर्ट में मुकदमा दर्ज हुआ है. अर्जुन रामपाल पर आरोप है कि उन्होंने वाय.टी एंटरटेंमेंट कंपनी से मई, 2018 में एक करोड़ रुपए लोन के तौर पर लिया था. इस रकम को चुकाने के लिए अर्जुन रामपाल ने 90 दिनों का वादा किया था, लेकिन वे समय पर […]

बॉलीवुड अभिनेता अर्जुन रामपाल पर बॉम्बे हाई कोर्ट में मुकदमा दर्ज हुआ है. अर्जुन रामपाल पर आरोप है कि उन्होंने वाय.टी एंटरटेंमेंट कंपनी से मई, 2018 में एक करोड़ रुपए लोन के तौर पर लिया था. इस रकम को चुकाने के लिए अर्जुन रामपाल ने 90 दिनों का वादा किया था, लेकिन वे समय पर यह राशि चुका नहीं पाए, जिसके बाद कंपनी ने उनपर मुकदमा दर्ज करा दिया.

फिलहाल इस मामले को लेकर अर्जुन का कहना है कि मामले को सुलझा लिया गया है. मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, इस मामले पर बात करते हुए अर्जुन रामपाल ने कहा कि मुकदमें की सुनवाई के दौरान उन्होंने अपनी बात कह दी है और मामला सुलझ गया है. इसके साथ ही उन्होंने कहा कि लोन की बकाया राशि चुका दी गई है. हालांकि, इस मुकदमे को दर्ज करने वाले सोलिसिटर ओरुप दासगुप्ता ने अर्जुन रामपाल के दावे को खारिज करते हुए कहा कि उन्होंने साढे सात लाख से अलग बकाया राशि कंपनी को अभीतक नहीं चुकाई है.

दासगुप्ता द्वारा दी गई जानकारी के अनुसार, अर्जुन रामपाल ने लोन की रकम 90 दिनों के अंदर 12 प्रतिशत सालाना ब्याज दर के साथ चुकाने का वादा किया था. रामपाल ने इसी के साथ बाद की तारीख डालकर एक करोड़ का चेक भी दिया था, लेकिन 90 दिन का समय खत्म होने के बाद जब वह चेक बैंक में डाला गया तो वह बाउंस हो गया. इसके बाद ही अक्टूबर में कंपनी ने अर्जुन रामपाल के खिलाफ शिकायत दर्ज कराई.

8 अक्टूबर को नेगोशिएबल इंस्ट्रूमेंट एक्ट, 1881 के सेक्शन 138 के तहत अभिनेता को लीगल नोटिस भेजा गया था, जिसमें उनसे 14 दिनों के अंदर ब्याज के साथ एक करोड़ रुपए भरने के लिए कहा गया था. रामपाल इस नोटिस के बावजूद इस राशि चुकाने में नाकाम रहे, जिसके बाद 29 अक्टूबर को उनके खिलाफ आपराधिक मामला दर्ज कराना पड़ा. इसके बाद अर्जुन रामपाल ने नवंबर में कंपनी को साढे सात लाख रुपए दिए लेकिन वे पूरा लोन नहीं चुका पाए.