रक्षाबंधन पर सुशांत की बहन का इमोशनल लेटर, आज वो कलाई नहीं जिस पर राखी बांध सकूं

सुशांत (Sushant) की बहन ने लिखा, "वर्षों पहले जब तुम जब आए थे तो जीवन जगमग हो उठा था. जब थे तो उजाला ही उजाला था. अब जब तुम नहीं हो तो मुझे समझ नहीं आता कि क्या करूं?"
Sushant Singh Rajput sister, रक्षाबंधन पर सुशांत की बहन का इमोशनल लेटर, आज वो कलाई नहीं जिस पर राखी बांध सकूं

बॉलीवुड एक्टर सुशांत सिंह राजपूत (Sushant Singh Rajput) 14 जून को बांद्रा स्थित अपने फ्लैट में मृत पाए गए थे. सुशांत के अचानक चले जाने से उनके परिवारवाले अभी भी गमगीन हैं. आज राखी (Rakshabandhan) के मौके पर उनकी बहनें अपने भाई को बहुत मिस रही हैं.

सुशांत की बहन रानी ने अपने भाई को याद करते हुए एक इमोशनल नोट लिखा है. इसमें वो लिखती हैं कि पैंतीस साल के बाद ये पहला अवसर है जब पूजा की थाल सजी है. हल्दी-चंदन का टीका भी है. राखी भी है. बस वो चेहरा नहीं है जिसकी आरती उतार सकूं.

देखिये परवाह देश की सोमवार से शुक्रवार टीवी 9 भारतवर्ष पर हर रात 10 बजे

सुशांत की बहन ने लिखा-

गुलशन, मेरा बच्चा

आज मेरा दिन है.

आज तुम्हारा दिन है.

आज हमारा दिन है.

आज राखी है.

पैंतीस साल के बाद ये पहला अवसर है जब पूजा की थाल सजी है. आरती का दीया भी जल रहा है. हल्दी-चंदन का टीका भी है. मिठाई भी है. राखी भी है. बस वो चेहरा नहीं है जिसकी आरती उतार सकूं. वो ललाट नहीं है जिसपर टीका सजा सकूं. वो कलाई नहीं जिस पर राखी बांध सकूं. वो मुंह नहीं जिसे मीठा कर सकूं. वो माथा नहीं जिसे चूम सकूं. वो भाई नहीं जिसे गले लगा सकूं.

वर्षों पहले जब तुम जब आए थे तो जीवन जगमग हो उठा था. जब थे तो उजाला ही उजाला था. अब जब तुम नहीं हो तो मुझे समझ नहीं आता कि क्या करूं? तुम्हारे बगैर मुझे जीना नहीं आता. कभी सोचा नहीं कि ऐसा भी होगा. ये दिन होगा पर तुम नहीं होगे. ढेर सारी चीजें हमने साथ-साथ सीखी. तुम्हारे बिना रहना मैं अकेले कैसे सीखूं. तुम्हीं कहो.

हमेशा तुम्हारी

रानी दी

बता दें कि सुशांत सिंह की तीन बहनें हैं. बड़ी बहन रानी सिंह, दूसरी बहन श्वेता कृति सिंह और तीसरी मीतू सिंह हैं. श्वेता अमेरिका, रानी सिंह फरीदाबाद जबकि मीतू मुंबई में रहती हैं.

देखिये फिक्र आपकी सोमवार से शुक्रवार टीवी 9 भारतवर्ष पर हर रात 9 बजे

Related Posts