गुजरात में सियासी उठापटक तेज, जयपुर पहुंचे कांग्रेस के 16 विधायक

कांग्रेस (Congress) को डर है कि कहीं उसके विधायक भाजपा के पाले में न चले जाएं, इसलिए उसने शनिवार को अपने 14 विधायकों को इंडिगो फ्लाइट से राजस्थान के लिए रवाना कर दिया. वहीं पांच विधायक सड़क मार्ग से राजस्थान के लिए रवाना हो गए.
rajya sabha election 2020, गुजरात में सियासी उठापटक तेज, जयपुर पहुंचे कांग्रेस के 16 विधायक

गुजरात कांग्रेस (Gujarat Congress) विधायकों का जयपुर (Jaipur) में जमावड़ा लगता जा रहा है. गुजरात कांग्रेस के 16 विधायक रविवार शाम को फिर जयपुर पहुंचे हैं. सभी कांग्रेस विधायकों को एयरपोर्ट से होटल पहुचाया जा चुका है.

विधायकों को एयरपोर्ट से लाने ले जाने के लिए कांग्रेस लीडर और मुख्य सचेतक महेश जोशी को जिम्मेदारी दी गई थी. एयरपोर्ट पर मुख्य सचेतक महेश जोशी ने सभी 16 विधायकों की अगुवानी की.

इस दौरान कांग्रेस विधायकों से मीडिया ने जब जयपुर पहुंचने का कारण जाना तो विधायको नें निजी यात्रा कहते हुए मीडिया से दूरी बनाने की कोशिश की. हालांकि एक विधायक ने जवाब देते हुए कहा कि गुजरात में काग्रेस विधायक अपने राज्यसभा के उम्मीदवार को जीताएगें. कांग्रेस के पास पूर्ण बहुमत है.

rajya sabha election 2020, गुजरात में सियासी उठापटक तेज, जयपुर पहुंचे कांग्रेस के 16 विधायक

कांग्रेस को विधायकों के पाला बदलने का डर

दरअसल, कांग्रेस को डर है कि कहीं उसके विधायक भाजपा के पाले में न चले जाएं, इसलिए उसने शनिवार को अपने 14 विधायकों को इंडिगो फ्लाइट से राजस्थान के लिए रवाना कर दिया. वहीं पांच विधायक सड़क मार्ग से राजस्थान के लिए रवाना हो गए.

अहमदाबाद हवाईअड्डे से जयपुर जाने वाले 14 विधायकों में लखाभाई भरवाड़ (वीरमगाम), पूनम परमार (सोजित्रा), जिनीबेन ठाकुर (वाव), चंदनजी ठाकुर (सिद्धपुर), रित्विक मकवाना (चोटिला), चिराग कालरिया (जामजोधपुर), बलदेवजी ठाकुर, नाथाभाई पटेल, हिम्मतसिंह पटेल, इंद्रजीत ठाकुर, राजेश गोहिल, अजितसिंह चौहान, हर्षद रिबादिया और प्रद्युम्न सिंह जडेजा शामिल हैं.

मीडिया से बात करते हुए राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा कि कांग्रेस विधायकों पर काफी दबाव है और भाजपा धन और बाहुबल से राज्यसभा चुनाव को प्रभावित करना चाहती है.

जीतने के लिए 37 वोटों की जरूरत

182 सदस्यीय गुजरात विधानसभा में भाजपा के पास 103, जबकि कांग्रेस के पास 73 विधायक हैं. राज्यसभा के उम्मीदवार को जीतने के लिए 37 वोटों की जरूरत होगी. दोनों पार्टियों के पास दो सीटें जीतने के लिए पर्याप्त ताकत है.

कांग्रेस को उम्मीद है कि निर्दलीय विधायक जिग्नेश मेवाणी उनके उम्मीदवार के लिए ही वोट करेंगे. राज्यसभा की चार सीटों में से फिलहाल भाजपा के पास तीन और कांग्रेस के पास 1 सीट है.

Related Posts