मजदूरों की हालत देख नहीं पाए सोनू सूद, कहा- मदद के बदले दुआओं में खुश हूं

सोनू (Sonu Sood) ने बताया कि जब वो मज़दूरो (Laborers) के पैदल चलने की तस्वीरें देखते हैं तो उन्हें बहुत दुख पहुंचता है. ये वो लोग हैं जिन्होंने हमारे घर बनाये, दफ्तर बनाये और आज यही सड़क पर रहने को मजबूर हैं.
Sonu Sood couldn't see laborers condition, मजदूरों की हालत देख नहीं पाए सोनू सूद, कहा- मदद के बदले दुआओं में खुश हूं

सोनू सूद… आजकल ये नाम हर किसी की जुबान पर चढ़ा हुआ है और भला हो भी क्यूं ना, कोरोना संकट की इस घड़ी में सोनू सूद (Sonu Sood) प्रसावी मजदूरों (Migrant Workers) के लिए किसी फरिश्ते से कम नहीं. तो चलिए आपको इस रिपोर्ट के जरिये समझाते हैं कि आखिर सोनू कैसे बन गए रियल लाइफ के हीरो.

कोरोनावायरस ने विश्व भर में ऐसा कहर बरपाया जिससे कोई भी अछूता नहीं. भारत देश मे इसका सबसे ज्यादा असर महाराष्ट्र राज्य में देखने को मिला, जिसमें मायानगरी मुम्बई सबसे ज्यादा प्रभावित है. जैसे ही इस महामारी ने मायानगरी में अपने पैर पसारने शुरू किए वैसे ही प्रवासी मजदूर अपने-अपने घरों की ओर जाने की आस लगाने लगे. लॉकडाउन के चलते इन मजदूरों का अपने-अपने गंतव्य तक पहुंचना लगभग ना मुमकिन ही लग रहा था.

देखिए NewsTop9 टीवी 9 भारतवर्ष पर रोज सुबह शाम 7 बजे

कोई पैदल चल पड़ा तो किसी ने साइकिल उठा ली. कोई बैलगाड़ी के सहारे तो कोई अपने मां-बाप को कंधो पर ही बिठा कर रवाना हो गया. मज़दूरों की ऐसी स्थिति देखकर बॉलीवुड के अभिनेता सोनू सूद का कलेजा भी कांप उठा और सोनू इस मुसीबत की घड़ी में इन मज़दूरो की मदद करने से खुद को रोक नहीं पाए. लगातार सोनू सूद ने प्रवासी मज़दूरो को उनके राज्यो में पहुचाने के लिए बसों का प्रबंध कराया और आये दिन तस्वीरे सामने आती रही कि कैसे सोनू ने ये सब किया.

Sonu Sood couldn't see laborers condition, मजदूरों की हालत देख नहीं पाए सोनू सूद, कहा- मदद के बदले दुआओं में खुश हूं

सोनू सूद के अलावा वैसे तो बॉलीवुड के कई कलाकार इस वक्त अपनी ओर से मदद कर रहे है. फिर वो चाहे पैसों से हो या फिर सामान देकर, लेकिन सोनू खुद ग्राउंड ज़ीरो पर तैनात होकर इन सभी मज़दूरो को उनके-उनके प्रदेश भिजवा रहे हैं. सोनू का कहना है कि मुझे बदले में इन तमाम लोगों की दुआएं मिल रही हैं और मेरे लिए वही काफी है.

अब तो सोनू सूद ने सोशल मीडिया का भी सहारा ले लिया है और साथ ही लोग भी जिन्हें अपने-अपने घर जाना है वो सोशल मीडिया के जरिये सोनू से मदद मांग रहे हैं. हजारों मज़दूर मुम्बई में काम की कमी, पैसों की कमी और भुखमरी से बेहाल थे. ऐसे में सोनू सूद इन मज़दूरो के लिए किसी मसीहा से कम नहीं.

सोनू ने बताया कि जब वो मज़दूरो के पैदल चलने की तस्वीरें देखते हैं तो उन्हें बहुत दुख पहुंचता है. ये वो लोग हैं जिन्होंने हमारे घर बनाये, दफ्तर बनाये और आज यही सड़क पर रहने को मजबूर हैं. इस विकट स्थिति में हमें इनके साथ खड़ा होना चाहिए. मज़दूरों तक मदद पहुंचाने के लिए सोनू ने खुद सरकार और प्रशासन के लोगों से बातचीत की और फिर तैयारी की.

Sonu Sood couldn't see laborers condition, मजदूरों की हालत देख नहीं पाए सोनू सूद, कहा- मदद के बदले दुआओं में खुश हूं

सोनू ना सिर्फ इन मज़दूरों के जाने की व्यवस्था कर रहे है बल्कि इसके साथ-साथ उन्हें खाने पीने की चीज़ें भी बांट रहे हैं और इस काम मे उनका साथ दे रहे है जाने माने शेफ विकास खन्ना. जो कि बसों में बैठकर अपने राज्यो को जाने वाले मज़दूर खाली पेट ना जाये इसका ख्याल रख रहे हैं.

इतना ही नहीं सोनू सूद के इस काम की तारीफ अब हर जगह हो रही है. हाल ही में महाराष्ट्र के गवर्नर की ओर से जहां एक तरफ सोनू की पीठ थप-थपाई गयी. वहीं दूसरी ओर ट्विटर पर #BHARATRATN ट्रेंड भी चलाया गया और सोनू को ये प्रतिष्ठित पुरस्कार देने की मांग की गई.

Sonu Sood couldn't see laborers condition, मजदूरों की हालत देख नहीं पाए सोनू सूद, कहा- मदद के बदले दुआओं में खुश हूं

सोनू सूद द्वारा किये जा रहे काम को उन्होंने कुछ दोस्तों की मदद से शुरू किया था, लेकिन अब कई स्वयंसेवक उनके साथ इस नेक काम में जुड़ गए हैं. कुल मिलाकर बड़े पर्दे पर नेगेटिव किरदार निभाने वाले सोनू सूद ने असल जिंदगी में पॉजिटिविटी का वो उदाहरण पेश किया, जिसकी चर्चा अब हर जगह है. कई लोग अब इसी राह पर चलकर मज़दूरों की मदद करने में लगे हैं.

देखिये #अड़ी सोमवार से शुक्रवार टीवी 9 भारतवर्ष पर शाम 6 बजे

Related Posts