जावेद अख्तर बोले- जगजाहिर है पाकिस्तान-आतंकियों का दोस्ताना

पुलवामा हमले के बाद अपना पाकिस्तान का दौरा रद्द करने के बाद जावेद अख्तर आलोचकों के निशाने पर आ गए थे. वहीं जावेद अख्तर को ऐसे समय में पाकिस्तान जाना सही नहीं लगा, जब पड़ोसी मुल्क की पनाह में बैठे मसूद अजहर ने देश के 42 जवानों पर कायराना तरीके से हमला कर शहीद कर दिया था.

मुंबई: मशहूर गीतकार-पटकथा लेखक जावेद अख्तर ने कहा कि भारत में आतंकवाद प्रायोजित करने का पाकिस्तान का एजेंडा उनकी समझ से परे है। यह बात जावेद अख्तर ने एक इवेंट के दौरान कही. आईएएनएस के मुताबिक, जावेद अख्तर ने कहा, “मुझे समझ नहीं आता कि उनका (पाकिस्तान) एजेंडा क्या है. वे लगातार आतंकवाद को प्रयोजित करके क्या हासिल करेंगे। यह सभी को पता है कि वे आतंकवादी संगठनों का समर्थन करते हैं, लेकिन लगातार इससे इनकार करते रहते हैं।”

उन्होंने कहा, “मसूद अजहर को भारतीय जेल से तब छोड़ा गया, जब उसके आतंकी संगठन जैश ने एक भारतीय विमान का अपहरण कर लिया था. उसके बाद वह कैसे कांधार से पाकिस्तान पहुंचा?” इसके बाद पाकिस्तान पर हमला बोलते हुए जावेद अख्तर ने कहा, “अगर वे ईमानदार शासन चलाते हैं तो फिर उसे (मसूद अजहर) गिरफ्तार क्यों नहीं करते।”

अख्तर ने यह बयान ऐसे समय पर दिया है, जब भारत और पाकिस्तान के बीच तनावपूर्ण स्थिति बनी हुई है. बता दें कि पुलवामा में हुए आतंकी हमले के बाद जावेद अख्तर और शबाना आजमी ने पाकिस्तान में करांची कला परिषद की ओर से आयोजित एक कार्यक्रम में भाग लेने से इनकार कर दिया था. इसे लेकर पाकिस्तानी लोगों ने उनकी काफी आलोचना की. इस मामले पर बात करते हुए जावेद अख्तर ने बोला, “मैं महसूस करता हूं कि यह स्थिति हम (भारत) पर थोपी जा रही है. यह हमारी पसंद नहीं थी, लेकिन जब चीजें आपके नियंत्रण से बाहर चली जाती हैं.”

आखिर में उन्होंने कहा, “मौजूदा घटनाक्रमों के नतीजे बहुत खतरनाक हैं और पाकिस्तानी अभिनेता और कलाकारों पर प्रतिबंध लगाना छोटी चीजें है, लेकिन हमारी सीमा पर जो हो रहा है, उसे रोका जाना चाहिए। हमें आतंकवाद पर प्रतिबंध लगाना चाहिए। यह दुर्भाग्यपूर्ण है।”