Birthday Special: रोते-रोते यूं सुरीले हो गए थे किशोर कुमार

किशोर कुमार का बचपन से ही गला खराब रहता था, जिस वजह से वे लगातार खांसते रहते थे. ऐसे में कोई सोच भी नहीं सकता था कि वे कभी सिंगर बन सकते हैं.

मुंबई: फिल्म जगत के मशहूर महान कलाकार किशोर कुमार का आज 90वां जन्मदिन है. किशोर कुमार एक सफल गायक तो थे ही साथ ही वे एक अभिनेता भी थे. किशोर कुमार आज भी हर दिल के अजीज हैं. आज भी लोग उनके गानों को सुनना पसंद करते हैं.

किशोर कुमार ने अपनी सिंगिग और एक्टिंग के साथ-साथ निर्देशन से भी फिल्मी दुनिया में एक अलग पहचान बनाई. हिंदी फिल्मों के गानों के अलावा उन्होंने मराठी, बंगाली, असम, गुजराती, कन्नड़, भोजपुरी, मलयालम और उर्दू सहित कई भाषाओं में गाने गाए. उन्हें अपनी सिंगिंग के लिए कई अवार्ड भी मिल चुके हैं.

किशोर कुमार का जन्म 4 अगस्त 1929 को मध्य प्रदेश के खंडवा शहर में हुआ था. किशोर कुमार के बचपन का नाम आभास कुमार गांगुली था. किशोर कुमार के पिता का नाम कुंजलाल गागुली था जो कि एक नामी वकील थे. उनकी मां का नाम गौरी देवी था. किशोर के बड़े भाई अशोक कुमार भी भारतीय सिनेमा की मशहूर हस्ती रह चुके हैं. वे अपने बहन भाई में सबसे छोटे थे और जब वह छोटे थे तभी उन्होंने एक्टिंग की शुरुआत कर दी थी.

kishore kumar birthday, Birthday Special: रोते-रोते यूं सुरीले हो गए थे किशोर कुमार

प्यार, शादी और उलझे रिश्ते

किशोर कुमार ने चार शादी की थी. उनकी पहली शादी 21 साल की उम्र में हुई थी. उनकी पहली पत्नी बंगाल की मशहूर अभिनेत्री और गायिका रूमा गुहा थीं. यह शादी चार साल ही चली और दोनों अलग हो गए. रूमा के बाद किशोर कुमार ने मधुबाला से शादी की. मधुबाला एक मुस्लिम परिवार से ताल्लुक रखती थीं.

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार मधुबाला से शादी करने के बाद उन्होंने अपना धर्मान्तरण करवा लिया था, जिसके बाद उन्होंने अपना नाम बदलकर करीम अब्दुल्ला रख लिया था. मधुबाला और किशोर का रिश्ता सिंगर के परिवार को पसंंद नहीं था. वहीं दूसरी तरफ मधुबाला काफी बीमार रहती थीं और किशोर के काम के चक्कर में मधुबाला को समय नहीं दे पा रहे थे. इसी बीच मधुबाला का निधन हो गया और किशोर कुमार एक बार फिर अकेले पड़ गए.

kishore kumar birthday, Birthday Special: रोते-रोते यूं सुरीले हो गए थे किशोर कुमार

मधुबाला के देहांत के बाद किशोर कुमार ने बॉलीवुड अभिनेत्री योगिता बाली से शादी की. शादी सिर्फ दो साल तक ही चली और यागिता से तलाक लेने के बाद किशोर कुमार ने लीना से शादी कर ली थी, जो उनसे 21 साल छोटी थीं.

पैर की उंगली कटने से मिली सुरीली आवाज

किशोर कुमार का बचपन से ही गला खराब रहता था, जिस वजह से वे लगातार खांसते रहते थे. ऐसे में कोई सोच भी नहीं सकता था कि वे कभी सिंगर बन सकते हैं. बचपन में किशोर कुमार के साथ एक घटना घटी थी, जिसने उन्हें आज महान गायक बना दिया. दरअसल एक शो के दौरान किशोर कुमार के बेटे अमित कुमार ने एक बहुत ही दिलचस्प किस्सा बताया.

किशोर कुमार के पैर की एक उंगली कट गई थी. दर्द बहुत ज्यादा था और इतना दर्द था कि वे सारा समय रोते रहते थे. उस समय ऐसी दवाइयां भी नहीं थी जो कि तुरंत दर्द को कम कर सके. अब दर्द के मारे किशोर कुमार का बहुत बुरा हाल था. वो सारा समय रोते रहते. यह सिलसिला करीब एक महीने तक चला और इसी कारण उनका गला साफ और सुरीला हो गया.

