मिलिए 25 की उम्र में अरबों की संपत्ति के मालिक बने टैटू के इस दीवाने से

जस्टिन के साल 2017 में भारत में हुए कॉन्सर्ट पर 100 करोड़ रुपये खर्च हुए जबकि भारत दौरे के लिए इन्होंने 10 करोड़ रुपये लिए थे.

नई दिल्ली: जिस उम्र में बच्चे पढ़ाई-लिखाई के बारे में सोचते हैं, कुछ बनने के सपने देखते हैं, जिंदगी के मायने समझने की कोशिश करते हैं. उस उम्र में एक लड़के ने अपनी सिंगिंग से इंटरनेट की दुनिया में सनसनी मचा दी. नाम है जस्टिन बीबर.

अपनी जादुई आवाज़ के जरिए करोड़ों लोगों के दिलों पर राज करने वाले जस्टिन बीबर का आज यानि एक मार्च को जन्मदिन है. 1994 में जन्मे कैनेडियन पॉपस्टार को दुनियाभर से लोग जन्मदिन की बधाई दे रहे हैं.

13 साल की बाली उम्र में जस्टिन बीबर ने अपनी खास फनकारी से दुनिया भर के संगीत प्रेमियों के बीच अपनी छाप छोड़ दी थी. इस उम्र में जस्टिन का एक वीडियो यू-ट्यूब पर अपलोड हुआ और फिर वो इंटरनेट सेंसेशन बन गए. बीबर का पहला यूट्यूब वीडियो उनकी मां ने अपलोड किया था. जस्टिन यू-ट्यूब पर सबसे ज्यादा सबस्क्राइबर्स बनाने वाले पहले मेल सिंगर हैं.

बीबर ने शोहरत के साथ संपत्ति भी खूब कमाई. महज 17 साल की उम्र में जस्टिन बीबर 100 मिलियन डॉलर की संपत्ति के स्वामी बन चुके थे. जस्टिन एक साल में 80 मिलियन डॉलर कमाते हैं. इतना ही नहीं, जस्टिन के म्यूजिक एलबम के करीब 10 करोड़ म्जूजिक रिकॉर्ड्स बिक चुके हैं. रिपोर्ट्स के अनुसार, जस्टिन की नेट वर्थ 209 मिलियन डॉलर यानी 13 अरब रुपये हो चुकी है.

भारत में भी जस्टिन के दीवाने
साल 2017 में जस्टिन एक कॉन्सर्ट के लिए भारत आए थे. इस कॉन्सर्ट के लिए लोगों की दीवानगी देखते ही बन रही थी. उन्हें देखने के लिए लोगों का हुजूम उमड़ पड़ा था. उनके कॉन्सर्ट के लिए सबसे सस्ती टिकट 4 हजार और सबसे महंगी टिकट 75 हजार रुपये थी. बताया जाता है कि जस्टिन के इस कॉन्सर्ट पर 100 करोड़ खर्च हुए थे. जस्टिन बीबर ने भारत दौरे के लिए 10 करोड़ रुपये लिए थे.

क्या-क्या है शौक?
अपनी आवाज की जादूगरी से दुनिया भर में करोड़ों लोगों को अपना दीवाना बनाने वाले जस्टिन बीबर सोशल मीडिया की सबसे चर्चित सेलेब्रिटीज हैं. सोशल मीडिया पर जस्टिन अपनी तस्वीरें भी शेयर करते रहते हैं. उन्हें पालतू जानवर रखने का बहुत शौक है. बीबर टैटू के भी बड़े दीवाने हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *