आज ही के दिन 15 साल पहले धोनी के दमदार हमले से पाकिस्तान हुआ था ढेर

आज महेंद्र सिंह धोनी और भारतीय क्रिकेट फैंस के लिए एक खास दिन है. आज से ठीक 15 साल पहले धोनी ने वो कारनामा कर दिखाया था जिसके बाद उनकी बल्लेबाजी के लोग कायल हो गए थे.
Today 15 years ago Pakistan was defeated, आज ही के दिन 15 साल पहले धोनी के दमदार हमले से पाकिस्तान हुआ था ढेर

महेंद्र सिंह धोनी, ये वो नाम है जो पिछले करीब 9 महीने से क्रिकेट के मैदान से दूर है. कमबैक को लेकर लगातार चर्चा में है. लेकिन अब तक तस्वीर साफ नहीं हुई है. कोरोना वायरस की वजह से मैदान पर वापसी भी आईपीएल के स्थगित होने के साथ पीछे खिसक चुकी है. लेकिन आज धोनी और भारतीय क्रिकेट फैंस के लिए एक खास दिन है. आज से ठीक 15 साल पहले महेंद्र सिंह धोनी ने वो कारनामा कर दिखाया था जिसके बाद उनकी बल्लेबाजी के लोग कायल हो गए थे.

पाकिस्तान के खिलाफ छाए थे धोनी

5 अप्रैल 2005, यानी आज से ठीक 15 साल पहले. भारत और पाकिस्तान के बीच विशाखापट्टनम में वनडे सीरीज का दूसरा मैच खेला गया था. भारतीय टीम पहले मैच में पाकिस्तान को हरा चुकी थी. भारत के पास 6 वनडे मैच की सीरीज में 1-0 की बढ़त थी. दूसरा वनडे मैच शुरू हुआ. सौरव गांगुली टीम इंडिया के कप्तान थे. दादा ने टॉस जीता और पहले बल्लेबाजी का फैसला किया. सहवाग और सचिन तेंडुलकर टीम के रेग्युलर ओपनर थे. दोनों ने भारतीय पारी का आगाज किया. चौथे ओवर की दूसरी गेंद पर ही सचिन 2 रन बनाकर आउट हो गए. सचिन के आउट होने के बाद तीसरे नंबर पर बल्लेबाजी करने गांगुली को आना था. लेकिन गांगुली ने बल्लेबाजी क्रम में एक बड़ा बदलाव किया.

देखिए NewsTop9 टीवी 9 भारतवर्ष पर रोज सुबह शाम 7 बजे

इस बार तीसरे नंबर पर बल्लेबाजी करने आए थे महेंद्र सिंह धोनी. धोनी सातवें नंबर पर बल्लेबाजी करते थे लेकिन इस मैच में गांगुली ने धोनी पर विश्वास जताया और उन्हें अपनी जगह तीसरे नंबर पर मैदान में भेजा. सभी की निगाहें धोनी पर थी. धोनी को वनडे टीम में डेब्यू किये 3 महीने से भी कम ही वक्त हुआ था. ये उनकी दूसरी ही वनडे सीरीज थी. ऐसे में पाकिस्तान के खिलाफ मैच का दबाब भी टीम पर था. खैर धोनी ने बल्ले को संभाला और पहली ही गेंद पर चौका लगाकर अपने इरादे दिखा दिए.

विकेट के एक सिरे पर विस्फोटक वीरेंद्र सहवाग थे तो दूसरे सिरे पर धमाकेदार धोनी. इन दोनों ने पाकिस्तान के गेंदबाजों को पसीने छुड़ा दिए. हर बाउंड्री पर विशाखापत्तनम स्टेडियम में बैठे भारतीय दर्शक तालियों से अपने खिलाड़ियों का हौसला बढ़ा रहे थे. महेंद्र सिंह धोनी को भारतीय क्रिकेट में उभरते हुए देखा जा रहा था. धोनी और सहवाग के बीच 96 रन की साझेदारी हुई. इसके बाद सहवाग 74 रन बनाकर आउट हो गए. इसके बाद गांगुली आए और 9 रन जोड़कर वो भी पवेलियन लौट गए. लेकिन धोनी ने मोर्चा संभाले रखा.

धोनी ने वनडे करियर का पहला शतक जड़ा

चौथे ओवर में बल्लेबाजी करने आए धोनी ने 42वें ओवर तक पाकिस्तानी गेंदबाजों को जमकर परेशान किया. उन्होंने अपने वनडे करियर का पहला शतक जड़ा. ये शतक इसलिए भी खास था क्योंकि ये भारत का आर्च राइवल पाकिस्तान के खिलाफ था. जिसमें टीम इंडिया को जीत दिलाने में अहम भूमिका निभाई थी. धोनी ने 120 की स्ट्राइक रेट से बल्लेबाजी करते हुए 148 रन की शानदार पारी खेली. इस दौरान उनके बल्ले से 15 चौके और 4 छक्के भी निकले. भारतीय टीम ने 58 रन से पाकिस्तान को हराया था.

गांगुली को था धोनी पर भरोसा

पाकिस्तान के खिलाफ भारतीय टीम की शानदार जीत के बाद विश्व क्रिकेट में धोनी के नाम की चर्चा शुरू हो चुकी थी. मैच खत्म होने के बाद प्रेजेंटेशन सेरेमनी के वक्त सौरव गांगुली से धोनी के बारे में सवाल किया गया था कि उन्होंने धोनी को अपनी जगह नंबर तीन पर क्यों भेजा था. गांगुली ने जवाब देते हुए कहा था कि मैंने धोनी के बारे में काफी खबरें पढ़ी थी. मैं जानता था कि धोनी में काफी क्षमता है. जब मैंने टॉस जीता तो मैंने तय कर लिया था कि धोनी को तीसरे नंबर पर ही मैदान पर उतारुंगा. फिर देखते हैं क्या होता है.

सौरव गांगुली ने जिस तरह धोनी पर भरोसा कर उन्हें नंबर 7 की जगह नंबर 3 पर भेजा. धोनी भी शतकीय पारी खेलकर गांगुली के भरोसे पर खरे उतरे. धोनी ने ये कारनामा आज ही दिन 15 साल पहले किया था. धोनी के वनडे करियर की ये पारी उनके करियर की बेहतरीन पारियों में से एक है. फिलहाल धोनी 2019 विश्व कप के बाद से टीम इंडिया से दूर हैं. उनकी वापसी का इंतजार लंबा ही होता जा रहा है. ऐसे में उनके क्रिकेटिंग करियर के भविष्य को लेकर अक्सर अलग-अलग खबरें आती रहती हैं. अब धोनी के ही फैसले का इंतजार है.

देखिये #अड़ी सोमवार से शुक्रवार टीवी 9 भारतवर्ष पर शाम 6 बजे

Related Posts