बर्खास्त IPS संजीव भट्ट को कोर्ट ने सुनाई उम्रकैद की सजा, हिरासत में मौत से जुड़ा है मामला

पूर्व आईपीएस अधिकारी संजीव भट्ट को यह सजा 1990 में पुलिस कस्टडी में एक व्यक्ति की मौत हो जाने के मामले में सुनाई गई है.
IPS, बर्खास्त IPS संजीव भट्ट को कोर्ट ने सुनाई उम्रकैद की सजा, हिरासत में मौत से जुड़ा है मामला

नई दिल्ली: गुजरात के जामनगर कोर्ट ने बर्खास्त आईपीएस अधिकारी संजीव भट्ट को उम्रकैद की सजा सुनाई है. भट्ट को यह सजा 1990 में पुलिस कस्टडी में एक व्यक्ति की मौत हो जाने के मामले में सुनाई गई है. कोर्ट से उन्हें करीब 30 साल बाद यह सजा मिली है.

बता दें कि भट्ट गुजरात के जामनगर में अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक के पद पर तैनात थे. उनके कार्यकाल में हिरासत में एक व्यक्ति की मौत हो गई थी. अभियोजन पक्ष का दावा था कि भट्ट ने वहां एक सांप्रदायिक दंगे के दौरान सौ से ज्यादा लोगों को हिरासत में लिया था. इसी दौरान इनमें से ही एक व्यक्ति की रिहा किए जाने के बाद अस्पताल में मौत हो गई थी.


‘हिरासत में की गई मापीट’
अभियोजन पक्ष ने आरोप लगाया था कि भट्ट और उनके सहयोगियों ने पुलिस हिरासत में मारपीट की थी. इस मामले में संजीव भट्ट व अन्य पुलिसवालों के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया था, लेकिन गुजरात सरकार ने मुकदमा चलाने की इजाजत नहीं दी. हालांकि, राज्य सरकार ने 2011 में भट्ट के खिलाफ ट्रायल की अनुमति दे दी थी.

संजीव भट्ट ने इसे लेकर सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर की थी. कोर्ट ने बीते12 जून) को इस याचिका पर विचार करने से इनकार कर दिया था. भट्ट ने याचिका में अपने खिलाफ हिरासत में हुई मौत के मामले में गवाहों की नए सिरे से जांच की मांग की थी.

ये भी पढ़ें-

गुजरात में दलित सरपंच के पति की पीट-पीटकर हत्या, पुलिस से मांगी थी सुरक्षा

महाराष्ट्र में शिवसेना का होगा अगला सीएम, स्थापना दिवस पर लिया संकल्प

नौ महीने की मासूम से पड़ोसी ने की रेप की कोशिश, नाकाम होने पर गला घोंटकर की हत्या

Related Posts