JLF: बास्केटबॉल के खिलाड़ी ब्रायंट की मौत से भावुक हुईं दीया मिर्जा!

दीया मिर्जा ने कहा कि कोबी ब्रायंट की मौत की खबर जानने के बाद से उनका बीपी लो हो गया है और वो इस सेंसेटिव टॉपिक पर रो पड़ीं थीं.

जयपुर लिटरेचर फेस्टिवल (JLF) के आखिरी दिन की शुरुआत ‘क्लाइमेट इमरजेंसी’ सेशन से हुई. इस सेशन में बॉलीवुड एक्ट्रेस दीया मिर्जा, सोनम वांगचुक, रेनॉटा लॉक, शुभांगी स्वरूप, अपूर्वा ओझा और नमिता वेकर ने क्लाइमेट इमरजेंसी पर चर्चा की. सेशन के दौरान क्लाइमेट इमरजेंसी पर पूछे सवाल का जवाब देते हुए दीया मिर्जा रो पड़ीं.

दीया मिर्जा क्लाइमेट इमरजेंसी पर बात कर रहीं थी, उसी बीच उनको एक प्लेयर की डेथ पर रोना आ गया. इसका खुलासा दीया मिर्जा ने प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान किया. दीया ने कहा कि, वो इसलिए रोईं क्योंकि रविवार को उनका गणतंत्र दिवस बहुत अच्छे से बीता और शाम की फ्लाइट से वो जयपुर आ गयीं. जब वो सोने लगीं तो उन्होंने अपना फोन साइलेंट नहीं किया और करीब रात के 3 बजे उनके फोन में न्यूज अलर्ट का मैसेज आया, जिसमें बास्केटबॉल के स्टार प्लेयर कोबी ब्रायंट का प्लेन कैलिफोर्निया में क्रैश होने से मौत की खबर दिखाई दी.

ये भी पढ़ें- दिग्गज बास्‍केटबॉल खिलाड़ी कोबी ब्रायंट का विमान क्रैश, बेटी सहित चार लोगों की मौत, पूरी दुनिया में शोक

दीया ने बताया, कि वो कोबी ब्रायंट को जानती थीं और ये न्यूज पढ़कर अपसेट हो गयीं. दीया इस सेंसेटिव टॉपिक पर रो पड़ीं थीं. दीया मिर्जा के रोने के बाद स्पीकर्स ने बैक स्टेज दीया को फटकार भी लगाई कि स्टेज पर क्यों रोई. इस पर दीया ने कहा कि उन्हें रोना आ गया. दीया ने कहा कि उस न्यूज के बाद से मेरा बीपी भी लो हो गया है और मैं इलेक्ट्रॉल पी रही हूं.

CAA और NRC से ज्यादा क्लाइमेट क्राइसिस पर बात करना जरूरी

दीया मिर्जा से जब CAA और NRC को लेकर सवाल पूछा गया तो उन्होंने कहा कि, इससे भी बड़ा मुद्दा क्लाइमेट चेंज का है. आज क्लाइमेट चेंज से हर इंसान प्रभावित हो रहा है. क्लाइमेट चेंज आज बड़ा मसला है और इसे गंभीरता से देखना बहुत जरूरी है.

दीया ने कहा, कि मैं यहां पर कोई पॉलिटिकल स्टेटमेंट देने नहीं आई हूं, मेरी पॉलिटिक्स मेरे लिए है. दीया ने ये भी कहा कि, क्लाइमेट को लेकर हमें बच्चों को शुरू से ही अच्छी बातें सिखानी होंगी. उन्होंने कहा, हमें सदियों से इस बात की जानकारी है कि हम एक पृथ्वी के नागरिक है. हमारी सभ्यता, संस्कृति, सोच-विचार इस बात को बहुत गहरी तरह से जानते हैं.