अजय देवगन को क्यों तनुश्री ने बताया ‘नैतिक रूप से दिवालिया’?

यह हमला तनुश्री ने अजय देवगन पर इसलिए बोला है क्योंकि उन्होंने अपनी फिल्म दे दे प्यार दे में मीटूआरोपित अभिनेता आलोक नाथ को काम करने का मौका दिया है.

मुंबई: तनुश्री दत्ता ने मीटू अभियान के जरिए बॉलीवुड के जानेमाने अभिनेता नाना पाटेकर के खिलाफ यौन शोषण का आरोप लगाया था और अब तनुश्री ने अजय देवगन को नैतिक रूप से दिवालिया करार दे दिया है. तनुश्री ने यह बात अजय देवगन को लिखे अपने एक ओपन लेटर में कही है.

यह हमला तनुश्री ने अजय देवगन पर इसलिए बोला है क्योंकि उन्होंने अपनी फिल्म दे दे प्यार दे में मीटू आरोपित अभिनेता आलोक नाथ को काम करने का मौका दिया है.

तनुश्री ने अपने ओपन लेटर में लिखा, “चमकता टाउन झूठों, दिखावटी और कपटी लोगों से भरी हुई है. भारत में मीटू अभियान के दौरान अभिनेता (अजय देवगन) ने ट्वीट कर कसम खाई थी कि वे यौन शोषण के आरोपियों के साथ कभी काम नहीं करेंगे और अब हैरान हूं यह देखकर कि वे रेप और यौन शोषण के आरोपी आलोक नाथ के साथ काम कर रहे हैं और उन्हें बॉलीवुड में लाने के लिए उनका समर्थन कर रहे हैं.”

इसके आगे तनुश्री ने अपने लेटर में लिखा, “जब तक ‘दे दे प्यार दे’ का ट्रेलर सामने नहीं आया, तब तक फिल्म निर्माताओं ने यह पता नहीं चलने दिया कि आलोक नाथ इस फिल्म का हिस्सा हैं. क्या उनके लिए यह काम मुश्किल था कि आलोक नाथ के सीन को एडिट करके हटा दिया जाता और फिर किसी दूसरे कलाकार को लेकर सीन को शूट कर लिया जाता? फिल्ममेकर और अजय देवगन चाहते तो चुपचाप आलोक नाथ को हटा सकते थे और रीशूट कर सकते थे, और विंता नंदा को सम्मान दे सकते थे जो वो डिसर्व करती हैं, लेकिन नहीं, उन्होंने अपनी फिल्म में रेप के आरोपी को रखा.”

इसके आगे तनुश्री कहती हैं, “अब भारत को जागने की जरूरत है कि अब ऐसे नैतिक रूप से दिवालिया हो चुके अभिनेताओं, निर्देशकों, निर्माताओं और अन्यों को पूजना बंद किया जाए.”