नेपोटिज्म के लिए बॉलीवुड इंडस्ट्री नहीं दर्शक जिम्मेदार : नवाजुद्दीन सिद्दीकी

फिल्मों को कामयाब दर्शक ही बनाते हैं हम नहीं... हर बाप चाहेगा... अपना बेटा आगे जाए अपना बिजनेस संभाले. क्योंकि वो आदमी किसी बाहर वाले पर कैसे विश्वास कर सकता है

अभिनेता नवाजुद्दीन सिद्दीकी बॉलीवुड में हो रहे विवादों से दूर रहना पसंद करते हैं. एक्टर का अपना एक अलग स्टाइल है जिसके लिए वो सिनेमा जगत में बहुत मशहूर हैं. ऐसे में अब नवाजुद्दीन ने खुलकर बॉलीवुड में चल रही नेपोटिज्म की बहस पर बात की है. एक्टर मानते हैं कि नेपोटिज्म हर जगह है. लेकिन सितारों से ज्यादा दर्शक नेपोटिज्म के जिम्मेदार हैं.

टाइम्स ऑफ इंडिया से अपने खास बातचीत में नवाजुद्दीन सिद्दीकी ने बताया कि ”नेपोटिज्म हर जगह होता है, लेकिन इंडस्ट्री से ज्यादा दर्शक इसके लिए जिम्मेदार हैं, क्योंकि दर्शक खुद उनकी फिल्में देखने सिनेमा घरों में जाते हैं. फिल्मों को कामयाब दर्शक ही बनाते हैं हम नहीं… हर बाप चाहेगा… अपना बेटा आगे जाए अपना बिजनेस संभाले. क्योंकि वो आदमी किसी बाहर वाले पर कैसे विश्वास कर सकता है. लेकिन आप इस इंडस्ट्री की खूबसूरती को देखिए इतना सब होने के बाद भी जो एक्टर बॉलीवुड में डेब्यू कर रहे हैं और आगे काम कर रहे हैं वो बहुत ही बेहतरीन काम कर रहे हैं. उन्हें पहचाना जा रहा है. यही वजह है कि अब इस ब्लेम गेम को यहीं बंद कर देना चाहिए और हमें अब आगे बढ़ना चाहिए.”

[ यह भी पढ़ें : पहली पत्नी ने अनुराग कश्यप को बताया रॉकस्टार, बोलीं- पहले गुस्सा आया, फिर जोर से हंसी ]

नवाजुद्दीन सिद्दीकी ने अपनी बातों को आगे बढ़ाते हुए कहा ”जिस तरह से लोग इस इंडस्ट्री के बारे में लगातार बुरा बोल रहे हैं और इसकी डार्क साइड की बात कर रहे हैं. बॉलीवुड ने हर समय गवर्मेंट को सपोर्ट किया है, यहां के अभिनेता, निर्देशक, लेखक सभी गवर्मेंट के साथ मिलकर काम करते हैं. इसके साथ ही बॉलीवुड इन दिनों हर छोटे मुद्दे पर अपनी राय रखता नजर आ रहा है. लेकिन हॉलीवुड में ऐसा कुछ नहीं होता, लेकिन अगर हम इसी तरह से अपनी इंडस्ट्री को गंदी कहते रहे तो आगे आने वाली पीढ़ी और नए एक्टर यहां नहीं आना चाहेंगे. वो महज यही सोच कर अपने कदम रोक लेंगे कि बॉलीवुड में तो मर्डर होते हैं, ड्रग्स लेते हैं, गांजा पीते हैं. यही वजह है कि नेपोटिज्म के इस बहस को यहीं बंद कर देना चाहिए.

Related Posts