Wrong Reports : किन वजहों से गलत आ जाती है कोरोना की रिपोर्ट, जानिए कारण

कई बार ऐसा हो सकता है कि कोरोना जांच (Corona Test) की रिपोर्ट गलत (wrong Report) आ सकती है. ऐसे होने के पीछे कई कारण हो सकते हैं. लेकिन हम आपको तीन कारण बता रहे है.

दुनियाभर में कोरोना (Corona) का कहर जारी है. ऐसे में हल्के लक्षण और एसिम्टोमैटिक लक्षण (Asymptomatic Symtom) की वजह से लोग अक्सर कंफ्यूज रहते हैं कि उन्हें कोरोना टेस्ट करना चाहिए या नहीं. खासकर तब जब सभी कार्यस्थल और सार्वजनिक जगहों को दोबारा खोल दिया गया है. देश में बड़े पैमाने पर कोरोना जांच की जा रही है. आरटी-पीसीआर टेस्ट में सबसे स्टीक परिणाम नजर आते हैं ऐसे स्थिति में बहुत कम संभवाना है कि कोरोना टेस्ट की रिपोर्ट गलत आएं.

कई बार ऐसा हो सकता है कि कोरोना जांच की रिपोर्ट गलत आ सकती है. ऐसे होने के पीछे कई कारण हो सकते हैं. लेकिन हम आपको तीन कारण बता रहे है.

अगर आप समय से पहले जांच करा लें

लक्षण दिखने के 2 से 4 दिन के अंदर टेस्ट करना सही नहीं है. ऐसे में आपको सही रिजल्ट नहीं मिलेगा. क्योंकि वायरस के लक्षण को दिखने में कम से कम एक से दो हफ्ते लग सकते है. ऐसे में जल्दी जांच कराने का कोई फायदा नहीं है. जल्दी जांच कराने  पर आपकी रिपोर्ट गलत आएगी. क्या पता आपको इंफेक्शन हो. हालांंकि लोगों की सलाह होती हैं कि पहले हफ्ते में टेस्ट के लिए जाएं और शंका होने पर दोबारा टेस्ट कराएं.

#KumarSanu: कुछ मांग रहे दुआ तो कुछ इस सिचुएशन पर भी ले रहे मजा

corona test
कोरोना जांच

स्वाब टेस्ट सही से जांच नहीं करता है

आरटी-पीसीआर टेस्ट के दौरान आपके नाक और गले के पास से सैंपल कलेक्ट किया जाता है. परीक्षण पॉजिटिव (Positive) तब आता है जब वायरस डिटेक्ट होता है. हालांकि स्वाब सैंपल से रिपोर्ट गलत आने की संभावना तब है जब पर्याप्त मात्रा में वायरस विकसित नहीं हुआ हो. बता दें कि स्वाब सैंपल संवेदनशील क्यू टिप के सहारा से किया जाता है.

टेस्ट सैंपल खराब हो सकता है

कोविड-19 (Covid-19) एक नया इंफेक्शन है और जांच करने में समय और मेहनत लगती है. हालांकि इस टेस्ट की जांच रिपोर्ट आने में कम से कम 24 से 48 घंटों का समय लगता है. अगर सैंपल खराब हो जाए तो आपकी टेस्ट रिपोर्ट निगेटिव आएगी. सैंपल को सही तापमान में नहीं रखने पर आरएनए सही से काम कर सके.

हम एक बार फिर कहेंगे कि कोई भी टेस्ट 100 प्रतिशत सही नहीं होता है. अगर आपको लगता है कि आपकी रिपोर्ट निगेटिव आई है और आप संक्रमित हैं तो खुद को घर में आइसोलट कर लें. इससे आप दूसरे लोगों को संक्रमित नहीं करेंगे. इसका सीधा तरीका है आप 4 से 5 तक दिन तक के लिए खुद को क्वांरटीन करें. मास्क पहने और सोशन डिस्टेंसिंग (Social Distancing) का पालन करें. अपने डॉक्टर के सपंर्क में रहे और उनके द्वारा दी गई दवाओं को फॉलो करें.

Related Posts