Investigation : दिशा सालियान के बॉयफ्रेंड पर सीबीआई का शिकंजा, खुलेंगे बड़े राज?

बुधवार रात को सीबीआई की 5 अधिकारियों की टीम उनके कथित बॉयफ्रेंड रोहय राय के घर भी पहुंची थी.

  • TV9 Hindi
  • Publish Date - 11:34 am, Fri, 16 October 20
सुशांत सिंह और दिशा सालियान की मौत की लिंक ढूंढ रही CBI, पहुंची रोहन राय के घर

सुशांत सिंह राजपूत (Sushant Singh Rajput) की मौत के मामले में सीबीआई (CBI) की जांच जारी है. सीबीआई इस मामले में हर पहलू की जांच कर रही हैं. वहीं अब सीबीआई (CBI) दिशा सालियान (Disha Salian) और सुशांत (Sushant Singh Rajput) की मौत में लिंक ढूंढने की भी पूरी कोशिश कर रही है.

बताया जा रहा है कि इसी कड़ी में सीबीआई ने दिशा के करीबी लोगों से पूछताछ की थी. टाइम्स ऑफ इंडिया की रिपोर्ट के मुताबिक बुधवार रात को सीबीआई की 5 अधिकारियों की टीम उनके कथित बॉयफ्रेंड रोहय राय के घर भी पहुंची थी. हालांकि इसके पीछे की वजह अभी तक सामने नहीं आई है.

Birthday Special: 72 साल की उम्र में भी हेमा मालिनी कैसे हैं इतनी फिट ? जानिए उनकी खूबसूरती का राज

इससे पहले भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) के विधायक नितेश राणे (Nitesh Rane) ने बताया था कि दिशा सलियान अपने माता-पिता के साथ नहीं रह रहीं थीं, लेकिन वह रोहन राय नाम के एक लड़के के साथ लिव-इन रिलेशनशिप में थीं.

उन्होंने कहा कि दिशा और रोहन इस साल के अंत या अगले साल तक घर बसाने की योजना बना रहे थे. यह हमने सुना है. हैरानी की बात यह है कि दिशा की मौत के बाद से किसी ने भी आज तक रोहन राय नाम के इस शख्स के बारे में नहीं सुना है और दिशा सलियान प्रकरण पर उसका क्या रुख है? वह बाहर क्यों नहीं आ रहा है और कह रहा है कि यह आत्महत्या नहीं है और यह क्या हो गया?

अमिताभ बच्चन की को-स्टार सीमा देव को हुआ अल्जाइमर, बेटे अजिंक्या ने कहा दुआ करें

पोस्टमार्टम रिपोर्ट में अंतिम संस्कार के दो दिन के बाद की तारीख

नितेश राणे ने आगे कहा कि रोहन बाहर भी नहीं आ रहा है और सब कह रहा है. वह पूरी तरह से गायब हो गया है. वह अभी तस्वीरों में कहीं भी क्यों नहीं है? संयोगवश, 9 जून को रोहन राय और उनके दोस्त दिशा के अंतिम संस्कार में साथ थे. अब अगर आप अंतिम पोस्टमार्टम रिपोर्ट को देखते हैं, तो उसकी तारीख 11 जून है. अब अगर रोहन राय और उनके दोस्त 9 जून को दिशा के अंतिम संस्कार में शामिल हुए थे, तो पोस्टमार्टम रिपोर्ट पर 11 जून की तारीख क्यों थी. यह सब रोहन राय के चरित्र पर संदेह को जन्म देता है.