सूरत अग्निकांड के आरोपी बिल्डर हर्षुल और जिग्नेश को पुलिस ने पकड़ा

गुजरात सरकार ने रविवार को राज्य में 9,000 से अधिक संपत्तियों के बिल्डरों से कहा कि वे तीन दिनों के भीतर अग्नि सुरक्षा के उपकरण स्थापित करें, नहीं तो कार्रवाई का सामना करने के लिए तैयार रहें.
सूरत, सूरत अग्निकांड के आरोपी बिल्डर हर्षुल और जिग्नेश को पुलिस ने पकड़ा

गांधीनगर: सूरत अग्निकांड के तीनों आरोपी पुलिस की गिरफ्त में आ चुके हैं. पुलिस ने कोचिंग संचालक भार्गव भूटानी को पहले ही पकड़ लिया था. जिसके बाद बिल्डर हर्षुल वेकारिया और जिग्नेश पालीवाल फरार हो गए थे. आखिरकार पुलिस ने उन्हें भी दबोच लिया है. सूरत पुलिस कमिश्नर सतीश शर्मा ने रविवार देर रात यह जानकारी मीडिया से साझा की.

शुक्रवार को सूरत कोचिंग सेंटर में आग लग गई थी. जिसके चलते 22 छात्रों की मौत हो गई थी. कोचिंग सेंटर में आग लगने की घटना में अधिकतर छात्रों की मौत दम घुटने से हुई. जबकि कुछ की मौत आग से बचने के लिए खिड़की से कूदने के कारण हुई. राज्य सरकार ने इस मामले में विस्तृत जांच के आदेश दिए हैं.

साथ ही गुजरात सरकार ने रविवार को राज्य में 9,000 से अधिक संपत्तियों के बिल्डरों से कहा कि वे तीन दिनों के भीतर अग्नि सुरक्षा के उपकरण स्थापित करें, नहीं तो कार्रवाई का सामना करने के लिए तैयार रहें. इनमें से 1,100 संपत्तियां सूरत में हैं.

गुजरात के मुख्यसचिव जे.एन. सिंह ने कहा, “यह एक बुरा सबक है, लेकिन हम यह सुनिश्चित करने के लिए सख्त कार्रवाई शुरू करेंगे कि इस तरह की घटना कहीं दोबारा न घटे. सूरत में लगी आग से हम बहुत दुखी हैं.” उन्होंने कहा कि गुजरात में 9,965 संपत्तियों को नोटिस जारी किए गए हैं, और इसके लिए 713 टीमें तैनात की गई हैं.

सिंह ने कहा कि शनिवार और रविवार के बीच प्रशासन ने अग्नि सुरक्षा नियमों के विभिन्न उल्लंघनों के लिए सूरत में कम से कम 50 संपत्तियों को सील कर दिया है. सूरत में 1,123 संपत्तियों को अग्नि सुरक्षा नियमों का पालन करने के लिए नोटिस जारी किए गए हैं.

ये भी पढ़ें: अमेठी पहुंचीं स्मृति ईरानी, BJP कार्यकर्ता की अर्थी को दिया कंधा

Related Posts