अरुण जेटली के नाम स्‍टेडियम करने पर बवाल क्‍यों? जानिए राजीव गांधी के नाम पर हैं कितने स्‍टेडियम

राजीव गांधी के नाम पर दो क्रिकेट और एक इंडोर स्टेडियम देश में पहले से मौजूद है.

दिल्ली एवं जिला क्रिकेट संघ (डीडीसीए) ने फिरोज शाह कोटला स्टेडियम का नाम अरुण जेटली स्टेडियम करने का फैसला किया है. भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) नेता अरुण जेटली का हाल ही में निधन हो गया. क्रिकेट स्टेडियम का नाम बदले जाने को लेकर सोशल साइट्स पर वाकयुद्ध छिड़ गया है. एक वर्ग क्रिकेट स्टेडियम का नाम बदलने को लेकर आपत्ति ज़ाहिर कर रहा है. उनका कहना है कि बेहतर होता कि नाम नहीं बदला जाता, एक नया स्टेडियम बना दिया जाता.

वहीं एक अन्य वर्ग का कहना है कि राजीव गांधी के नाम पर इतने सारे स्टेडियम हैं तो फिर देश के एक स्टेडियम का नाम पूर्व वित्त मंत्री अरुण जेटली के नाम पर रखने में क्या ख़राबी है.

एक ट्विटर यूजर लिखते हैं कि कांग्रेस के शासनकाल में भी उनके नेताओं के नाम पर स्टेडियम के नाम रखे गए, मुझे उससे कोई दिक्कत नहीं है. लेकिन फिरोज शाह कोटला क्रिकेट स्टेडियम के नाम बदले जाने को लेकर कांग्रेस का विरोध टीक नहीं लगता है.

बता दें कि राजीव गांधी के नाम पर दो क्रिकेट और एक इंडोर स्टेडियम देश में पहले से मौजूद है. हैदराबाद और देहरादून में राजीव गांधी अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट स्टेडियम है जबकि केरल में राजीव गांधी इंडोर स्टेडियम है. वहीं अरुण जेटली के नाम पर यह पहला क्रिकेट स्टेडियम है.

ज़ाहिर है जेटली डीडीसीए के अध्यक्ष और भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) के उपाध्यक्ष रह चुके थे. स्टेडियम के नाम बदलने का समारोह 12 सितंबर को होगा और इसी दिन स्टेडियम के एक स्टैंड का नाम भारतीय टीम के कप्तान विराट कोहली के नाम पर रखा जाएगा.

डीडीसीए ने ट्विटर पर स्टेडियम का नाम बदलने की जानकारी दी.

डीडीसीए ने ट्वीट किया, “कोटला का नाम अब बदल कर अरुण जेटली स्टेडियम कर दिया जाएगा. दिल्ली के ऐतिहासिल क्रिकेट स्टेडियम के नाम बदलने का समारोह 12 सितंबर को होगा और इसी दिन स्टेडियम के एक स्टैंड का नाम विराट कोहली के नाम पर किया जाएगा.”

इससे पहले, भाजपा सांसद और पूर्व क्रिकेटर गौतम गंभीर ने भी दिल्ली के उप-राज्यपाल अनिल बैजल को पत्र लिखकर गुजारिश की थी कि यमुना स्पोर्ट्स कॉम्पलेक्स का नाम जेटली के नाम पर किया जाना चाहिए.

पूर्व केंद्रीय मंत्री जेटली का 24 अगस्त को लंबी बीमारी के बाद एम्स अस्पताल में निधन हो गया था.

भारतीय टीम विंडीज के खिलाफ खेले गए पहले टेस्ट में जेटली के निधन के शोक में काली पट्टी बांध कर मैदान पर उतरी थी.

डीडीसीए के अध्यक्ष रजत शर्मा ने कहा, “उस शख्स के नाम पर स्टेडियम का नाम रखने से बेहतर और क्या होगा जिसने अपनी अध्यक्षता में इस स्टेडियम को दोबारा बनाया. यह अरुण जेटली का ही साथ और समर्थन था कि वीरेंद्र सहवाग, विराट कोहली, गौतम गंभीर, आशीष नेहरा, ऋषभ पंत जैसे दिल्ली के कई खिलाड़ियों ने भारत का मान बढ़ाया.”

जेटली ने डीडीसीए का अध्यक्ष रहते हुए फिरोज शाह कोटला में पुनर्निर्माण कराया था जिसमें आधुनिक सुविधाएं, दर्शकों के बैठने की क्षमता, विश्व स्तरीय ड्रेसिंग रूम आदि शामिल हैं.