वीडियो गेम को सर्जिकल स्ट्राइक बताकर सबने किया वायरल!

जैश के ठिकानों पर भारत का हमला बताकर जिस वीडियो को धड़ाधड़ शेयर किया जा रहा है, वह असल में एक वीडियो गेम है, जिसका नाम Arma 2 है.


नयी दिल्ली: पुलवामा हमले के 12 दिन बाद भारतीय वायुसेना ने आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद के खिलाफ बड़ी कार्रवाई की है. मंगलवार तड़के 3.50 बजे भारतीय वायु सेना के मिराज-2000 लड़ाकू विमानों ने लाइन ऑफ कंट्रोल पार कर पड़ोसी मुल्क में घुसकर हमला किया, जिसके बाद पूरे देश ने भारतीय वायु सेना के पराक्रम को नमन किया. हालांकि थोड़ी ही देर बाद तमाम सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर एक वीडियो वारयल होने लगा, जिसमें ये दावा किया गया कि यह भारतीय वायुसेना का 26 फरवरी, 2019 को तड़के पाकिस्तान में किया गया हवाई हमला है.

धड़ाधड़ इस वीडियो को लोगों ने शेयर किया और अलग-अलग मैसेज लिख सेना के पराक्रम की जमकर तारीफ की. कुछ लोगों ने इसे सबूत के तौर पर पेश किया और लिखा भारतीय वायुसेना द्वारा पाकिस्तान में हमले का ये जीता जागता सबूत है. वहीं कुछ ने लिखा कि देखिए कैसे भारतीय वायुसेना ने आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद के ठिकानों को तबाह कर दिया.

क्या है वीडियो की सच्चाई
फेक न्यूज का इससे बड़ा हास्यास्पद उदाहरण क्या हो सकता है कि जिस वीडियो को जैश के ठिकानों पर भारत का हमला बताकर धड़ाधड़ शेयर किया जा रहा है, वह असल में एक वीडियो गेम है, जिसका नाम Arma 2 है. हैरानी की बात ये है कि लोगों ने इस ऐनिमेटिड वीडियो को इतने संवेदनशील मामले में बिना जांच पड़ताल किए झमाझम शेयर कर दिया, जबकि हकीक़त ये है कि सोशल मीडिया समेत कई बड़े भारतीय टीवी न्यूज़ चैनलों पर दिखाया जा रहा ‘पाकिस्तान में तथाकथित भारतीय एयरस्ट्राइक’ का वीडियो 26 फ़रवरी की सुबह का नहीं, बल्कि पुराना है. यह वीडियो ट्विटर और फेसबुक पर भारत समेत पाकिस्तान में #Surgicalstrike2, #IndianAirForce और #Balakot के टॉप ट्रेंड्स में चल रहा है. पाकिस्तान में किए गए खास ऑपरेशन के नाम पर इस तरह का वीडियो जब न्यूज़ चैनलों और वेबसाइट्स पर बिना पुष्टि डाला गया तो सच सामने आने पर उनकी खिल्ली खूब उड़ी.

कैसे निकली सच्चाई
वीडियो को देखते ही आप समझ जाएंगे कि ये ऐनिमेटिड है. इस वायरल वीडियो में साफ-साफ कुछ लोग एक पुरानी इमारत के क़रीब भागते हुए दिखाई देते हैं, जिन्हें एक फ़ाइटर विमान अपना निशाना बना लेता है. इसके साथ ही गोलियों के चलने की आवाजें भी रह-रह कर आती है, जबकि गोलियों की जगह हमले में गोले का इस्तेमाल किया गया है. यहीं से ये स्पष्ट हो जाता है कि वीडियो पूरी तरह से फर्जी है और आधी रात को वायुसेना द्वारा की गई कार्रवाई का वीडियो नहीं है. इसके अलावा वीडियो में 17:21:07 का वक्त दिख रहा है, जबकि भारत के विदेश सचिव विजय गोखले ने देश को जानकारी दी कि भारतीय वायु सेना ने हमला आधी रात को किया था. ऐसे में इस ओर ध्यान ना जाना भी बड़ा हास्यास्पद है.

इसके अलावा हमने गूगल क्रोम के एक्सटेंशन InVid की मदद से वीडियो को कई फ्रेम्स में बांटा और फिर एक फ्रेम को रिवर्स इमेज सर्च करने पर हमें कुछ यूट्यूब के लिंक मिले, जिनमें से एक ठीक इसी वीडियो का था और इसके बाद ये साफ हो गया कि ये वीडियो पूरी तरह से फर्जी है. असलियत में ये ‘आर्मा-2’ नाम के एक वीडियो गेम की रिकॉर्डिंग है. सैन्य अभियानों पर आधारित इस वीडियो गेम की ये रिकॉर्डिंग 9 जुलाई 2015 को यू-ट्यूब पर पोस्ट की गई थी.