‘झूठा एफिडेविट देने का इरादा नहीं था’, आर्म्स एक्ट मामले में सलमान खान बरी

सलमान ने ट्रायल के दौरान कोर्ट में शपत्र पत्र दिया था कि उनकी बंदूक से जुड़े लाइसेंस दस्तावेज खो गए हैं.

जोधपुर: जोधपुर-बहु चर्चित काला हिरण शिकार मामले में अभिनेता सलमान खान को बड़ी राहत मिली है. आर्म्स एक्ट मामले में सलमान को जोधपुर कोर्ट ने बरी कर दिया है.

सलमान ने ट्रायल के दौरान कोर्ट में शपत्र पत्र दिया था कि उनकी बंदूक से जुड़े लाइसेंस दस्तावेज खो गए हैं, लेकिन पहले खबरें थी कि उनका हथियार लाइसेंस रिन्यू करने के लिए मुंबई में पेश किया गया था. सलमान खान पर इस मामले को लेकर कोर्ट को झूठ बोलकर गुमराह करने का आरोप लगा था, जिसमें अब कोर्ट ने अभिनेता को बरी कर दिया है.

सलमान के वकील ने कोर्ट में जिरह करते हुए कहा कि अभिनेता की मंशा गलत दस्तावेज सब्मिट कराने की नहीं थी.

इस मामले में अभियोजन पक्ष ने सीआरपीसी की धारा 340 के तहत सलमान के खिलाफ याचिका दायर की थी. सलमान को इस मामले में तो कोर्ट से राहत मिल गई है लेकिन अगर वे दोषी करार दिए जाते तो उन्हें सात साल की सजा हो सकती थी.

इसके अलावा सलमान पर कोर्ट को गुमराह करने का एक अन्य मामला और दर्ज है. काले हिरण शिकार मामले में सलमान खान का केस जोधपुर कोर्ट में चल रहा था. यहां एक बार सुनवाई के दौरान सलमान पर कोर्ट को गुमराह कर हाजरी माफी लेने का आरोप लगा है.

सलमान पर आरोप है कि उन्होंने कान में दर्द का झूठा बहाना बनाकर हाजिरी माफी ले ली थी, जबकि वे बजरंगी भाईजान फिल्म की शूटिंग में व्यस्त थे. फिलहाल कोर्ट ने अभी आर्म एक्ट मामले में तो सलमान को बरी कर दिया है पर अभी हाजरी माफी मामले में फैसला आना बाकी है.