दिल्ली हाई कोर्ट ने फिल्म ‘बाटला हाउस’ को दिया ग्रीन सिग्नल

फिल्म बाटला हाउस की रिलीज़ को दिल्ली हाईकोर्ट से हरी झंडी मिल गई है, 15 अगस्त को ही रिलीज होगी फिल्म.

नई दिल्ली: मंगलवार को बाटला हाउस एनकाउंटर मामले से जुड़े दो आरोपियों अरिज खान और शाहजाद अहमद की ओर से फिल्म की रिलीज पर रोक लगाने की याचिका पर सुनवाई करते हुए दिल्ली हाई कोर्ट के जज विभू बाखरू ने फिल्म के सीन देखने और दोनों पक्षों को सुनने के बाद याचिका का निपटारा करते हुए, फिल्म निर्माता को फिल्म में कुछ संशोधन करने का आदेश दिया. कोर्ट ने फिल्म के एक सीन के डायलॉग से मुजाहिद शब्द को म्यूट करने और सीन के दौरान, फिल्म की शुरुआत और अंत में डिस्क्लेमर लगाने का आदेश दिया है.

कोर्ट ने जो डिस्क्लेमर दिखाने का आदेश दिया है वो है, “फिल्म की कहानी दिल्ली पुलिस की जांच और पब्लिक डोमेन में उपलब्ध तथ्यों से इंस्पायर्ड है, फिल्म के पात्र काल्पनिक हैं, किसी जीवित या मृत व्यक्ति से कोई संबंध नहीं है अगर किसी से मेल खाता है तो ये केवल संयोग मात्र होगा. फिल्म के निर्माता मामले में स्वतंत्र ट्रायल का सम्मान करते हैं, साथ ही फिल्म के निर्माता फिल्म में मामले से जुड़े किसी भी पक्ष के निजी विचारों और धारणाओं को बढ़ावा नहीं देते.”

साथ ही फिल्म निर्माता को दिल्ली पुलिस के एक अधिकारी की तस्वीर और नाम जो कि फिल्म के अंत में दिखाई जानी थी वो अधिकारी बाटला हाउस एनकाउंटर में शामिल थे, उनका नाम और फोटो हटानी होगी.

क्या है पूरा मामला?

दरअसल, याचिका में कहा गया था कि इस फिल्म बाटला हाउस पर रोक लगाई जाए, क्योंकि फिल्म की रिलीज से मुकदमे के ट्रायल पर असर पड़ सकता है, क्योंकि फिल्म का प्रमोशन टेलिविजन, रेडियो और डिजिटल प्लेटफॉर्म पर फिल्म में घटनाओं का सीक्वेंस सत्य घटनाओं से प्रेरित बताकर किया जा रहा है. मामले में आरोपी अरिज खान के खिलाफ निचली अदालत में अभी भी ट्रायल चल रहा है, जबकि आलम को निचली अदालत ने उम्र कैद की सजा दी थी, जिसे उसने हाई कोर्ट में चैलेंज किया हुआ है.

दिल्ली में सितंबर 2008 में हुए बम धमाके के बाद दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल जामिया इलाके के बाटला हाउस में एक फ्लैट में छापेमारी करने ग‌ई थी, लेकिन वहां पुलिस और संदिग्धों के बीच मुठभेड़ हो गई थी. इसी घटनाक्रम पर आधारित बाटला हाउस फिल्म बनी है, जोकि 15 अगस्त को देश भर के सिनेमा घरों में रिलीज होने वाली है. फिल्म में अभिनेता जॉन अब्राहम मुख्य भूमिका में हैं.

ये भी पढ़ें: शरारती तत्वों ने पत्थरबाजी की लेकिन कश्मीर में एक भी गोली नहीं चली – गृह मंत्रालय