जन्माष्टमी पर पहली बार श्रद्धालुओं के लिए द्वारकाधीश मंदिर बंद, 10-13 अगस्त तक यात्राओं पर रोक

कोरोनावायरस (Coronavirus) की वजह से जन्माष्टमी के मौके पर द्वाराकाधीश मंदिर में 10 अगस्त से 13 अगस्त तक लगने वाले मेले में श्रद्धालुओं के दर्शन और मंदिर यात्राओं पर पूरी तरह रोक लगा दी है.

हर साल जन्माष्टमी (Janmashtami) पर श्रीकृष्ण की नगरी द्वारका और मथुरा में खास तरह की रौनक बनी रहती है. यहां दूर – दूर से श्रद्धालु जन्माष्टमी पर भगवान के दर्शन करने आते हैं. द्वारकाधीश इतिहास में पहली बार जन्माष्टमी पर्व पर 10 से लेकर 13 तारीख तक दर्शनार्थियों के लिए बंद रखा जाएगा.

प्रशासन ने कोरोनावायरस (Coronavirus) की वजह से जन्माष्टमी के मौके पर द्वारकाधीश मंदिर में 10 अगस्त से 13 अगस्त तक लगने वाले मेले में श्रद्धालुओं के दर्शन और मंदिर यात्राओं पर पूरी तरह रोक लगा दी है. हालांकि मंदिर में उसी विधि- विधान से पूजा होगी.

देखिए NewsTop9 टीवी 9 भारतवर्ष पर रोज सुबह शाम 7 बजे

डीएम ने जारी किया आदेश

देवभूमि द्वारका के जिला कलक्टर डॉ. नरेंद्र कुमार मीणा ने पुलिस प्रशासन और मंदिर प्रशासन से सलाह लेने के बाद आदेश जारी किया है.

कोरोनावायरस (Coronavirus) के मुश्किल समय में जिला प्रशासन के अनुसार लगभग 1.50 लाख श्रद्धालुओं के आने की उम्मीद है. डीएम एन. के मीणा ने कहा, जन्माष्टमी के मौके पर बड़ी संख्या में श्रद्धालुओं के आने की उम्मीद है. उन्होंने कहा कि पास के हिसाब से भीड़ पर नियंत्रण नहीं कर सकते हैं क्योंकि उस प्रणाली में हम एक दिन में केवल 10 हजार लोगों को समयोजित कर सकते हैं.

द्वारकाधीश मंदिर में 4 दिनों तक उत्सव

बताते चलें कि गुजरात के द्वारकाधीश मंदिर में चार दिनों तक जन्माष्टमी का पर्व मनाया जाता है. इस पर्व के आयोजन की तैयारियां पहले से ही शुरू हो जाती है. देश में भगवान श्रीकृष्ण की जन्मस्थली मथुरा और कर्म स्थली द्वारका की जन्माष्टमी लोकप्रिय है. इस दिन लाखों श्रद्धालु दर्शन करने के लिए पहुंचते हैं.

देखिये #अड़ी सोमवार से शुक्रवार टीवी 9 भारतवर्ष पर शाम 6 बजे

Related Posts