रूठे भारत-पाकिस्तान को करीब लाने में जुटीं तीन बहनें, सरहद पार तक दिखा असर

दोनों देशों के बीच नफरत से भरे माहौल में तीन बहनों की तरफ से ये एक अच्छी और सही पहल की गई है.

एक ओर जहां भारत-पाकिस्तान के बीच तनातनी बढ़ती जा रही है. दोनों देशों के लोग एक-दूसरे से खार खाए बैठे है, गाली दे रहे हैं. इस बीच कुछ लोग ऐसे भी हैं जो शांति और अमन चाहते हैं. इसी चाह के साथ तीन पाकिस्तानी बहनों ने एक गाना बनाया है. पाकिस्तान के साथ-साथ इंडियन सोशल प्लेटफॉर्म पर भी ये गाना खूब वायरल हो रहा है.

इस गाने के बोल हैं, ‘हमसाए मां जाए’. ये एक रैप सॉन्ग है. पाकिस्तानी एक्ट्रेस बुशरा अंसारी और असमा अब्बास ने इस गाने पर परफॉरमेंस दी है और नीलम अहमद बशीर ने इस गाने को लिखा है. खास बात ये कि तीनों ही बहनें हैं. 3 अप्रैल को इस गाने को यू-ट्यूब पर अपलोड किया गया और अब तक इसे 12 लाख से अधिक बार देखा जा चुका है. इसके अलावा फेसबुक पर भी ये गाना खूब पसंद किया जा रहा है.

ये गाना जितना खूबसूरत लिखा और गाया गया है, इसे फिल्माया भी उतने ही बेहतरीन तरीके से है. गाना हमें सिखाता है कि एक आसमान के नीचे बसे दो देश कितने मिलते-जुलते हैं. उनकी एक सी सोच, एक सी हवा, एक सी दिक्कतें हैं, फिर भी नेताओं की पॉलिटिक्स के चलते हालात कैसे खराब हो जाते हैं. दोनों बहने एक दूसरे की पड़ोसी बनी हुई हैं, और एक दूसरे से अपने सुख दुःख साझा कर रही हैं.

इस गाने के बीच एक मूमेंट आता है जब दोनों पड़ोसी औरतें अपने-अपने देश के फेमस गाने पर नाचती हैं. इस मौके पर पांव अपने आप थिरकने लगते हैं.

इस गाने की एक खास बात और है कि एक तरफ जहां हमारे यहां की इलेक्ट्रोनिक मीडिया में पकिस्तान का झंडा दिखते ही सवाल खड़े कर दिए जाते हैं, वहीं इस वीडियो में तिरंगे को बड़ी खूबसूरती से दिखाया गया है. एक और बात इस गाने को अपलोड करने के बाद कमेंट्स के ऑप्शन को लॉक रखा गया है, ताकि इस सुंदर पहल पर कोई अंट-शंट न लिखकर जाए.

हमारे पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी ने कहा था हम अपने दोस्त बदल सकते हैं, लेकिन अपना पड़ोसी नहीं. पड़ोसी हमें बाई-डिफ़ॉल्ट मिलते हैं. कुछ लोगों की अपने पड़ोसियों से बिल्कुल नहीं बनती तो कुछ का पड़ोसी बिन गुजारा नहीं होता है. यही हाल हम दो पड़ोसी देशों का है. इंडिया और पाकिस्तान के बीच आपसी बैर दिन-ब-दिन बढ़ता जा रहा है.

कोई भी आवाम लड़ाई नहीं चाहती, खासकर कि जब कोई फौजी उनके परिवार का हिस्सा हो, शहीद होने वाले का परिवार कभी नहीं चाहता कि वो युद्ध के लिए जाए, सब चाहते हैं अमन और शांति बनी रहे, लोग चैन की नींद सो सकें. सीमाओं पर जल रही आग में दोनों देश बराबर झुलसते हैं. आज युद्ध, स्ट्राइक को चुनाव के लिए रोमांचक मुद्दा बना लिया गया है. नेता और मीडिया अपने-अपने फायदे के लिए इसमें घी डालने का काम करते हैं.

ये गाना सीख देता है, दोनों तरफ के लोग मिल-जुलकर रह सकते हैं. आपने अब तक ये गाना नहीं देखा तो जरूर देखिए, और समझिए इस गाने के पीछे जुड़ी सोच को, ये सोच सिर्फ पाकिस्तान की नहीं बल्कि हिन्दुस्तान की भी है. ये सोच बार-बार कहती है कि हमें अमन चाहिए.