कोरोना: वैज्ञानिकों ने खोजी प्रभावी एंटीबॉडी, वैक्सीन बनाने में हो सकती है मददगार

जर्मन सेंटर फॉर न्यूरोडीजेनेरेटिव डिसीज (DZNE) और बर्लिन के वैज्ञानिकों ने संयुक्त रूप से की गई स्टडी में प्रभावी एंटीबॉडी मिलने का दावा किया है.

  • TV9 Hindi
  • Publish Date - 7:09 pm, Fri, 25 September 20
coronavirus antibodies
PS- Freepick

भारत समेत दुनियाभर के कई देश कोरोना महामारी के मार झेल रहे हैं. कई देश Covid-19 को खत्म करने के लिए वैक्सीन बनाने में जुटे हैं तो कहीं-कहीं वैक्सीन का ह्यूमन ट्रायल किया जा रहा है. इस बीच जर्नल सेल पत्रिका में प्रकाशित वैज्ञानिकों के अध्ययन से जुड़ी अच्छी खबर सामने आई है. वैज्ञानिकों ने स्टडी में पाया कि उन्हें एक तरह की बेहद ही प्रभावी एंटीबॉडी की खोज की है जो कोरोनावायरस के खिलाफ एक वैक्सीन को बनाने की प्रक्रिया में काफ़ी मददगार हो सकती है.

इस एंटीबॉडी के जरिए वैज्ञानिक आने वाले दिनों में एक पैसिव वैक्सीन बना सकते हैं. पैसिव वैक्सीन में वैज्ञानिक पहले से एक्टिव एंटीबॉडीज को इंसानी शरीर में दाखिल कराते हैं, जबकि एक्टिव वैक्सीन मानव शरीर में खुद के जरिए एंटीबॉडीज का निर्माण करती है.

जर्मन सेंटर फॉर न्यूरोडीजेनेरेटिव डिसीज (DZNE) और चैरिटे – यूनिवर्सिट्समेडिज़िन बर्लिन के वैज्ञानिकों ने Covid-19 को मात देने वाले व्यक्तियों के ब्लड से लगभग 600 अलग-अलग एंटीबॉडी को बनाया. लैब में टेस्ट के जरिए इन वैज्ञानिकों ने 600 एंटीबॉडीज में से कोरोना के खिलाफ एक्टिव कुछ एंटीबॉडीज की पहचान की. ये एंटीबॉडी इस तरह बनी है जो प्रभावी वैक्सीन बनाने में काफी मददगार हो सकती है.

ये भी पढ़ें- कोरोनावायरस वैक्सीन Tracker: टीका बनाने के लिए डब्ल्यूएचओ अधिकारी ने की रूस की सराहना

इससे पहले भारतीय मूल के श्रीराम सुब्रमण्यम समेत कनाडा की ब्रिटिश कोलंबिया यूनिवर्सिटी के शोधकर्ताओं ने अपने परीक्षण में SARS-CoV-2 से संक्रमित चूहे पर एबी8 दवा को आजमाया था. उन्होंने संक्रमण की रोकथाम और उपचार में इस दवा को काफी हद तक प्रभावी पाया था.

शोधकर्ताओं का कहना था कि नन्हा आकार होने की खासियत से यह मॉलिक्यूल कोरोनावायरस को बेअसर करने में टिश्यू की क्षमता को बढ़ाता है. यह दवा मानव कोशिकाओं से जुड़ती नहीं है, जो एक अच्छा संकेत है. इससे लोगों पर किसी दुष्प्रभाव की आशंका नहीं के बराबर है.

ये भी पढ़ें- डेंगू बुखार से पीड़ितों में बढ़ती है कोविड-19 की इम्युनिटी, ब्राजील में हुए शोध में वैज्ञानिकों का दावा