ज्यादा मुलेठी खाने से हो सकती है मौत, इम्यूनिटी के बदले सेहत को नुकसान- स्टडी में खुलासा

एक रिपोर्ट में सामने आया है कि मुलेठी (Mulethi) का ज्यादा सेवन शरीर के लिए नुकसानदायक हो सकता है, यहांतक कि इसको ज्यादा खाने से मौत भी हो सकती है. 2012 के जैव प्रौद्योगिकी सूचना अध्ययन में बताया गया है कि ज्यादा मुलेठी खाना खतरनाक साबित हो सकता है.

आयुर्वेद में मुलेठी (Mulethi) को स्वास्थ्य के लिए बहुत ही फायदेमंद माना गया है, लेकिन हाल ही में एक मीडिया रिपोर्ट (Report) में सामने आया है कि मुलेठी का ज्यादा सेवन शरीर के लिए नुकसानदायक हो सकता है, इसको ज्यादा खाने से मौत भी हो सकती है.

एक मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक अमेरिका (America) के मैसाच्युसेट्स में एक निर्माण कार्य करने वाले मजदूर की ज्यादा शराब पीने की वजह से कार्डियक अरेस्ट से मौत हो गई.
लेकिन न्यू इंग्लैंड के जर्नल ऑफ मेडिसिन की रिपोर्ट के मुताबिक 54 साल के मजदूर में एसे कोई लक्षण नहीं मिले, जिससे साबित हो सके कि उसकी मौत ज्यादा शराब पीने की वजह से हुई.

ये भी पढ़ें- कोरोना के इलाज को भारत लेगा आयुर्वेद की मदद, हफ्ते भर बाद 4 दवाओं पर होगा ट्रायल

मुलेठी का ज्यादा सेवन से हो सकती है मौत-स्टडी

निगरानी के बाद सामने आया है कि मृत मजदूर को बहुत ज्यादा मुलेठी की कैंडी खाने की आदत थी, और यह भी पता चला है कि इसमें मौजूद ग्लाइसीरिज़िक एसिड की वजह से उसकी स्वास्थ्य (Health) स्थिति खराब हो गई थी, जिसकी वजह से उसे उच्च रक्तचाप, हाइपोकैलिमिया, उल्टी संबंधी बीमारी और गुर्दे फेल हो गए. ज्यादा शराब पीने की वजह से उसे यह परेशानियां हुईं. रिपोर्ट के मुताबिक मजदूर डेढ़ बैग शराब युक्त कैंडी ले रहा था, जबकि मानव शरीर के लिए इसकी औसतन मात्रा एक ग्राम होनी चाहिए.

हैरानी की बात है कि अमेरिका में खाने की कई चीजों में लोकप्रिय स्वीटनर के रूप में मुलेठी का इस्तेमाल किया जाता है. वहीं 2012 के जैव प्रौद्योगिकी सूचना अध्ययन में बताया गया है कि ज्यादा मुलेठी खाना खतरनाक साबित हो सकता है. इसके बारे में जागरुकता की जरूरत है.

अमेरिका में खाने की कई चीजों में मुलेठी का इस्तेमाल

भारत में किसी भी कैंडी और मिठाइयों में मुलेठी का उपयोग नहीं किया जाता है, भारत में मुलेठी का प्रयोग डॉक्टरों द्वारा सूखी खांसी या गले के संक्रमण के लिए दवा के रूप में करने की सलाह दी जाती है, या चाय और कहवा में एक मसाले के रूप में भी प्रयोग किया जाता है. भारत में इसे बहुत ही कम मात्रा में प्रयोग किया जाता है, इसलिए इससे कोई खतरा नहीं है.

ये भी पढ़ें- सारंडा की वन औषधियों से बन रहा ‘इम्युनिटी बूस्टर’ काढ़ा

जब स्वस्थ जीवन की बात आती है, तो मसाले और जड़ी-बूटियों को हमेशा आयुर्वेद द्वारा सबसे सुरक्षित माना गया है.  मुलेठी की जड़ भी एक फायदेमंद औषधि मानी जाती है, इसे अक्सर दवाओं के लिए इस्तेमाल किया जता है. ऐसा कहा जाता है कि इसमें ग्लाइसीरिजिक एसिड होता है, जिसकी वजह से इसका स्वाद मीठा लगता है. हाल ही में एक रिपोर्ट से पता चला है कि मुलेठी का ज्यादा सेवन स्वास्थ्य के लिए नुकसानदेह है, इससे मौत भी हो सकती है.

Related Posts