सूरत के कोचिंग सेंटर में कुर्सियों के रूप में हो रहा था टायरों का इस्तेमाल, इसलिए तेजी से फैली आग

गुजरात के मुख्य सचिव जे. एन. सिंह ने बताया कि उच्च ज्वलनशील सामग्री के इस्तेमाल और कोचिंग की कक्षाओं में कुर्सी के रूप में टायरों के इस्तेमाल की वजह से आग तेजी से फैली.

अहमदाबाद: सूरत के कमर्शल कॉम्प्लेक्स में लगी आग को भड़काने का काम ज्वलनशील पदार्थ, फ्लेक्स और टायरों की मौजूदगी ने किया. साथ ही दमकल की गाड़ियों के घटनास्थल से काफी दूर होने की वजह से आग बुझाने में काफी दिक्कतें आईं. गुजरात के मुख्य सचिव जे. एन. सिंह ने रविवार को यह जानकारी दी.

जे एन सिंह ने बताया कि शुरुआती जांच में यह खुलासा हुआ कि उच्च ज्वलनशील सामग्री के इस्तेमाल और कोचिंग की कक्षाओं में कुर्सी के रूप में टायरों के इस्तेमाल की वजह से आग तेजी से फैली. उन्होंने कहा, “यह एक बुरा सबक है, लेकिन हम यह सुनिश्चित करने के लिए सख्त कार्रवाई शुरू करेंगे कि इस तरह की घटना कहीं दोबारा न घटे. सूरत में आग से हम बहुत दुखी हैं.”


‘सूरत में 50 संपत्तियों को किया गया सील’
जे एन सिंह ने कहा कि गुजरात में 9,965 संपत्तियों को नोटिस जारी किए गए हैं, और इसके लिए 713 टीमें तैनात की गई हैं. उन्होंने कहा कि शनिवार और रविवार के बीच प्रशासन ने अग्नि सुरक्षा नियमों के विभिन्न उल्लंघनों के लिए सूरत में कम से कम 50 संपत्तियों को सील कर दिया है. सूरत में 1,123 संपत्तियों को अग्नि सुरक्षा नियमों का पालन करने के लिए नोटिस जारी किए गए हैं.

जे एन सिंह ने कहा कि मुख्यमंत्री विजय रूपाणी बहुत परेशान हैं और सख्त कार्रवाई चाहते हैं. रूपाणी अग्निकांड के बाद तत्काल सूरत पहुंचे थे. सूरत के सरथना इलाके में स्थित तीन मंजिला इमारत तक्षशिला की छत पर चौथी मंजिल के रूप में बने एक ढाचे में चल रहे एक कोचिंग सेंटर में पढ़ रहे 22 विद्यार्थियों की जान शुक्रवार को इस अग्निकांड में चली गई. इन विद्यार्थियों की उम्र 14 से 17 साल थी.

14 विद्यार्थियों का चल रहा इलाज
सरकारी सूत्रों के अनुसार, अग्निकांड में झुलसे 14 विद्यार्थियों का इलाज अभी भी सूरत के चार विभिन्न अस्पतालों में चल रहा है. इनमें से तीन को गहन चिकित्सा इकाई में रखा गया है. राज्य के मुख्य सचिव ने कहा कि सूरत नगर निगम ने इमारत की चौथी मंजिल पर बने ढाचे में अग्नि सुरक्षा नियमों की अनदेखी की गई थी. इसके लिए उप अग्निशमन अधिकारी एस.के. आचार्य और अग्निशमन अधिकारी को पहले ही निलंबित कर दिया है.

ये भी पढ़ें-

टोपी पहनने और ‘जय श्री राम’ न कहने पर अज्ञात लोगों ने कर दी मुस्लिम युवक की पिटाई

पीएम मोदी ने भाषण में किया अल्पसंख्यकों के डर जिक्र, तो ओवैसी ने साधा उनपर निशाना

सोनिया गांधी ने रायबरेली की जनता को लिखा खत, सपा-बसपा का जताया आभार