लक्ष्मी के चेहरे पर तेजाब चाहे बशीर ने फेंका हो या फिर राजेश ने…वो दरिंदा अपराधी ही है, VIDEO

सोशल मीडिया पर जो कहा जाता है वो किसी तथ्य पर आधारित नहीं होता. वैसा ही कुछ इस फिल्म के साथ भी हुआ है,
Fact Check of Chaapaak Film Dispute, लक्ष्मी के चेहरे पर तेजाब चाहे बशीर ने फेंका हो या फिर राजेश ने…वो दरिंदा अपराधी ही है, VIDEO

Facebook और WhatsApp यूनिवर्सिटी का ज्ञान कितना घातक होता है इसके कई प्रमाण हम पहले देख चुके हैं. कहीं की भी तस्वीरें उठाकर लोग कुछ भी ज्ञान बघार देते हैं. उन ‘बुद्धिजीवियों’ को ये समझ नहीं आता उनका एक महान ज्ञान आम लोगों पर कितना घातक सिद्ध हो सकता है. इन तस्वीरों को सोशल मीडिया में वायरल करने वाला गैंग उनसे भी ज्यादा ज़ाहिलाना हरकत करते हैं. कुछ लाइक्स और हिट्स के लिए फर्जी कहानियां, तस्वीरें और वीडियो बिना किसी जांच के आगे की ओर प्रवाहित कर देते हैं. अब इस बात का क्या मतलब कि नो किस महजब का है. चाहे वो किसी भी मजहब का हो लेकिन साफ बात ये है कि वो एक गुनहगार है. उसने एक संगीन जुर्म किया है.

इतना सब लिखने का कारण है फिल्म ‘छपाक’ में शुरू हुआ विवाद. ये फिल्म एक बेहद संजीदा और गंभीर मसले पर आधारित है. जिसको लोगों को भरपूर समर्थन मिल रहा है. लेकिन फिल्म में एक किरदार को लेकर बहस छिड़ी हुई है. फेसबुकिया यूनिवर्सिटी से डी-लिट की उपाधि पाए ज्ञानवीरों का कहना था कि इस फिल्म में जिस शख्स ने लक्ष्मी अग्रवाल पर तेजाब फेंका वो मुस्लिम था, लेकिन फिल्म के अंदर उसे हिंदू दिखाया गया. इसी बात पर सोशल मीडिया के खलिहर लग गए अपने काम में और अभिनेत्री दिपिका पादुकोण और फिल्म की निर्देशन मेघना गुलज़ार को लगे ट्रोल करने में. लेकिन ये बात सरासर गलत है.


सोशल मीडिया पर जो कहा जाता है वो किसी तथ्य पर आधारित नहीं होता. वैसा ही कुछ इस फिल्म के साथ भी हुआ है, क्योंकि फिल्म में बशीर खान को आरोपी दिखाया गया है, न कि किसी हिंदू को. लेकिन फिर बाद में साफ हुआ कि ये महज अफवाहें थी.

छपाक को लेकर कई अफ़वाहें भी सामने आई और उन्हीं में से एक थी कि छपाक के मेकर्स ने अपनी फिल्म छपाक, जो कि एसिड अटैक सर्वाइवर लक्ष्मी अग्रवाल के संघर्ष की कहानी है. इस फिल्म में लक्ष्मी अग्रवाल बनी दीपिका उर्फ मालती पर तेजाब फेंकने वाला एक हिंदु है जिसका नाम राजेश दिखाया गया है जबकि असलियत में लक्ष्मी अग्रवाल पर तेजाब फेंकने वाले का नाम नदीम खान था.

छपाक में दिखाया गया एसिड अटैकर यानि तेजाब फ़ेंकने वाले का नाम बशीर शेख उर्फ बब्बू है और फ़िल्म में बशीर शेख का किरदार विशाल दहिया ने प्ले किया है. जो फ़िल्म में राजेश के रूप में नजर आएंगे वह मालती के टीनेज लव इंटरेस्ट है और राजेश का किरदार अंकित विष्ठ ने निभाया है.

दरअसल, इस विवाद से जोर तब पकड़ा सपा संरक्षक मुलायम सिंह यादव की बहू व राजनेता अपर्णा यादव ने बॉलीवुड की अपकमिंग फिल्म ‘छपाक’ पर सवाल उठाए. उन्होंने ट्वीट करके सवाल किया है कि ‘नदीम‌ खान ने लक्ष्मी अग्रवाल पर एसिड फेंका था, ‘छपाक’ में नदीम खान को ‘राजेश’ दिखाया गया है. क्यों?

अर्पणा यादव ने ट्वीट किया, “नदीम‌ खान ने लक्ष्मी अग्रवाल पर एसिड फेंका था. फिल्म ‘छपाक’ में नदीम खान को ‘राजेश’ दिखाया गया है. क्यों? इस ट्वीट को मुस्लिम समाज के विरोध में ना देखें यह बॉलीवुड की इन कलाकारों की कमी है. इस तरह की फिल्में बनाते समय फैक्ट्स से क्यों खिलवाड़ किया जाता है.”

सोशल मीडिया में #Boycott_Chhapaak ट्रेंड चलाया जा रहा है. यूजर्स इसमें न जानें किस तरह के फैक्ट्स इकट्ठा कर रहे हैं. ऐसे फैक्ट्स तो खुद दीपिका पादुकोण को भी अपने बारे में नहीं पता होंगे. दो दिनों के भीतर उनका लिंक आईएसआईएस से भी कर दिया. उनको तमाम संगठनों से जुड़ा हुआ पता दिया.

यहां देखिए कुछ ऐसे ही ज्ञानवीरों के ज्ञान 

Fact Check of Chaapaak Film Dispute, लक्ष्मी के चेहरे पर तेजाब चाहे बशीर ने फेंका हो या फिर राजेश ने…वो दरिंदा अपराधी ही है, VIDEO

Fact Check of Chaapaak Film Dispute, लक्ष्मी के चेहरे पर तेजाब चाहे बशीर ने फेंका हो या फिर राजेश ने…वो दरिंदा अपराधी ही है, VIDEO

Related Posts