सुशांत सिंह राजपूत की मौत है ‘मिस्ट्री’-सीज करें 50 सिम कार्ड, वकील ने CBI जांच के लिए लिखी चिट्ठी

सामान्य बात यह है कि इसे (Sushant Singh Rajput Death) एक रहस्यमय मौत (Mysterious Death) कहा जाना था. इसकी जांच होनी चाहिए और जांच करने के बाद इस निष्कर्ष पर पहुंच सकते हैं कि यह एक ट्रेजेडी है, आत्महत्या है या फिर मर्डर.

अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत के सुसाइड (Sushant Singh Rajput Suicide Case) मामले में पुलिस (Mumbai Police) की कई खामियों पर बात करते हुए दिल्ली के एक वकील (Delhi Based Lawyer) ने केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) से मामले की जांच की मांग की है. उन्होंने न्यायिक प्रणाली (Judiciary System) में लोगों के विश्वास को बहाल करने की आवश्यकता को लेकर जोर दिया है.

सुशांत के सुसाइड की हो सीबीआई जांच

एचटी की रिपोर्ट के अनुसार, जस्टिस के लिए पीपल्स मूवमेंट का नेतृत्व कर रहे वकील ईशकरण सिंह भंडारी ने कहा कि सुशांत सिंह राजपूत की मौत को रहस्यमयी मौत में से एक माना जाना चाहिए, जब तक कि सीबीआई द्वारा तथ्यों का पता नहीं लगाया जाता. बताते चलें कि 34 वर्षीय अभिनेता 14 जून, 2020 को मुंबई स्थित अपने फ्लैट में मृत पाए गए थे. पुलिस ने सुशांत के मौत की वजह सुसाइड बताई है.

देखिये फिक्र आपकी सोमवार से शुक्रवार टीवी 9 भारतवर्ष पर हर रात 9 बजे

कई लोग सुशांत की मौत की सीबीआई जांच की मांग कर रहे हैं. ये मांग करने वालों में रिया चक्रवर्ती, शेखर सुमन और भारतीय जनता पार्टी के सांसद सुब्रमण्यम स्वामी भी शामिल हैं. हालांकि महाराष्ट्र के गृह मंत्री अनिल देशमुख ने इन मागों पर कहा था कि इस केस में कोई सीबीआई जांच की जरूरत नहीं है. देशमुख ने कहा था कि मुंबई पुलिस यह केस संभालने में सक्षम है.

कैसे मिनटों में इस निष्कर्ष पर पहुंचे की सुसाइड है?

वकील भंडारी ने कहा कि सुसाइड शब्द सुशांत की मृत्यु के कुछ ही मिनटों के भीतर आया था और यह पूरे मीडिया पर एक डिफाइनिंग नेरेटिव बन गया. सामान्य बात यह है कि इसे एक रहस्यमय मौत कहा जाना था. इसकी जांच होनी चाहिए और जांच करने के बाद इस निष्कर्ष पर पहुंच सकते हैं कि यह एक ट्रेजेडी है, आत्महत्या है या फिर मर्डर.

उन्होंने आगे कहा कि लेकिन आप कुछ ही मिनटों में उस निष्कर्ष पर कैसे पहुंचते हैं? तो इसका मतलब है कि आपके पास एक पूर्वनिर्धारित निष्कर्ष है. वह कुछ ऐसा था, जिसने मुझे दूर करना शुरू कर दिया. उसके बाद जितना मैं केस को लेकर गहराई में गया, उतने ही मेरे अंदर सवाल उठते गए.

अगर सुशांत ने बदले थे 50 सिम, तो क्या उन्हें किया गया सीज?

वकील ने पुलिस और अन्य पहलुओं के बारे में बताया कि राजपूत ने कथित तौर पर अपने फोन के 50 सिम कार्ड बदले थे. भंडारी ने कहा कि उन्होंने मुंबई पुलिस को इस बारे में लिखा है, जो कि इन पहलुओं पर अभिनेता की मौत की जांच कर रही है. भंडारी ने कहा कि पहले लेटर में मैंने कहा कि यह सोर्स-बेस्ड है, नेम-बेस्ड नहीं कि सुशांत सिंह राजपूत ने 50 बार अपने सिम कार्ड बदले.

उन्होंने कहा कि मैंने उनसे पूछा कि क्या उन्होंने उन सभी सिम कार्ड्स को बंद कर दिया है. क्या उन्होंने उन सभी के साथ-साथ आकस्मिक और उससे जुड़े लोगों के इलेक्ट्रॉनिक एविडेंसेज को सीज किया है? यह एक असाधारण रूप से उच्च संख्या है और इसीलिए मैंने लिखा है कि इस सबूत को सील कर दिया जाना चाहिए. अगर मुंबई पुलिस केस की जांच कर रही है, तो उम्मीद है कि वे पहले ही ऐसा कर चुके होते. अगर उन्होंने ऐसा नहीं किया है, तो वह जांच पर अधिक से अधिक सवाल उठवा रहे हैं.

क्या फ्लैट को किया सील, अगर नहीं तो भारी चूक

भंडारी ने आगे कहा कि मुंबई पुलिस से यह भी पूछा कि क्या उन्होंने फ्लैट को सील कर दिया है? यह बहुत ही आश्चर्यजनक है और एक प्रक्रिया में भारी चूक है, क्योंकि हम सभी जानते हैं कि सबूत कंटामिनेटेड हो सकते हैं. यहां तक ​​कि पालतू जानवर भी कमरे में नहीं होना चाहिए, क्योंकि इंसान तो छोड़ ही दीजिए एक पालतू जानवर भी एक सीन को कंटामिनेटेड कर सकता है. वह बुनियादी काम क्यों नहीं किया गया. मैंने उन्हें लेटर लिखकर कहा कि एंड ऑफ द डे जस्टिस पब्लिक के विश्वास को लेकर है. लॉ एंड ऑर्डर भी पब्लिक के विश्वास को लेकर है.

देखिये परवाह देश की सोमवार से शुक्रवार टीवी 9 भारतवर्ष पर हर रात 10 बजे

Related Posts