फिल्मी करियर

किशोर कुमार ने संगीत की कोई औपचारिक शिक्षा नहीं ली थी. इस कारण संगीतकार उन्हें गाना देने में कतराते थे. एक दिन संगीतकार रसलील चौधरी ने उनकी आवाज़ सुनी फिर उन्हें गानो में कई मौके दिए.

किशोर कुमार ने अपने करियर की शुरुआत 1946 में ‘फिल्म’ शिकारी से की. 1948 में उन्होंने फिल्म ‘जिद्दी’ से एक गायक के रूप में अपने करियर की शुरुआत की थी. इस फिल्म में उन्होंने देवानंद के लिए गाना गाया था, जिसके बोल थे ‘मरने की दुआएं क्यों मांगू’.

kishore kumar birthday, Birthday Special: रोते-रोते यूं सुरीले हो गए थे किशोर कुमार

इसके बाद उनके कदम कामयाबी की और बढ़ने लगे. किशोर कुमार के सुपरहिट गानों की लिस्ट बहुत लंबी है. किशोर कुमार ने ‘मेरे सपनो की रानी कब आएगी तू’, ‘गाता रहे मेरा दिल’, ‘पल पल दिल के पास’, ‘नीले नीले अम्बर पर’ जैसे सुपरहिट गाने हिंदी फिल्म इंडस्ट्री को दिए. आज भी यह गाने लोगों को गुनगुनाते हुए सुना जा सकता है.

किशोर कुमार ने 600 से भी ज्यादा हिंदी फिल्मी गाने गाए हैं. अभिनय में उन्हें लोग कॉमेडी भूमिकाओं में बहुत पंसद करते थे. ‘नई दिल्ली’, ‘आशा’, ‘चलती का नाम गाड़ी’, ‘हाफ टिकट’ और ‘पड़ोसन’ जैसी फिल्मों में अपने बेहतरीन अभिनय से किशोर कुमार ने लोगों के दिलों में अपनी अलग जगह बनाई.

गायकी और अभिनय के अलावा किशोर कुमार ने निर्देशक के रूप में भी फिल्म जगत में अपनी भागीदारी निभाई. किशोर कुमार ने 1961 में आई फिल्म ‘झुमरु’ का निर्देशन किया था, जिसमें उन्होंने खुद अभिनय किया था. उन्होंने ‘दूर का राही’, ‘दूर वादियों’ में कहीं जैसी फिल्मों का भी निर्देशन किया.

राजनीतिक जुड़ाव

किशोर कुमार का इतिहास राजनीति से भी जुड़ा है. वे 1970 दशक में राजनीति की तरफ आकर्षित हुए थे. इमरजेंसी के दौरान वे इंदिरा गांधी के मुख्य आलोचक थे और आलोचक होने के खामियाजा उन्हें भुगतना भी पड़ा था. उनके कई शो को बिना किसी वजह के रद्द कर दिया गया था.

kishore kumar birthday, Birthday Special: रोते-रोते यूं सुरीले हो गए थे किशोर कुमार

किशोर कुमार से जुड़े विवाद

1. किशोर कुमार का नाम पहली बार विवादों में तब आया जब उनपर 1960 में भारत सरकार की आयकर की चोरी का इल्ज़ाम लगा था. इसके बाद उनकी प्रतिष्ठा पर भी गहरा असर पढ़ा.

2. किशोर कुमार और अमिताभ बच्चन का विवाद सुर्खियों में रहा है. इसकी वजह थी कि अमिताभ बच्चन ने उनकी  फिल्म ‘ममता’ में गेस्ट अपीयरेंस के प्रस्ताव को ठुकरा दिया था. यह विवाद लगभग 5 साल चला.

3. किशोर कुमार का विवाद मिथुन चक्रवती से भी रहा है. उनका यह विवाद योगिता बाली को लेकर हुआ था.

4. मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, कांग्रेस की रैलियों में किशोर कुमार को गाने के लिए बुलाया गया था, लेकिन उन्होंने मना कर दिया था. वहीं संजय गांधी ने भी किशोर कुमार से रैलियों में गाने के लिए कहा, लेकिन किशोर तब भी नहीं माने. इसके बाद दूरदर्शन और ऑल इंडिया ने किशोर कुमार के गानों पर प्रतिबंध लगा दिया था.

 

यह भी पढ़ें-     उन्नाव केस में CBI ने आरोपी विधायक कुलदीप सेंगर के 17 ठिकानों पर मारे ताबड़तोड़ छापे

महाराष्ट्र में आफत की बारिश, त्र्यंबकेश्वर मंदिर में बने बाढ़ जैसे हालात