राज्यसभा चुनाव से पहले विधायकों को बचाने में जुटी Gujarat कांग्रेस, 65 MLA अलग-अलग रिसॉर्ट भेजे

कांग्रेस विधायकों का इस्तीफा देने का सिलसिला मार्च से ही जारी है. 173 सदस्यों वाली गुजरात विधानसभा (Gujarat Assembly) में अब कांग्रेस के 65 विधायक हैं और 9 सीटें खाली हैं.
Gujarat Congress MLAs sent to different resorts before Rajya Sabha Elections, राज्यसभा चुनाव से पहले विधायकों को बचाने में जुटी Gujarat कांग्रेस, 65 MLA अलग-अलग रिसॉर्ट भेजे

राज्यसभा चुनावों (Rajya Sabha Elections 2020) से पहले गुजरात कांग्रेस पर छाए संकट के बीच खबर है कि राज्य के 21 विधायक अंबाजी रिसॉर्ट पहुंचे हैं. 65 विधायकों को जोन वाइज अलग-अलग जगह भेजा गया है. राज्य में अस्तित्व बचाने में जुटी कांग्रेस के लिए हैरानी की बात तब हुई, जब जयपुर के रिसॉर्ट ले जाए गए 3 विधायकों ने भी पार्टी से किनारा करते हुए इस्तीफा दे दिया. राज्यसभा चुनाव से पहले कांग्रेस पार्टी के 8 विधायक इस्तीफा दे चुके हैं.

देखिये #अड़ी सोमवार से शुक्रवार टीवी 9 भारतवर्ष पर शाम 6 बजे

इससे पहले दो दिन के भीतर ही कांग्रेस के 3 विधायकों का इस्तीफा हुआ है. इसमें आखिरी नाम मोरबी से विधायक बृजेश मेरजा (Brijesh Merja)का जुड़ा है, जिन्होंने स्पीकर राजेंद्र त्रिवेदी को इस्तीफा सौंपा. राज्यसभा की चार सीटों के लिए 19 जून को चुनाव होना है.

मार्च से विधायकों के इस्तीफे का सिलसिला

कांग्रेस विधायकों का इस्तीफा देने का सिलसिला मार्च से ही जारी है. 173 सदस्यों वाली गुजरात विधानसभा (Gujarat Assembly) में अब कांग्रेस के 65 विधायक हैं और 9 सीटें खाली हैं. बृजेश के इस्तीफा देने पर स्पीकर राजेंद्र त्रिवेदी ने कहा कि मैंने उनका इस्तीफा मंजूर कर लिया है. वहीं कांग्रेस ने भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) पर राज्य सभा चुनाव जीतने के लिए उनकी पार्टी को तोड़ने का आरोप लगाया है. इससे पहले बुधवार को करजन से अक्षय पटेल और कपराडा सीट से जीतू चौधरी ने इस्तीफा दिया था. गुजरात विधानसभा के अध्यक्ष राजेंद्र त्रिवेदी ने कहा, “दोनों कांग्रेस विधायक कल (बुधवार) शाम त्यागपत्र के साथ मेरे पास आए. मैंने उनका सत्यापन किया. उन्होंने मास्क लगाए थे, मैंने उन्हें मास्क हटाने के लिए कहा और उनके चेहरों की पहचान करने के बाद फिर उनके इस्तीफे स्वीकार कर लिए. वे अब सदन के सदस्य नहीं हैं.”

कांग्रेस का भाजपा पर आरोप

कांग्रेस ने दो उम्मीदवारों शक्ति सिंह गोहिल और भरत सिंह सोलंकी को मैदान में उतारा है. गोहिल को पहली वरीयता का वोट मिलेगा और उनका राज्यसभा के लिए निर्वाचित होना निश्चित है, लेकिन भरत सिंह सोलंकी का भविष्य अधर में लटका है. अब केवल प्रबंधन कौशल ही उन्हें निर्वाचित कर सकता है. कांग्रेस के वरिष्ठ नेता अर्जुन मोडवाडिया ने कहा, “भाजपा हमारे विधायकों को लुभाने के लिए पैसे के साथ ही धमकी का इस्तेमाल कर रही है. अक्षय पटेल की खनन में व्यावसायिक हित हैं और इसलिए उन्हें लालच दिया गया है.”

देखिये फिक्र आपकी सोमवार से शुक्रवार टीवी 9 भारतवर्ष पर हर रात 9 बजे

Related Posts