पूर्व PM लाल बहादुर शास्त्री के पोतों ने की ‘द तशकंद फाइल्स’ पर रोक लगाने की मांग

लाल बहादुर शास्त्री के पोतों का कहना है कि इस फिल्म के जरिए एक प्रोपेगैंडा तैयार किया जा रहा है जिससे बेमतलब का विवाद खड़ा हो सके.

मुंबई: पूर्व प्रधानमंत्री लाल बहादुर शास्त्री की रहस्यमयी मौत की गुत्थी को लेकर बनी फिल्म द तशकंद फाइल्स को लेकर विवाद खड़ा हो गया है. विवेक अग्निहोत्री निर्देशित यह फिल्म 12 अप्रैल को रिलीज होनी है, लेकिन इसकी रिलीज से पहले ही कांग्रेस ने अपत्ति दर्ज करा दी है. लाल बहादुर शास्त्री के बेटे विभाकर शास्त्री और दिवाकर शास्त्री कांग्रेस से जुड़े हुए हैं. उन्होंने इस फिल्म के निर्माताओं को लीगल नोटिस भेजकर फिल्म की रिलीज पर रोक लगाने की मांग की है.

लाल बहादुर शास्त्री के पोतों का कहना है कि इस फिल्म के जरिए एक प्रोपेगैंडा तैयार किया जा रहा है, जिससे बेमतलब का विवाद खड़ा हो सके. इसी के साथ उन्होंने सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय और सेंसर बोर्ड को एक पत्र लिखकर अपनी शिकायत दर्ज कराई है. इसमें कहा गया है कि अगर यह फिल्म रिलीज होती है तो देश में अशांति का माहौल बन जाएगा. उनका यह भी कहना है कि जब देश में लोकसभा चुनाव होने हैं तो ऐसे में फिल्म की रिलीज का गलत प्रभाव पड़ेगा.

उनका यह भी कहना है कि इस फिल्म को बनाने से पहले निर्माताओं ने परिवार के किसी भी सदस्य से अनुमति नहीं ली. ऐसे में फिल्म को रिलीज करना गलत होगा और अगर वे फिल्म को रिलीज करना चाहते हैं तो शास्त्री जी के परिवार के लिए इसकी प्री-स्क्रीनिंग की व्यवस्था कराई जानी चाहिए.

वहीं इस फिल्म के निर्माओं को मिले नोटिस की पुष्टि खुद विवेक अग्निहोत्री ने की. इसके साथ ही उन्होंने यह भी कहा कि उन्होंने शास्त्री जी के परिवार के लोगों को फिल्म दिखाई थी, जिसपर उन्होंने अपना आभार बी जताया था. इसके साथ ही विवेक अग्निहोत्री ने बिना गांधी परिवार का नाम लिए कहा, “मैं समझ नहीं पा रहा कि कांग्रेस के दिग्गज नेता इस फिल्म की रिलीज को लेकर क्यों डरे हुए हैं, जो कि एक नागरिक के #RightToTruth पर सवाल उठाती है?”