बॉलीवुड की ‘चांदनी’ श्रीदेवी की पहली पुण्यतिथि, ऑनस्क्रीन आंखों से शब्द करती थीं बयां

कई बड़ी बॉलीवुड हस्तियां आज श्रीदेवी को अपने साथ न पाकर बहुत दुखी हैं और सोशल मीडिया पर श्रीदेवी के साथ अपनी यादें साझा कर रहे हैं.

मुंबई: पिछले साल इसी तारीख यानी 24 फरवरी, 2018 को बॉलीवुड की चांदनी श्रीदेवी ने दुनिया को अलविदा कह दिया था. मां को खोने का शायद ही किसी को दुख न होता हो, बच्चे अपनी मां के बहुत करीब होते हैं. वहीं जाहन्वी भी आज अपनी मां श्रीदेवी को याद कर भावुक हो गईं. श्रीदेवी की पहली पुण्यतिथि पर उन्हें याद करते हुए जाहन्वी ने एक इंस्ताग्राम पोस्ट किया और लिखा, “मेरा दिल हमेशा भारी रहेगा, लेकिन, मैं सदा मुस्कुराती रहूंगी क्योंकि इसमें आप रहती हैं.”

 

View this post on Instagram

 

My heart will always be heavy. But I’ll always be smiling because it has you in it.

A post shared by Janhvi Kapoor (@janhvikapoor) on

श्रीदेवी हिंदी फिल्म जगत की बहुत ही चुलबुली अभिनेत्री थीं, जो कि हर किरदार में खुद को बखूबी से ढालना जानती थीं. भारतीय फिल्म इंडस्ट्री में उन्होंने बतौर बाल कलाकार कदम रखा था. वे जब 4 साल की थीं, तब वे 1967 की तमिल फिल्म ‘कंधन करुनाई’ में नजर आईं. यह उनकी डेब्यू फिल्म थी.

हर किरदार में खुद को ढाल लेने की कला उनके अंदर भरपूर थी. श्रीदेवी जब स्क्रीन पर होती थीं, तो अपनी आंखों से ही शब्दों को बयां कर देती थीं. ऑनस्क्रीन उनके एक्सप्रेशन बहुत कमाल के होते थे. सन 80 से 90 के दौरान श्रीदेवी फिल्म इंडस्ट्री की ऐसी अभिनेत्री बन गईं थी, जो कि हाईएस्ट पेड स्टार थीं. वो दौर ऐसा था, जब श्रीदेवी की हर तीसरी फिल्म बड़े पर्दे पर हिट साबित होती थी. श्रीदेवी अपने जमाने की जनरेशन के लिए बहुत बड़ी प्रेरणा थीं. उनके कपड़ों से लेकर उनकी स्टाइल तक को लड़कियां कॉपी करती थीं.

हिंदी फिल्म जगत में श्रीदेवी ने 1979 में आई फिल्म ‘सोलवा सावन’ के साथ कदम रखा था. इसके चार साल बाद वे जितेंद्र के अपोजिट फिल्म हिम्मतवाला में नजर आईं, जो कि उस साल की सबसे बड़ी ब्लॉकबस्टर फिल्म साबित हुई. इस फिल्म का गाना ‘नैनों में सपना’ इतना मशहूर हुआ कि लोग आज भी कहीं ये गाना बज जाए तो थिरकना शुरू कर देते हैं . इसके बाद श्रीदेवी कामयाबी के शिखर पर चढ़ती चली गईं और उन्होंने पीछे मुड़कर नहीं देखा. अपनी बेहतरीन अदाकारी के लिए श्रीदेवी ने राष्ट्रीय, अंतरराष्ट्रीय पुरस्कार तो जीते ही, साथ ही उन्हें साल 2013 में पद्म श्री अवॉर्ड से भी सम्मानित किया गया.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *