लोगों की कहानी बयां करता है सॉन्ग ‘जरूरत’, पढ़ें- सोनाक्षी-शत्रुघ्न की कास्टिंग पर क्या बोले निर्देशक वरुण

वरुण (Varun Prabhudayal Gupta) ने इस बातचीत में 'जरूरत' (Zaroorat Song) गाने के लिए सोनाक्षी (Sonakshi Sinha) और शत्रुघ्न (Shatrughan Sinha) को चुनने से लेकर कई अहम बातों पर चर्चा की.

Zaroorat Song, Sonakshi Sinha, Shatrughan Sinha, Entertainment News
हाल ही में यह गाना रिलीज हुआ है.

‘जरूरत’ (Song Zaroorat), यह एक ऐसा शब्द है, जो कि हर किसी की जिंदगी का हिस्सा है. अपने ख्वाहिशों को पूरा करने और अच्छे से जिंदगी गुजर-बसर करने के लिए हर किसी को कभी थोड़े तो कभी ज्यादा की जरूरत पड़ती है. इस जरूरत को ही बयां करता है हाल ही में रिलीज हुआ गाना ‘जरूरत’. वैसे तो इस गाने में कई आर्टिस्ट हैं, पर यह गाना थोड़ा इसलिए भी खास हो जाता है, क्योंकि इस गाने के जरिए पहली बार बाप-बेटी की फिल्मी जोड़ी सोनाक्षी सिन्हा (Sonakshi Sinha) और शत्रुघ्न सिन्हा (Shatrughan Sinha) ने साथ में काम किया है.

इस गाने को डायरेक्ट किया है- वरुण प्रभुदयाल गुप्ता (Varun Prabhudayal Gupta) ने. यह गाना ऐसे समय पर रिलीज हुआ है, जब देशवासी किसी न किसी रूप में मुसीबत का सामना कर रहे हैं. ऐसे में लोगों को एक दूसरे की सहारे से लेकर प्यार और अपनेपन की जरूरत है. यह गाना ऐसी ही लोगों की कहानी को बयां करता हैं, जिन्होंने कोरोना काल में बेरोजगारी से लेकर आर्थिक तंगी तक की परेशानी का सामना किया है.

लोगों की कहानी को बयां करता है ये गाना

अपने इस गाने को लेकर वरुण ने टीवी9 भारतवर्ष से खास बातचीत की. इस बातचीत में उन्होंने इस गाने के लिए सोनाक्षी और शत्रुघ्न को चुनने से लेकर कई अहम बातों पर चर्चा की.

‘जरूरत’ गाने की नींव कैसे पड़ी और कैसे इसे बनाने का ख्याल आया?

‘जरूरत’ यह गाना नहीं बल्कि आपकी और हमारी कहानी है, जिसे हम हर रोज़ जीते हैं. हमारे आस पास ऐसे कई इंसान हैं जिन्हें मुस्कुराने की ज़रूरत है, हमारे साथ की ज़रूरत है, हमारे दिलासे और उम्मीद की ज़रूरत है. ज़रूरत एक दूसरे के साथ रहने की होती है. यही ख्याल था मेरे दिमाग में जिसपर मैंने काम किया. मेरी एक मित्र हैं जो कुवैत से हैं नीति सिंह. उनसे मेरी बात हुई कि हम शत्रु जी और सोनाक्षी को साथ लाने का विचार कर रहे हैं. फिर सर से इस बारे में बात की और फिर पहली बार पिता पुत्री की यह जोड़ी साथ नज़र आयी और लोगों ने खूब सराहा.

‘गुजर जाएगा’ की सफलता के बाद शत्रुघ्न और सोनाक्षी को ही क्यों चुना?

‘गुजर जाएगा’ के बाद मैं ब्रेक लेना चाहता था. ‘गुजर जाएगा’ पर काम करना हमने 27 मार्च से शुरू किया था और 11 मई को हमने इसे रिलीज किया. जब से लॉकडाउन शुरू हुआ, मैं अपने घर नहीं गया था. मुझे लगा मैं ब्रेक ले लूंगा. इस महामारी की वजह से लोग परेशान हो रहे हैं. पूरे वर्ल्ड में लोग एक दूसरे की मदद कर रहे हैं, स्ट्रॉन्ग बन रहे हैं. हम एक कम्युनिकेशन करना चाहते थे और इस कम्युनिकेशन को हम एक म्यूजिकल तरीके में करना चाहते थे.

