नाथूराम गोडसे का जन्मदिन मनाने पर हिन्दू महासभा के 6 कार्यकर्ता गिरफ्तार

पुलिस ने बताया कि हिन्दू महासभा के कार्यकर्ताओं ने मंदिर परिसर में महात्मा गांधी के हत्यारे नाथूराम गोडसे के जन्मदिन का जश्न मनाया था.

गांधीनगर. हन्दू महासभा के कार्यकर्ताओं ने सूरत के लिम्बायत इलाके के एक मंदिर में महात्मा गांधी के हत्यारे नाथूराम गोडसे का रविवार को कथित रूप से जन्मदिन मनाया. जिसके बाद पुलिस ने हिन्दू महासभा के 6 कार्यकर्ताओं को गिरफ्तार कर लिया. गोडसे का जन्म 19 मई, 1910 में पुणे जिले के बारामती में हुआ था, तब वह बॉम्बे प्रेसीडेंसी का हिस्सा हुआ करता था.

सूरत के पुलिस कमिश्नर सतीश शर्मा के मुताबिक, लिम्बायत इलाके के सूर्यमुखी हनुमान मंदिर में हिन्दू महासभा के कार्यकर्ताओं ने जश्न का आयोजन किया था, जिसके बाद सोमवार को उन्हें गिरफ्तार कर लिया गया.

शर्मा ने कहा, “गोडसे की जयंती मनाने के दौरान हिंदू महासभा के सदस्यों ने गोडसे की तस्वीर के चारों ओर दीप जलाए, मिठाइयां बांटी और मंदिर परिसर में भजन गाए. उन्होंने इसका वीडियो भी बनाया और कार्यक्रम की तस्वीरें भी लीं.”

ये भी पढ़ें: Exit Poll में दिग्विजय सिंह को पछाड़ती दिख रहीं प्रज्ञा ठाकुर

ये भी पढ़ें: Exit Poll में कन्हैया-शरद-शत्रुघ्न जैसे दिग्गजों की हार, जानें बिहार की VVIP सीटों का हाल

शर्मा ने आगे बताया, “गांधीजी की हत्या करने वाले गोडसे को श्रद्धांजलि देने के उनके कार्य ने नागरिकों की भावनाओं को गहरी चोट पहुंचाई है. यह लोगों को उकसाने और शांतिपूर्ण माहौल को बिगाड़ने की कोशिश थी.” अधिकारीयों ने बताया कि IPC की धारा 153 (दंगा भड़काने के लिए उकसाना), 153A (विभिन्न समूहों के बीच दुश्मनी को बढ़ावा देना, सद्भाव के बिगाड़ने के लिए नुकसानदेह कार्य करना) और 153B (राष्ट्रीय एकीकरण के खिलाफ गलत दावे करना) के तहत 6 लोगों को गिरफ्तार किया गया है.

पुलिस ने गिरफ्तार लोगों की पहचान हिरेन मशरू, वला भारवाड, वीराल माल्वी, हितेश सुनार, योगेश पटेल और मनीष कलाल के रूप में की.

बता दें कि, हाल ही में भोपाल लोकसभा सीट से भारतीय जनता पार्टी की प्रत्याशी प्रज्ञा ठाकुर ने गोडसे को देशभक्त बताया था. साथ ही केन्द्रीय मंत्री अनंत कुमार हेगड़े ने ट्वीट कर प्रज्ञा ठाकुर के बयान का समर्थन किया था.हालांकि हेगड़े ने बाद में कहा कि उनका ट्विटर अकाउंट हैक कर लिया गया था. बाद में पीएम मोदी ने प्रज्ञा ठाकुर के बयान की निंदा की थी.