जब रामानंद सागर से राज कुमार ने कहा- ये रोल तो मेरा कुत्ता भी नहीं करना चाहेगा

3 जुलाई 1996 को 70 की उम्र में राज कुमार का निधन हो गया, पर आज भी जब भी कोई Brigadier का नाम लेता है तो लोगों के दिमाग पहला चेहरा राज कुमार का है आता है.
Actor Rajkumar, जब रामानंद सागर से राज कुमार ने कहा- ये रोल तो मेरा कुत्ता भी नहीं करना चाहेगा

ना तलवार की धार से ना गोलियों बौछार से बंदा डरता हा तो सिर्फ परवरदिगार से  या जानी…हम तुम्हें मारेंगे और जरूर मारेंगे, पर बंदूक भी हमारी होगी और गोली भी हमारी होगी और वह वक्त भी हमारा होगा… हिंदी फिल्मों का वो सुपरस्टार जिनकी आवाज़, अदाइगी और रुतबे के लोग आज भी दीवाने हैं.. हम बात कर रहे हैं अभिनेता राज कुमार की.

राज कुमार अपने दौर के वो एक्टर थे, जिन्हें फिल्मों में अपनी रौबीली आवाज और दमदार डायलॉग्स के अलावा उनकी हाजिर जवाबी के लिए भी जाना जाता था. राज कुमार का जन्म 8 अक्टूबर 1926 को बलूचिस्तान में कश्मीरी पंडित परिवार में हुआ था. 50 से लेकर 90 के दशक तक कई फिल्मों में उन्होंने मुख्य किरदार निभाए. वो ऐसे शख्स थे जो ना किसी से डरते थे और ना ही उन्हें कभी किसे के नाराज होने की परवाह रही. कब किसकी बेइज्जती कर दें, वो भी सलीके से कोई नहीं जानता था.

देखिए NewsTop9 टीवी 9 भारतवर्ष पर रोज सुबह शाम 7 बजे

1968 में आई फिल्म ‘आंखें’ को लेकर राज कुमार का एक मशहूर किस्सा जुड़ा हुआ है. फिल्म तो धमेंद्र ने की थी पर किस्सा राज कुमार का है. हुआ यूं कि रामानंद सागर फिल्म में अपने दोस्त राज कुमार को कास्ट करना चाहते थे. वे उनके घर पहुंचे, कहानी सुनाई. पर शायद राज कुमार को कहानी पसंद नहीं आई और उन्होंने अपने पालतू कुत्ते को आवाज लगाई. जैसे ही उनका डॉगी पहुंचा राज कुमार ने पूछा- क्या तुम रोल करना चाहते हो? कुत्ते ने उनकी ओर देखा और गर्दन हिला दी. इसके बाद राज कुमार रामानंद सागर की ओर मुड़े और कहा- देखा ये रोल तो मेरा कुत्ता भी नहीं करना चाहेगा. रामानंद सागर उस वक्त वहां से चले गए. फिल्म धर्मेंद्र को ऑफर हुई और बॉक्स ऑफिस पर बहुत हिट रही. इसे धर्मेंद्र की अच्छी फिल्मों में गिना जाता है. इस घटना के बाद रामानंद ने कभी भी राज कुमार के साथ काम नहीं किया.

अंत के दिनों में सौदागर और तिरंगा जैसी फिल्मों में राज कुमार ने शानदार रोल प्ले किए और बता दिया कि क्यों वे एक सदाबहार अभिनेता थे. 3 जुलाई 1996 को 70 की उम्र में उनका निधन हो गया पर आज भी जब भी कोई Brigadier का नाम लेता है तो लोगों के दिमाग पहला चेहरा राज कुमार का है आता है.

Related Posts