हमें लगा कि एक ही फैमिली की दो जेनरेशन इस चीज के बारे में बात करेंगे तो बेस्ट होगा. हमने बहुत सारे कॉम्बिनेशंस के बारे में सोचा. मेरी एक मित्र है, जो शत्रु सर की फैमिली फ्रेंड हैं. उन्होंने बात की और शत्रु सर और सोनाक्षी इस कंटेंट के लिए तैयार हो गए, जिसे श्रवण ने लिखा है और मोफाड़ ने रैप किया है.

सोनू सूद भी इस विकट परिस्थिति में लोगों की मदद के लिए सामने आए क्या कहना चाहेंगे?

सोनू सूद जी ने जो काम किया है, वो सच में सराहनीय है. संयोग से मैंने बच्चन साहब और सोनू सूद के साथ ‘गुज़र जाएगा’ में काम किया था. गरीब लोगों की मदद करना और उन्हें अपने घरों तक पहुंचाना, किसानों को ट्रैक्टर देना, लोगों को आश्रय देना वाक़ई काबिल-ए-तारीफ़ है. उनको मैं बधाई देता हूं. यह सारी चीज़े दिल से की जाती हैं. हर इंसान यह नहीं कर सकता. उनके अलावा वे सब लोग भी बधाई के हक़दार हैं जो छोटी-छोटी कोशिशें कर इंसानियत को ज़िंदा रख रहे हैं.

कई नामी हस्तियां इस वीडियो में नजर आए. इसके बारे में विस्तार से बताएं.

बच्चन साहब का बहुत ही बड़ा प्रशंसक हूं और बच्चन साहब की ऐसी कोई चीज नहीं होगी, जिसे मैंने देखा या पढ़ा ना हो. उनके साथ काम करना मेरे लिए एक सपने के साकार करने के समान था. मेरी उनसे पीपुल्स चॉइस अवॉर्ड और एनडीटीवी स्वच्छ भारत अभियान के दौरान मुलाकात हुई थी. हर कोई इंसान जो इस इंडस्ट्री में आता है, उसकी विश होती है कि वह बच्चन साहब के साथ काम करे. मेरा भी कुछ वही ख्वाब था और मेरे इस ख्वाब को पूरा करने का श्रेय मैं मेरी एक पत्रकार मित्र हैं रिचा अनिरुद्ध उन्हें देना चाहूंगा.

उन्होंने ही मुझे बच्चन साहब से कनेक्ट करवाया और मेरे सपने को साकार किया. ‘गुज़र जाएगा’ के तुरंत बाद शत्रु सर के साथ ‘ज़रूरत’ गाना रिलीज हुआ. शत्रु जी हमेशा बच्चन साहब के बारे में कहते हैं कि ‘बने चाहे दुश्मन ज़माना हमारा सलामत रहे दोस्ताना हमारा’. मेरे लिए यह सोने पर सुहागा वाली बात हो गई कि मैंने बीते तीन महीनों में लगातार दो प्रिय मित्रों के साथ काम किया, जो मेरे लिए बहुत ही सौभाग्य की बात है.

‘गुजर जाएगा’ और ‘जरूरत’ के बाद क्या प्लानिंग है?

मैं फिलहाल के लिए छोटा सा ब्रेक ले रहा हूं. अपनी फैमिली से मिलने जा रहा हूं. तीन प्रोजेक्ट्स जिनपर मैं काम कर रहा हूं, ब्रेक से लौटते ही में दुबई के लिए रवाना होने वाला हूं, जहां मुझे दो एड फिल्म डायरेक्ट करने हैं. इसके अलावा हमारा एक बहुत बड़ा प्रोजेक्ट ‘राग’ जो अपने आप में ही इतिहास का सबसे बड़ा प्रोजेक्ट है, जिसकी अनाउंसमेंट हमने 21 जून को की थी और नवंबर के अंत में या दिसंबर की शुरुआत में उसे रिलीज कर देंगे.

मुंबई, इस शहर ने हमें सब कुछ दिया है और इस शहर को ट्रिब्यूट देने के लिए हमने कुछ शानदार चीज़े सोच रखी हैं. इसके अलावा लॉकडाउन के दौरान हमने अभिनेता रवि दुबे द्वारा लिखित और कथित ‘आंकड़े’ किया था और अब उनके साथ एक और प्रोजेक्ट कर रहे हैं, जिसका नाम है ‘फुल पावर’ जो अपने आप में ही बहुत अदभुत होगा. आप अपनी सीमा से परे जाकर कुछ भी कर सकते हो, आपको कोई रोक नहीं सकता है.

Related Posts