एयर स्ट्राइक को लेकर हड़बड़ी में इतनी बड़ी गड़बड़ी! दिखा दिया पाक एयर शो का वीडियो

पाकिस्तान में भारतीय वायुसेना की एयर स्ट्राइक की ख़बर का वीडियो दिखाने की रेस में न्यूज़ चैनलों ने पाकिस्तान के एयर शो समेत कई पुराने वीडियो दिखा दिए. राष्ट्रहित से जुड़ी ख़बरों को लेकर न्यूज़ चैनल्स का ये बेहद गैरज़िम्मेदाराना रवैया है.

नई दिल्ली। नंबर वन बनने, सबसे तेज़ होने का दावा करने और हर ख़बर सबसे पहले दिखाने की रेस ने भारतीय जांबाज़ों की एयर स्ट्राइक को लेकर सोशल मीडिया पर हिंदुस्तान को शर्मिंदा किया है. सुबह जब ये ख़बर आई कि भारतीय वायुसेना ने PoK से लेकर पाकिस्तान की सीमा के अंदर घुसकर हवाई हमला किया है. मिराज-2000 लड़ाकू विमान से इंडियन एयरफोर्स ने 1,000 किलो के बम बरसाए. न्यूज़ चैनलों पर बड़ी-बड़ी ब्रेकिंग चलने लगीं. चलनी भी चाहिए, लेकिन अचानक कुछ चैनलों पर दो वीडियो दिखाए जाने लगे. चैनल्स ने दावा किया कि ये वीडियो पाकिस्तान पर भारत की एयर स्ट्राइक के हैं. इसी दौरान पाकिस्तान की सेना ने भी सोशल मीडिया पर हमले से जुड़ी कुछ तस्वीरें शेयर कीं. न्यूज़ चैनलों ने पाकिस्तानी सेना की तस्वीरें और सोशल मीडिया पर वायरल हो चुके 2 वीडियो दिखाने शुरू कर दिए. देश के कुछ न्यूज़ चैनल्स ने ख़बर की संवेदनशीलता के साथ समझौता किया गया. देश की रक्षा नीति से जुड़े इस मामले में वीडियो दिखाने से पहले उसकी सत्यता की पुष्टि नहीं की. जब पुराने वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल होने के बाद देश के न्यूज़ चैनलों पर दिखने लगे तो सोशल मीडिया पर ही सारा मामला खुला.

जब तक देश के चैनल्स अपनी गलती सुधारते तब तक देर हो चुकी थी. पाकिस्तान के सोशल मीडिया यूज़र्स हिंदुस्तान का मज़ाक उड़ाने लगे. इसके साथ ही कई अंतर्राष्ट्रीय वेबसाइट्स पर भारत की एयर स्ट्राइक की ख़बर के साथ-साथ देश के न्यूज़ चैनलों की भारी भूल भी सुर्ख़ियां बनने लगी. देश-विदेश की मीडिया कंपनियों ने अपनी वेबसाइट्स पर झूठे वीडियो का पूरा सच बताया है.

बीबीसी की रिपोर्ट के मुताबिक़ मिराज-2000 से बमबारी का जो वीडियो कुछ चैनलों पर सुबह शेयर किया गया, उस पर पाकिस्तानी सोशल मीडिया यूज़र्स ने कमेंट किए हैं. पाकिस्तानी सोशल मीडिया के यूज़र्स का दावा है कि जो 2 वीडियो भारतीय चैनलों द्वारा दिखाए गए हैं, उनमें से एक पाकिस्तान के एयर शो का है और दूसरा विमान इस्लामाबाद की इमारतों के ऊपर मंडराते हुए लाइट फ्लेयर छोड़ता नज़र आ रहा है. पाकिस्तान के सोशल मीडिया यूज़र्स का दावा है कि ये वीडियो 22 सितंबर 2016 का है. यू ट्यूब में पहले से पोस्ट किए गए ये वीडियो भारत की एयर स्ट्राइक के बाद सोशल मीडिया पर फिर से वायरल होने लगे.

पाकिस्तान के पत्रकार हामिद मीर का 22 सितंबर 2016 वाला ट्वीट इस्लामाबाद में विमानों की गश्त करने की पुष्टि करता है. 2016 की ऑनलाइन रिपोर्ट्स के मुताबिक 18 सिंतबर को हुए उरी हमले के बाद पाकिस्तानी वायुसेना ने संभावित हमले की आशंका में इस्लामाबाद और उसके आसपास एयर ज़ोन में विमानों की लैंडिंग का अभ्यास किया था. उस वक्त भारत में भी इस बारे में ख़बरें चली थीं.

मिराज-2000 नहीं बल्कि F-16 और रफ़ाल विमान का वीडियो!

क्विंट हिंदी के मुताबिक 23 सितंबर 2016 को मोहम्मद जोहेब नाम के शख़्स ने यू-ट्यूब पर पाकिस्तान के F-16 विमान का वीडियो अपलोड किया था. इसके अलावा सोशल मीडिया पर रफाल विमान से हमले वाला वीडियो भी एयर स्ट्राइक से जुड़ा बताया गया, जबकि भारतीय वायुसेना ने हमले में मिराज-2000 का इस्तेमाल किया है. यानी इस तरह के कई वीडियो पुराने हैं और भारत की एयर स्ट्राइक से इनका कोई लेना-देना नहीं है.

न्यूज़ चैनलों में नंबर वन बनने की रेस ने राष्ट्र के हितों की अनदेखी की है और गैरज़िम्मेदाराना रवैया दिखाया है. ख़बर छोटी हो या बड़ी, उससे जुड़े तथ्य दिखाते समय पहले इस बात की पुष्टि बहुत ज़रूरी है कि जो भी दिखाया जा रहा है वो सही हो. क्योंकि, झूठ किसी के हित में नहीं हो सकता.