समलैंगिकता पर फिल्में बनाई जानीं चाहिए: जरीन खान

“समलैंगिक हम सभी की तरह सामान्य हैं. युवा पीढ़ी इसे लेकर अब बात करने लगी है. यदि समाज का समर्थन नहीं होगा तो वे आजाद होकर कैसे जिएंगे?”
zareen khan said about homosexuality, समलैंगिकता पर फिल्में बनाई जानीं चाहिए: जरीन खान

बॉलीवुड अभिनेत्री जरीन खान अपनी आगामी फिल्म ‘हम भी अकेले तुम भी अकेले’ में एक समलैंगिक कैरेक्टर में हैं. उनका मानना है कि सिनेमा का इस्तेमाल पुरानी पीढ़ी को इस मुद्दे पर सहजता से बात कराने के लिए किया जाना चाहिए.

जरीन ने कहा, “इस फिल्म की कहानी को सुनने के बाद मुझे महसूस हुआ कि फिल्मों में आने के लिए यह कहानी कितनी महत्वपूर्ण है. यद्यपि धारा 377 को अदालत ने वैध घोषित कर दिया है, लेकिन समाज और हमारे मां-बाप की पीढ़ी निश्चित तौर पर इस वास्तविकता के साथ सहमत नहीं हैं कि समलैंगिक हम सभी की तरह सामान्य हैं. यह सिर्फ एक और यौन ओरिएंटेशन है और कुछ नहीं. युवा पीढ़ी इसे लेकर अब बात करने लगी है. यदि समाज का समर्थन नहीं होगा तो वे आजाद होकर कैसे जिएंगे?”

फिल्म की कहानी दो समलैंगिक किरदारों के इर्द-गिर्द घूमती है जिसे जरीन और अंशुमन झा निभा रहे हैं. झा इस फिल्म के निर्माता भी हैं. हरीश व्यास इसके निर्देशक हैं. यह फिल्म मैनहटन में साउथ एशियन फिल्म फेस्टिवल में 22 नवंबर को दिखाई जाएगी.

Related Posts